Uncategorized

डॉक्टरों की लापरवाही से हुई मरीज की मौत, लगाया खाली ऑक्सीजन सिलेंडर

News Wing
Dumka, 27 September: दुमका के सदर अस्पताल में डॉक्टरों ने मरीज को खाली ऑक्सीजन सिलेंडर लगा दिया जिससे उसकी मौत हो गई. मरीज बांधपाड़ा का रहने वाला चितरंजन दास बताया जा रहा है. इस मामले में डॉक्टरों की लापरवाही साफ तौर पर देखी जा सकती है, और लापरवाही भी इतनी बड़ी की मरीज की मौत हो गई.

महीज की मौत के बाद मृतक के परिजनों ने जमकर बवाल काटा और डॉक्टरो पर आरोप लगाया. हालांकि डॉक्टर इसके लिए परिजनों को ही दोषी मानकर पल्ला झाड़ते नजर आये.

क्या है मामला

Catalyst IAS
ram janam hospital

घटना के बारे में बता दें की दुमका के बांधपाड़ा निवासी चितरंजन दास की ऑक्सीजन की कमी से मंगलवार को दुमका के सदर अस्पताल में मौत हो गई. बता दें कि नर्स ने मरीज को खाली ऑक्सीजन सिलेंडर लगा दिया था. इधर परिजनों ने बताया कि चितरंजन को सांस लेने में परेशानी हो रही थी. जिसके बाद उन्हें सदर अस्पताल में इलाज के लिए  भर्ती कराया गया. जहां डॉक्टरों ने उनका इलाज किया और गैस की शिकायत बताते हुए आइसीयू में भर्ती कराया. तबीयत खराब होने पर नर्स ने जो ऑक्सीजन का सिलेंडर लगाया वो खाली था. सिलेंडर लगाने के महज पांच मिनट के बाद ही जितरंजन की मौत हो गई.

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

लापरवाही जैसी कोई बात नहीं: अस्पताल उपाधीक्षक

वहीं, अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ. दिलीप केशरी का कहना है कि अस्पताल में काफी संख्या में ऑक्सीजन के सिलेंडर उपलब्ध है. मरीज को खाली सिलेंडर लगाने का सवाल ही खड़ा नहीं होता है. आईसीयू में दो सिलेंडर रखा था जिसमें एक खाली था और एक भरा हुआ था. मरीज को भरा हुआ गैस सिलेंडर लगाया गया था. इसलिए लापरवाही जैसी कुछ बात नहीं हुई है. मरने के बाद भी मरीज को ऑक्सीजन देने का प्रयास किया गया. ऑक्सीजन यह सोचकर दी गई कि हो सकता है कि सांस लौट आए. क्योंकि कई बार ऐसे केस में सांस लौट आती है.

अस्पताल के एक अन्य डॉक्टर का कहना है कि मरीज की हालत काफी नाजुक थी जिसकी वजह से उसकी मौत हुई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button