Uncategorized

झारखंड की आंगनबाड़ी सेविकाओं को मिलेंगी 12 की जगह 18 दिन की छुट्टियां

Ad
advt

Ranchi: झारखंड के आगनबाड़ी सेविकाओं की छुट्टियां 12 दिन से बढ़कर 18 दिन कर दी गई हैं. साथ ही सूबे के उत्‍पाद विभाग को मजबूत करने के लिए स्‍वीकृत पदों का पुनर्गठन किया जायेगा. ऐसी ही कई महत्‍वपूर्ण निर्णय मंगलवार को झारखंड सरकार के मंत्रीपरिषद ने लिया है.

मंत्रिपरिषद की बैठक में निर्णय लिया गया है कि समेकित बाल विकास योजना के अंतर्गत आंगनबाड़ी सेविका/ सहायिका के  देय आकस्मिक अवकाश अधिकतम 18 दिन अनुमान्य करने की स्वीकृति दी गई. 

advt

The Jharkhand Lift and Escalators Act, 2017 की धारा 23(1) तथा 23(2) के प्रदत्त शक्ति के तहत राज्य सरकार अधिसूचना के द्वारा नियम बना सकती है. इसके तहत तैयार किये गए The Jharkhand Lift and Escalators Rules, 2018 की स्वीकृति दी गई.

इसे  भी  पढ़ें :  मैट्रिक का रिजल्ट जारी , 59.48 फीसदी छात्र रहे सफल , हजारीबाग 74.75 फीसदी रिजल्ट के साथ टॉप पर

advt

उत्पाद विभाग का होगा सुदृृढिकरण

उत्पाद प्रशासन को सुदृढ़ करने के उद्देश्य से निरीक्षक उत्पादअवर निरीक्षक उत्पादसहायक अवर निरीक्षक उत्पादउत्पाद लिपिक एवं उत्पाद सिपाही के स्वीकृत पदों का पुनर्गठन करने की स्वीकृति दी गई. झारखंड पुलिस अंतर्गत विभिन्न नियुक्ति नियमावलियों में प्रावधानित चिकित्सीय परीक्षण में संशोधन की स्वीकृति दी गई.  

इसे भी पढ़ें : आजसू प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से की मुलाकात, कहा – रोका जाये दारोगा बहाली और जेपीएससी में स्थानीय की बहाली

साहिबगंज और चक्रधरपुर में होगा पीपीपी मोड पर सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट

साहिबगंज एवं राजमहल नगर निकायों अंतर्गत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन (Solid Waste Management) योजना के लोक- निजी भागीदारी (Public Private Partnership mode) की पद्धति के आधार पर समूह में कार्यान्वयन के लिये कुल लागत राशि ₹ 18557.35  लाख (एक सौ पचासी करोड़ सन्तावन लाख पैंतीस हजार) और BM  के केंद्र मदद से ₹ 823.27 लाख (आठ करोड़ तेईस लाख सताईस हजार) तथा राज्य योजना में 20 वर्षों में कुल राशि ₹ 8183.40 लाख (इक्यासी करोड़ तिरासी लाख चालीस हजार) अर्थात कुल ₹ 9006.67 लाख (नब्बे करोड़ छः लाख सड़सठ हजार) का अनुदान उपलब्ध कराने की स्वीकृति दी गई.              

चक्रधरपुर नगर परिषद अंतर्गत ठोस अपशिष्ट प्रबंधन (Solid Waste Management) योजना के लोक-निजी भागीदारी (Public Priveate Partnership Mode) की पद्धति के आधार पर कार्यान्वयन हेतु कुल लागत राशि ₹ 11352.75 लाख (एक सौ तेरह करोड़ बावन लाख पचहत्तर हजार) एवं SBM के केन्द्र मद से ₹ 559.16 लाख (पांच करोड़ उनसठ लाख सोलह हजार) तथा राज्य योजना मद से 20 वर्षों में कुल राशि ₹ 5781.01 लाख (संतावन करोड़ इक्कासी लाख एक हजार) अर्थात कुल ₹ 6340.17 लाख (तिरसठ करोड़ चालीस लाख सत्रह हजार) का अनुदान उपलब्ध कराने की स्वीकृति दी गई. झारखंड गवर्नमेंट टूल रूम मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन एवं रूल्स एंड रेगुलेशन का अनुमोदन किया गया.

झारखंड में स्टार्टअप वेंचर कैपिटल को प्रोत्साहन

झारखंड में स्टार्टअप वेंचर कैपिटल को प्रोत्साहन देने के लिए राज्य सरकार द्वारा झारखंड  स्टार्टअप वेंचर केपिटलझारखंड वेंचर कैपिटल ट्रस्टी लिमिटेड एवं झारखंड स्टार्टअप एंड एमएसएमई फंड की स्थापना को स्वीकृति प्रदान की गई.    

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

 

advt
Adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: