न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ट्रंप ने पूर्व जासूस को जहर देने के मामले में रूस से जवाब मांगा

24

London : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ब्रिटेन में पूर्व जासूस को जहर देने के मामले में रूस से स्पष्टीकरण मांगा है. इंग्लैंड द्वारा इसका जवाब देने के लिए तय समयसीमा बीत गयी है. उधर, रूस ने चेताया है कि शीतयुद्धकाल की साजिशों की तरह यदि उसे दंडित किया गया तो वह पलटवार करेगा. मास्को ने इन आरोपों का खंडन किया है कि डबल एजेंट की हत्या की कोशिश में उसका हाथ है. उसने ब्रिटेन की ओर से इस सवाल का जवाब देने के लिए निर्धारित मंगलवार मध्यरात्रि की समयसीमा का भी उल्लंघन किया कि सोवियत संघ में तैयार जहर ब्रिटेन में कैसेपहुंचा. बीती चार मार्च को सर्गेई स्क्रीपल और उसकी बेटी यूलिया को ब्रिटेन के सैलिस्बरी शहर में जान से मारने की कोशिश की गयी थी. इस घटना ने रूस और ब्रिटेन और उसके सहयोगी अमेरिका, नाटो और यूरोपीय संघ को आमने-सामने ला दिया है.

इसे भी पढ़ें: पलामू: कठौतिया कोल माइंस से कोयला लेकर निकल रहे वाहनों पर फायरिंग और बमबारी

संभावना  व्यक्त की जा रही है कि इन सब के पीछे रूस का हाथ हो

ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरिसा मे ने मास्को की ओर उंगली उठाई थी और कहा था कि इस बात की बहुत संभावना है कि इस घटना के पीछे रूस का हाथ हो. बढ़े तनाव के बीच उन्होंने कहा कि वह बुधवार को लंदन की प्रतिक्रिया बतायेंगी. टेरीजा के साथ  फोन पर ट्रंप ने कहा था कि रूस को इस घटना पर जवाब देना चाहिये जिसके बारे में माना जाता है कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से यह यूरोप में पहला हमला है. व्हाइट हाउस ने कहा कि दोनों नेताओं नेइस बात पर सहमति जतायी कि उन लोगों को परिणाम भुगतने के दायरे में लाने की जरूरत है जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन कर इस जघन्यअपराध को अंजाम दिया है.

इसे भी पढ़ें: वार्ड पांच के लोग कुएं का पी रहे हैं पानी, खराब सड़क जस के तस

ब्रिटेन ने जहर के नमूने देने से किया  इनकार

मास्को में विदेश मंत्री सर्गेई लवरोव ने जोर देकर कहा कि रूस कसूरवार नहीं है. उन्होंने कहा कि रूस ब्रिटेन के साथ सहयोग के लिए तैयार है लेकिन ब्रिटेन ने जहर के नमूने देने से इनकार कर दिया है जो उसने मांगे थे. रूस के दूतावास ने कहा कि उसने औपचारिक तौर पर ब्रिटेन से संयुक्त जांच की मांग की है और कहा है कि इसके बिना लंदन से किसी बयान का कोई मतलब नहीं है. बढ़ते राजनयिक तनाव का पहला संकेत यह है कि रूस ने धमकी दी है कि अगर क्रेमलिन समर्थित आरटी प्रसारक को प्रतिबंधित किया जाता है तो वह रूस में सभी ब्रिटिश मीडिया को प्रतिबंधित कर देगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: