Uncategorized

झारखंड छात्र संघ और आमिया ने की 16 अक्टूबर को उर्दू दिवस घोषित किये जाने की मांग

News Wing

Ranchi, 16 October: 16 अक्टूबर को उर्दू दिवस घोषित किये जाने की मांग को लेकर आज, बिहार क्लब रांची में झारखंड छात्र संघ और आमिया द्वारा मुख्यमंत्री के नाम गुजारीशनामा जारी किया गया. गुजारीशनामें के अनुसार, जिस प्रकार देश के दूसरे राज्यों में उर्दु दिवस मनायी जाती है, उसी प्रकार झारखंड सरकार अगामी 16 अक्टूबर को उर्दु दिवस घाषित कर अधिसूचना जारी करे.

16 अक्टूबर 2007 को उर्दू भाषा को द्वितीय भाषा की दी गयी थी मान्यता

मौके पर अधक्ष एसअली ने कहा कि बिहार पुर्नगठन अधिनियम 2000 के नियम के 84 के तहत राज्य प्रशासनिक सुधार और राज्य भाषा विभाग ने अधिसूचना संख्या 6807, 16 अक्टूबर 2007 को उर्दू भाषा को द्वितीय भाषा की मान्यता देते हुए विधानसभा, सभी विभाग के प्रधान सचिव, सचिव, प्रमंडल आयुक्त, उपायुक्त, अनुमंडल पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचल अधिकारी को निर्देशित किया था.

निर्देश के तहत

1 उर्दु में अर्जियों और आवेदन पत्रों की प्राप्ति और उर्दू में उनका उत्तर

2 उर्दू में लिखित दस्तावेजों का निबंधन कार्यालय द्वारा स्वीकार किया जाना.

3 महत्वपूर्ण सरकारी नियमों और वि-नियमों, अधिसूचनाओं का उर्दू में प्रकाशन.

4 सार्वजनिक महत्व के सरकारी आदेशों और परिपत्रों का उर्दू में जारी किया जाना.

5 राज्य जिला गजट के उर्दू रूपांतरण का भी प्रकाशन.

6 सरकारी कार्यालयों में महत्वपूर्ण संकेत पटटी को हिन्दी के साथ उर्दू में भी प्रदर्शित करना.

7 महत्वपूर्ण सरकारी विज्ञापनों का उर्दू में भी प्रकाशन.

8 42 उर्दू अनुवादक, 169 सहायक उर्दू अनुवादक, 131 उर्दू टंकक को मूल कार्य से हटाकर दूसरे कार्यों में लगा दिया गया.

9 उर्दू एकादमी गठन का मामला 2007 से राज्य भाषा विभाग और कल्याण विभाग के बीच लटका हुआ है. इनके अलावा ऐसे अन्य कई मामलों का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री से इसमें सुधार एवं कार्रवाई की अनुशंसा की गयी है.

कई लोग थे उपस्थित

मौके पर रंजीत उरांव, मो फुरकान, लतीफ आलम, अभिषेक पाठक, जियाउद्धीन अंसारी, लाली महतो, अमर उरांव, ईमरान अंसारी, शाहबाज हुसैन, शमी अहमद, अबरार अहमद, मनान अंसारी, अफसर आलम, आमिर शोहेल समेत कई लोग उपस्थित थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button