न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

डाल्टनगंज में डीजीपी ने कहा- अरविंद जी सरेंडर करें अथवा गोलियां खाने को तैयार रहें

29

बूढ़ा पहाड़ के विकास पर 8 हजार करोड़ खर्च करेगी सरकार

NEWSWING

Daltonganj, 02 December : इस वर्ष के अंत तक झारखंड को नक्सल मुक्त बनाने के अपने संकल्प पर राज्य सरकार तेजी से काम कर रही है. इस सिलसिले में नक्सलियों के शरण स्थलों को विकसित करने का कार्य तेज कर दिया गया है. इसी कड़ी में लातेहार-गढ़वा की सीमा पर अवस्थित और छतीसगढ़ से सटे बूढ़ा पहाड़ के विकास के लिए एक्शन प्लान तैयार किया गया है. सरकार इस क्षेत्र के विकास पर 8 हजार करोड़ रूपये खर्च करने का फैसला किया है. 

यह भी पढ़ें : लातेहार: बूढ़ा पहाड़ के उन इलाकों में सरकार बनवाने जा रही है सड़क, जहां कुछ माह बाद भर जायेगा पानी

सरकार नक्सलवाद के खात्मे के लिए गंभीर

शनिवार को नक्सलवाद की समीक्षा करने राज्य मुख्यालय से गढ़वा जिले के भंडरिया पहुंचे मुख्य सचिव राजबाला वर्मा और पुलिस महानिदेशक डीके पांडेय ने क्षेत्र के विकास के सभी पहलुओं पर विचार विमर्श किया. इस मौके पर मुख्य सचिव और डीजीपी ने नक्सलवाद के खात्मे और प्रभावी विकास के लिए विभिन्न विभागों को समन्वय बनाकऱ काम करने का निर्देश दिया. समीक्षा बैठक के बाद मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने कहा कि सरकार नक्सलवाद के खात्मे के लिए गंभीर है और बूढ़ा पहाड़ क्षेत्र के विकास के लिए एक्शन प्लान तैयार कर लिया गया है. उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में विकास और सुरक्षा अभियान साथ-साथ चलेगा. 

यह भी पढ़ें : क्या झारखंड पुलिस बूढ़ा पहाड़ इलाके में युद्ध क्षेत्र में इस्तेमाल होने वाले 81एमएम मोर्टार का इस्तेमाल कर रही है !

डीजीपी ने माओवादी नेता अरविंद जी को दी चेतावनी

पुलिस महानिदेशक डीके पांडेय ने इस महीने के अंत तक राज्य से नक्सलवाद के खात्मे का संकल्प दोहराते हुए माओवादी नेता अरविंद जी को कड़ी चेतावनी दी. उन्होंने कहा कि अरविंद जी या तो अपने आप को पुलिस के हवाले कर दें, अन्यथा गोलियां खाने को तैयार रहें.

यह भी पढ़ें : तीन बड़े माओवादी नेताओं की शरणस्थली होने के कारण कुख्यात बना बूढ़ा पहाड़

ये थे मौजूद

समीक्षा बैठक में राज्य के पुलिस प्रवक्ता आरके मल्लिक, पलामू प्रक्षेत्र के डीआईजी विपुल शुक्ला के अलावा पुलिस और सीआरपीएफ के कई आला अधिकारी मौजूद थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: