न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जिला परिवहन पदाधिकारी के साथ मारपीट के आरोपी राजधनी यादव जेल से हुये रिहा, समर्थकों ने निकाला जुलूस

29

Latehar : जिला परिवहन पदाधिकारी पी बारला के साथ कथित मारपीट के आरोपी जिला 20 सूत्री कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष राजधनी प्रसाद यादव बुधवार की शाम मंडल कारा लातेहार से रिहा हो गये. उनकी रिहाई की खबर सुनते ही मंडल कारा के सामने उनके समर्थकों की भारी भीड़ उमड़ गयी. जैसे ही श्री यादव मंडल कारा से बाहर निकले, समर्थकों ने उन्हें फूल मालाओं से लाद दिया और जमकर नारेबाजी की. इसके बाद समर्थकों ने शहर में एक जुलूस निकाल कर उनका स्वागत किया. श्री यादव के अधिवक्ता सुनील कुमार एवं उच्च न्यायालय के अधिवक्ता प्रशांत कुमार राहुल ने बताया कि झारखंड उच्च न्यायालय ने उनकी जमानत की अर्जी 12 मार्च को स्वीकार किया था. न्यायिक हिरासत में रिम्स में इलाजरत होने की वजह से उनकी रिहाई में विलंब हुआ है. रिम्स प्रबंधन के द्वारा उन्हें डिस्चार्ज करने के बाद जिला पुलिसप्रशासन कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बुधवार की शाम तकरीबन चार बजे उन्हें मंडल कारा में शिफ्ट किया. मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी तौफिक अहमद ने श्री यादव की ओर दायर बंध पत्र को स्वीकार करते हुए उन्हें रिहा करने का आदेश मंडल कारा को भेजा.

इसे भी पढ़ें – तत्कालीन भवन निर्माण विभाग की प्रधान सचिव राजबाला वर्मा ने टेंडर मैनेज करने वाले इंजीनियरों को दिया संरक्षण, सरयू राय ने जांच के लिए सीएम को लिखी चिट्ठी

इसे भी पढ़ें – रांची : पार्ट वन की परीक्षा में आया सिलेबस से बाहर का प्रश्न , विरोध में 20 हजार परीक्षार्थियों ने जमा कर दी खाली आंसर शीट

इसे भी पढ़ें – कुख्यात राकेश भुइयां दस्ते का सफाया, अत्याधुनिक हथियार सहित शिकंजे में चार नक्सली

16 जनवरी को परिवहन पदाधिकारी से मारपीट मामले में जेल में बंद थे राजधानी यादव

ज्ञात हो कि गत 16 जनरवरी को जिला परिवहन पदाधिकारी एफ बारला ने श्री यादव पर मारपीट एवं जाति सूचक शब्दों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाकर लातेहार थाना में प्राथमिकी दर्ज करायी थी. जिसके बाद लातेहार थाना पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर मंडल कारा भेज दिया था. जिला जज प्रथम सह विशेष न्यायाधीश ऋषिकेश कुमार की अदालत ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी थी. इसके बाद श्री यादव ने उच्च न्यायालय में जमानत के लिए आवेदन दिया था, जहां उन्हें 12 मार्च को जमानत पर रिहा कर दिया गया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: