न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

डीजीसीए को A-320 नियो विमानों की उड़ान योग्यता पर दाखिल करे हलफनामा: दिल्ली हाईकोर्ट

16

New Delhi: दिल्ली उच्च न्यायालय ने भारत में उड़ रहे ए 320 नियो विमानों की एयरक्राफ्ट नियमों के तहत सुरक्षा और उड़ान योग्यता पर नागरिक उड्डयन महानिदेशालय को हलफनामा दाखिल करने का मंगलवार को निर्देश दिया. कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरि शंकर की पीठ ने कहा कि हलफनामे पर डीजीसीए के संयुक्त निदेशक से नीचेपद के अधिकारी के हस्ताक्षर नहीं होने चाहिए. अदालत इस मामले में अब छह अप्रैल को आगे सुनवाई करेगी. 

इसे भी पढ़ें: इंडिगो ही नहीं एयर इंडिया, जेट एयरवेज, स्पाइसजेट के विमान भी तकनीकी खराबी की जद में

याचिकाकर्ता यशवंत शिनॉय ने अदालत को बताया कि ए 320 नियो विमानों के इंजन फेल होने के एक सौ मामले सामने आए हैं. उन्होंने दावा किया कि अमेरिका और यूरोपीय वायु क्षेत्र में इन विमानों को उड़ान भरने की अनुमति नहीं है. इसके बाद ही अदालत ने यह आदेश दिया है.

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल सरकार का बेहतरीन काम- दिल्ली में स्कूलों की संख्या के साथ-साथ दाखिला लेने वाले बच्चों की संख्या भी बढ़ी

शिनॉय की याचिका पर जारी हुआ नोटिस

अदालत ने 16 मार्च को शिनॉय का यह अनुरोध अस्वीकार कर दिया था कि सभी ए 320 नियो विमानों का संचालन रोक दिया जाए. सस्ती विमान सेवाप्रदाता इंडिगो और गोएयर इन विमानों का संचालन करती हैं. अदालत ने कहा कि शिनॉय की याचिका को अर्जी के तौर पर माना जाए और उन्होंने डीजीसीए को नोटिस जारी करते हुए एयरक्राफ्ट नियमों के तहत हलफनामा दायर करने का निर्देश दिया.  पीठ ने यह निर्देश देते हुए कहा कि यह सर्वविदित है कि कई ए320 नियो विमानों की उड़ान रोक दी गयी है. हाल ही में18 मार्च को एक विमान की उड़ान रोक दी गयी थी.  पीठ ने कहा, ‘ डीजीसीए बताए कि ये सुरक्षित हैं. डीजीसीए ने अदालत को बताया कि सुधारे गये ए 320नियो विमानों में इंजन के काम नहीं करने की14 शिकायतें मिली थीं और इनका संचालन रोक दिया गया. बाकी विमानों में सुधार नहीं किया गया और इसलिए सोच समझकर उनका संचालन नहीं रोकने का फैसला लिया गया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: