Uncategorized

जेएमएम के कोयला चोर विधायक योगेंद्र प्रसाद महतो की सदस्यता खत्म, 31 जनवरी को कोर्ट ने सुनायी थी सजा

Ranchi: झारखंड मुक्ति मोर्चा के विधायक योगेंद्र महतो की सदस्यता को विधानसभा ने खत्म कर दी है. विधानसभा के अध्यक्ष दिनेश उरांव ने उनकी सदस्यता को 31 जनवरी 2018 की तारीख से खत्म करने का आदेश जारी किया गया है. 10 फरवरी को इससे संबंधित अधिसूचना जारी की गयी. उल्लेखनीय है कि 31 जनवरी 2018 को रामगढ़ जिला की एक अदालत ने विधायक योगेंद्र महतो को कोयला चोरी के एक मामले में तीन साल की सजा सुनायी थी.

Ranchi: झारखंड मुक्ति मोर्चा के विधायक योगेंद्र महतो की सदस्यता को विधानसभा ने खत्म कर दी है. विधानसभा के अध्यक्ष दिनेश उरांव ने उनकी सदस्यता को 31 जनवरी 2018 की तारीख से खत्म करने का आदेश जारी किया गया है. 10 फरवरी को इससे संबंधित अधिसूचना जारी की गयी. उल्लेखनीय है कि 31 जनवरी 2018 को रामगढ़ जिला की एक अदालत ने विधायक योगेंद्र महतो को कोयला चोरी के एक मामले में तीन साल की सजा सुनायी थी.

इसे भी पढ़ेंः झामुमो विधायक योगेंद्र महतो को कोयला चोरी में तीन साल की सजा, खत्म होगी विधायकी

नौ साल तक नहीं लड़ पायेंगे चुनाव

Sanjeevani

योगेंद्र महतो को अदालत ने तीन साल की सजा सुनायी है. सजा की अवधि समाप्त होने के बाद से छह साल तक वह किसी भी तरह का चुनाव नहीं लड़ पायेंगे. मतलब आज के समय से अगले नौ साल तक वह चुनाव नहीं लड़ पायेंगे. योगेंद्र महतो झामुमो पार्टी से गोमिया विधानसभा क्षेत्र के विधायक थे. उन्हें सजा सुनाए जाने के बाद से गोमिया विधानसभा में उप चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों की सक्रियता बढ़ गयी है. 

इसे भी पढ़ेंः मनोबल तोड़ने वाला है आईएएस अधिकारियों का तबादला, सीनियर को भेजा गिरिडीह और जूनियर को बुलाया रांची, दो युवा आईएएस को डाल दिया वेटिंग फॉर पोस्ट में

वर्ष 2010 में हुआ था कोयला चोरी का केस

जानकारी के मुताबिक योगेंद्र महतो मूल रुप से रामगढ़ के रहने वाले हैं. रजरप्पा थाना क्षेत्र में उनका दो हार्डकोक भट्ठा था. वर्ष 2010 में अवैध कोयला की बरामदगी के बाद पुलिस ने रजरप्पा थाना में उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी. मामले में पुलिस ने योगेंद्र महतो के खिलाफ चार्जशीट दाखिल किया था. जिसके बाद कोर्ट में ट्रायल चल रहा था. 31 जनवरी को अदालत ने उन्हें तीन साल की सजा सुनायी. 

इसे भी पढ़ेंः रघुवर सरकार ने माओवादी व टीपीसी को धन मुहैया कराने वाले रघुराम रेड्डी के खिलाफ नहीं की कार्रवाई

रद्द हो गयी थी कमल किशोर भगत की सदस्यता

इस विधानसभा के कार्यकाल में योगेंद्र महतो से पहले आजसू विधायक कमल किशोर भगत को भी अदालत ने सजा सुनायी थी. जिसके बाद उनकी सदस्यता रद्द हो गयी थी. कमल किशोर भगत को करीब तीन दशक पुराने मामले में अदालत ने सजा सुनायी थी. जिसमें उन्होंने चिकित्सक केके सिन्हा के क्लीनिक में घुसकर उनके साथ मारपीट की थी.

इसे भी पढ़ेंःकहीं आपका भी लोकेशन तो नहीं हो रहा ट्रेस

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button