न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड में 5522 पुरुष व 5297 महिला भिखारी, पश्चिम बंगाल में भिखारियों की संख्या सबसे अधिक, लक्षद्वीप में सिर्फ दो

24

New Delhi: हम कहीं भी जाएं भिखारी मिलना आम सी बात है. जाहे वो कोई धार्मिक स्थल हो, या पर्यटन स्थल. हर कहीं भिखारी दिखाई देते हैं. लेकिन आपको ये जानकार थोड़ी हैरानी जरुर होगी कि देश में सबसे ज्यादा भिखारियों की संख्या पश्चिम बंगाल में है, जबकि दो भिखारियों के साथ लक्ष्यद्वीप निचले पायदान पर है. झारखंड भिखारियों की संख्या के मामले में 12वें स्थान पर है. लोकसभा में सामाजिक कल्याण मंत्रालय के मंत्री थावरचंद गहलोत ने देशभर में भिखारियों की संख्या का डेटा पेश किया. दिए गए आंकड़े के अनुसार देश में इस समय कुल 4 लाख 13 हजार 760 भिखारी हैं जिनमें 221673 भिखारी पुरुष और बाकी महिलाएं हैं. भिखारियों की संख्या में पश्चिम बंगाल पहले पायदान पर है. पश्चिम बंगाल में कुल 81224 भिखारी हैं, इनमें 33086 पुरुष और 48158 महिलाएं हैं. वहीं दूसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश है. जहां कुल 65838 भिखारी हैं, इनमें 41859 पुरुष और 23976 महिलाएं है. भिखारियों के मामले में आंध्र प्रदेश तीसरे नंबर पर है. जहां भिखारियों की कुल संख्या 30218 है, जिसमें 16264 पुरुष और 13954 महिला भिखारी हैं.

इसे भी पढ़ें: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में फेसबुक यूजर्स की निजी जानकारियां बनी राजनीतिक हथियार, भारत के लिए भी खतरे की घंटी

झारखंड 12 वें पायदान पर

केंद्रीय मंत्री द्वारा लोकसभा में पेश किए गए डाटा के अनुसार झारखंड भिखारियों की संख्या में 12वें नबंर पर हैं. जहां 5522 पुरुष 5297 महिला भिखारी है. वही बिहार इस मामले चौथे स्थान पर है. जहां 29723 भिखारी हैं, इनमें 14842 पुरुष और 14881 महिलाएं है. सबसे कम भिखारियों की संख्या लक्षद्वीप में है.

इसे भी पढ़ें: कंबल घोटालाः एजी ने झारक्राफ्ट से धागा कंपनी और फिनिशिंग करने वाली कंपनी से पेमेंट वापस लेने को कहा

पूर्वोत्तर राज्यों की स्थिति बेहतर

list

लोकसभा में पेश आंकड़ों के हिसाब से भिखारियों की संख्या के मामले में पूर्वोत्तर के राज्यों की स्थिति काफी बेहतर है. पूर्वोत्तर के राज्यों में भिखारियों की संख्या बहुत कम है. अरुणाचल प्रदेश में सिर्फ 114 भिखारी हैं, नगालैंड में 124 और मिजोरम में सिर्फ 53 भिखारी ही हैं. संघ शासित प्रदेश दमन और दीव में 22 भिखारी हैं तो लक्षद्वीप में सिर्फ 2 ही भिखारी हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: