न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड में अब नहीं खुलेगी प्रज्ञान यूनिवर्सिटी, फर्जीवाड़े के खुलासे के बाद बैकफुट पर संस्थान, बड़ा सवाल क्या मंजूरी देने वाले अधिकारियों पर होगी कार्रवाई

58

Ranchi: 25 नवंबर 2016 को झारखंड में खूलने वाले प्रज्ञान यूनिवर्सिटी की लॉन्चिंग कोलकाता के पार्क स्ट्रीट होटल में हुई. विवि खोलने के लिए जरुरी प्रक्रिया का पालन किये बगैर सीधे विधानसभा एक्ट के तहत मंजूरी दे दी गई. इतना ही नहीं विश्वविद्यालय का प्रोस्पेक्टस विवि के कैंपस में ना लॉन्च करा कर सीधे मुख्यमंत्री के हाथों उनके कार्यालय में लॉन्च करा दिया गया. कोलकाता में इसी संस्थान के द्वारा फर्जी एमबीबीएस की डिग्रियां बांटी गई. उपर लिखे तथ्यों को पढ़कर मामले से ये समझा जा सकता है कि प्रज्ञान यूनिवर्सिटी पूरी तरह से फर्जी तरीके से झारखंड में संचालित होने वाला था, या संचालित किया जा रहा था. न्यूज विंग द्वारा इसपर खबर लिखे जाने के बाद ये मामला पूरी तरह से उजागर हुआ. अब प्रज्ञान यूनिवर्सिटी ने राज्य के उच्च शिक्षा तकनीकी एवं कौशल विकास विभाग को ये लिखित तौर पर दिया है कि वो अब झारखंड में अपनी यूनिविर्सिटी नहीं खोलेंगे. लेकिन मामला यहीं खत्म नहीं होता, अब सवाल ये उठता है कि जिन अधिकारियों के दवारा झारखंड में प्रज्ञान विवि खोलने की अनुमति दी थी, उनपर कोई कार्रवाई होगी या नहीं. क्योंकि ये तो साफतौर पर देखा जा सकता है कि नियमों की अनदेखी हुई, तो क्या नियमों को ताक पर रखने वाले अधिकारियों के इस कारनामे के लिए उन्हें बगैर किसी कार्रवाई के छोड़ देना चाहिए. 

kumar gaurav

Ranchi: 25 नवंबर 2016 को झारखंड में खूलने वाले प्रज्ञान यूनिवर्सिटी की लॉन्चिंग कोलकाता के पार्क स्ट्रीट होटल में हुई. विवि खोलने के लिए जरुरी प्रक्रिया का पालन किये बगैर सीधे विधानसभा एक्ट के तहत मंजूरी दे दी गई. इतना ही नहीं विश्वविद्यालय का प्रोस्पेक्टस विवि के कैंपस में ना लॉन्च करा कर सीधे मुख्यमंत्री के हाथों उनके कार्यालय में लॉन्च करा दिया गया. कोलकाता में इसी संस्थान के द्वारा फर्जी एमबीबीएस की डिग्रियां बांटी गई. उपर लिखे तथ्यों को पढ़कर मामले से ये समझा जा सकता है कि प्रज्ञान यूनिवर्सिटी पूरी तरह से फर्जी तरीके से झारखंड में संचालित होने वाला था, या संचालित किया जा रहा था. न्यूज विंग द्वारा इसपर खबर लिखे जाने के बाद ये मामला पूरी तरह से उजागर हुआ. अब प्रज्ञान यूनिवर्सिटी ने राज्य के उच्च शिक्षा तकनीकी एवं कौशल विकास विभाग को ये लिखित तौर पर दिया है कि वो अब झारखंड में अपनी यूनिविर्सिटी नहीं खोलेंगे. लेकिन मामला यहीं खत्म नहीं होता, अब सवाल ये उठता है कि जिन अधिकारियों के दवारा झारखंड में प्रज्ञान विवि खोलने की अनुमति दी थी, उनपर कोई कार्रवाई होगी या नहीं. क्योंकि ये तो साफतौर पर देखा जा सकता है कि नियमों की अनदेखी हुई, तो क्या नियमों को ताक पर रखने वाले अधिकारियों के इस कारनामे के लिए उन्हें बगैर किसी कार्रवाई के छोड़ देना चाहिए. 

इसे भी पढ़ें: ना बिल्डिंग, ना कार्यालय, दे दी विश्वविद्यालय की मान्यता, रघुवर दास ने प्रोस्पेक्टस भी जारी कर दी

 

कौन जिम्मेदारयह पता लगाने की नहीं हो रही कोशिश

 

photo

प्रज्ञान यूनिवर्सिटी पर बढ़ते विवाद के बादद अब सवाल यह भी उठने लगा है कि अगर पश्चिम बंगाल में इस संस्था को फर्जी एमबीबीएस डिग्रियां बेचने के आरोप में पकड़ा नहीं  गया होतातब झारखंड में विश्वविद्यालय खोलने के नाम पर चल रहे इस गोरखधंधे का पता भी नहीं चल पाता. हैरानी इस बात की भी है कि इतना बड़ा मामला सामने आने के बावजूद राज्य सरकार ने अब तक यह पता लगाने का आदेश नहीं दिया है कि राज्य सरकार के कौन-कौन से अफसर या नेता इस पूरी गड़बड़ी में शामिल हैं.

जो पाठ्यक्रम चलाने की घोषणा की गयी

एमए इन हेल्थ एजुकेशन

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

SMILE

एमएससी वेल्नेस मैनेजमेंट

एमएससी इन होलिस्टिक हेल्थ

एमएससी इन प्रीवेंटिव एंड प्रोमोटिव हेल्थ

एमएससी इन पब्लिक हेल्थ

 विभाग ने कभी नहीं देखा क्या चल रहा है विश्वविद्यालय में 

हैरानी की बात यह भी है कि एक बार इस विश्वविद्यालय के स्थापना की अनुमति  देने के बाद विभाग ने यह पता लगाने की भी जरुरत नहीं समझी कि आखिर इस विश्वविद्यालय द्वारा किस प्रकार के कोर्स चलाये जा रहे हैं. कोर्स चलाने के लिए विश्वविद्यालय के पास भौतिक संरचना या मानव संसाधन भी है या नहीं. एसके अग्रवाल पर एमबीबीएस की फर्जी डिग्री बांटने का आरोप है. जिसके लिए वह पहले इंडियन बोर्ड ऑफ अल्टरनेटिव मेडिसिन नामक संस्था के नाम का उपयोग करता था. लेकिन झारखंड विधानसभा से विश्वविद्यालय का दर्जा मिल जाने के बाद उसके लिए यह काम बेहद असान हो गया था. उसके द्वारा डिपार्टमेंट ऑफ अल्टरनेटिव एंड होलिस्टिक मेडिसन संस्था खोल कर सिर्फ चिकित्सा के क्षेत्र में 100 से भी कोर्स की घोषणा कर दी गयी. यहां तक कि पांच तरह की मास्टर डिग्री कोर्स शुरु किए जाने की भी घोषणा कर दी गयी थी.

विश्वविद्यालय झारखंड में, लॉन्चिंग कोलकाता के पार्क होटल में

प्रज्ञान इंटरनेशल विश्वविद्यालय के मामले में हैरानी की बात यह है कि इस विश्वविद्यालय की स्थापना के बगैर कोई प्रक्रिया किए सीधे विधानसभा से एक्ट पास करने के बाद राज्य सरकार ने कभी यह देखने की जरुरत नहीं समझा कि इस विश्वविद्यालय के नाम पर क्या फरजीवाड़ा हो रहा है. इस विश्वविद्यालय की स्थापना झारखंड के नाम पर की गयी थी. लेकिन इसकी लॉंचिंग का कार्यक्रम 25 नवंबर 2016 को कोलकाता के पार्क स्ट्रीट होटल में आयोजित की गयी थी. इसके अलावा इस विश्वविद्यालय का प्रोस्पेक्टस मुख्यमंत्री के कार्यालय में जाकर उनके हाथ से जारी करा दिया गया. जबकि मंत्री से ब्रोसर जारी करा दिया. विभाग के अधिकारियों ने कभी यह पूछने की जहमत नहीं किया कि जब विश्वविद्यालय रांची में खुला हैतो लॉंचिंग कार्यक्रम कोलकाता में क्यों

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: