Uncategorized

झारखंड के सभी सांसदों के आदर्श गांवों के 1.5 लाख लोगों को मिलेगा पेयजल, सिर्फ सांसद महेश पोद्दार का आदर्श ग्राम छूटा

Ranchi: सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत झारखंड के सभी सांसदों के गोद लिये गये आदर्श ग्रामों में पाइपलाइन से पेयजल की व्यवस्था करने की योजना बनायी गयी है. इसके तहत 100 करोड़ रुपये खर्च कर 20 पंचायतों में पेयजल की व्यवस्था की जायेगी, जिससे 1.5 लाख लोगों को पेयजल मिलेगा. पाइपलाइन से जलापूर्ति के लिए सभी गांवों के लिए अलग-अलग राशि स्वीकृत की गयी है. जल्द ही इन गांवों में पेयजल उपलब्ध कराने के लिए उपकरण लगाये जायेंगे. हैरानी की बात यह है कि योजना में राज्य के सभी लोकसभा और राज्यसभा सांसदों के आदर्श ग्राम को शामिल किया गया है, लेकिन राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार के आदर्श ग्राम के लिए यह व्यवस्था नहीं की गयी है. दैनिक हिंदुस्तान में छपी खबर में सभी सांसदों के आदर्श पंचायत के लिए राशि उपलब्ध दिखायी गयी है. इसमें सभी सांसदों का नाम है सिर्फ महेश पोद्दार ही छूटे हैं.

इसे भी पढ़ेंः स्वच्छता सर्वेक्षण में खरा उतरना डाल्टनगंज के लिए बड़ी चुनौती, साफ-सफाई की मुकम्मल व्यवस्था नहीं

सांसद महेश पोद्दार ने कहा योजना की जानकारी नहीं

ram janam hospital
Catalyst IAS

इस बाबत जब सांसद महेश पोद्दार से बात की गयी तो उन्होंने भी कहा कि इस योजना के बारे में उन्हें कुछ भी पता नहीं है. उन्होंने कहा कि आदर्श ग्राम के लिए सड़क, बिजली, पानी समेत कई योजनाएं पहले से चल रही है. पाइपलाइन से होने वाली जलापूर्ति योजना के बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है. जाहिर है कि जब सांसद को इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है तब निश्चित रूप से उनका आदर्श ग्राम इस योजना में शामिल नहीं है. अब तो यह विभाग और सरकार ही बता सकती है कि आखिर क्यों सभी सांसदों और एक पूर्व सांसद के आदर्श ग्राम को इस योजना में शामिल किया गया और महेश पोद्दार के आदर्श ग्राम को क्यों छोड़ दिया गया.

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढ़ेंः 12.25 करोड़ के गहनों की अजब चोरी की गजब कहानीः चोर ने चोरी की, गहने छोड़ गए दुकान के उपर बनी पानी टंकी में

किस लोकसभा सांसद के पंचायत के लिए कितनी राशि

सांसद                   संसदीय क्षेत्र         आदर्श ग्राम               लागत

रविंद्र पांडेय               गिरिडीह          मैनाटांड पंचायत           11.46 करोड़

कड़िया मुंडा               खूंटी             परासी पंचायत             1.89 करोड़

शिबू सोरेन               दुमका           हरोरायडी रंगा पंचायत        2.80 करोड़

जयंत सिन्हा              हजारीबाग        जरवा पंचायत               6 करोड़

लक्ष्मण गिलुआ            चाईबासा         बिला पंचायत              10 करोड़

रामटहल चौधरी            रांची             हहाप पंचायत             4.24 करोड़

सुदर्शन भगत             लोहरदगा         बिशुनपुर पंचायत           6.48 करोड़

रवींद्र राय                कोडरमा          गादी पंचायत              13.91 करोड़

पीएन सिंह                धनबाद          रतनपुर पंचायत           7 करोड़

विजय हांसदा              राजमहल        तलझारी पंचायत           4.42 करोड़

सुनील सिंह               चतरा            कैडीनगर पंचायत           5 करोड़

निशिकांत दुबे             गोड्डा           बोहा पंचायत               15.23 करोड़

विद्युतवरण महतो         जमशेदपुर        बुंगुरदा पंचायत             5 करोड़

बीडी राम                 पलामू           किशुनपुर पंचायत           27.78 करोड़

इसे भी पढ़ेंः तेजस्वी यादव, रघुवंश, मनीष तिवारी और शिवानंद तिवारी को अवमानना नोटिस, 23 जनवरी को कोर्ट के समक्ष उपस्थित होने का निर्देश

राज्यसभा सांसदों के पंचायत और राशि

सांसद                      पंचायत                  राशि

एमजे अकबर              पालकोट पंचायत           10.27 करोड़

प्रेमचंद गुप्ता              चोपनडीह पंचायत           6.56 करोड़

प्रदीप बलमुचू              भालकीडीह पंचायत          9.27 करोड़

संजीव कुमार               टुंडी पंचायत               55.27 करोड़

परिमल नाथवाणी           बड़ाम पंचायत              6 करोड़

धीरज साहू(पूर्व सांसद)       केकरगढ़ पंचायत            5 करोड़

इसे भी पढ़ेंः गुमशुदगी के सात महीने बाद भी पुलिस ने नहीं दर्ज की FIR, मां की गुहार पर पुलिस उठाती है बेटी के चरित्र पर सवाल

क्या है सांसद आदर्श ग्राम योजना

सांसद आदर्श ग्राम योजना भारत सरकार की योजना है. सांसदों द्वारा हर साल एक-एक ग्राम पंचायत को आदर्श बनाना है.  सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार की केंद्र प्रायोजित पायलट परियोजना है. इसके तहत झारखंड के छह जिले चतरा, पलामू, देवघर, हजारीबाग, गिरिडीह व बोकारो के 100 अनुसूचित जाति बहुल गांवों का चयन किया गया है. इसके तहत गांवों में आधारभूत संरचना के निर्माण, पेयजल आपूर्ति, एंबुलेंस उपलब्धता आदि सुनिश्चित करना है. अब इसमें 20 पंचायतों से संबंधित गांवों में पाइपलाइन से पानी उपलब्ध कराने की योजना है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button