न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जानें, भारत बंद में कहां क्या हुआ, देश भर में जोरदार प्रदर्शन, कई जगहों पर हिंसा, अागजनी व उत्पात, एमपी में कर्फ्यू

69

News Wing Desk :

“एससी/एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध बुलाये गये भारत बंद के दौरान देश के कई हिस्सों में बंद का व्यापक असर देखने को मिला, दिन भर बंद को सफल बनाने के लिए समर्थक सड़कों पर उतरे. बाजार को बंद कराया, वहीं कई जगहों पर बंद समर्थकों का जोरदार हंगामा और उग्र प्रदर्शन भी देखने को मिला. कुल मिलाकर कहें तो बंद के दौरान देश की रफ्तार काफी हद तक थमी सी नजर आई. बंद के दौरान देश के कई राज्यों से जोरदार विरोध प्रदर्शन की खबर आई.”

झारखंड में असरदार रहा बंद

Ranchi:  झारखंड की राजधानी रांची में बंद समर्थकों से निपटने के लिए प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए थे, इसके बावजूद कई जगहों पर बंद समर्थकों ने हंगामा मचाया. इस दौरान आदिवासी हॉस्टल के छात्र बंद कराने निकले थे. तभी छात्रों का गुट सड़क पर उत्पात मचाने लगा. वहां तैनात सुरक्षकर्मियों ने छात्रों को रोकने का प्रयास किया, लेकिन वे नही माने. इसी बीच छात्रों और पुलिस के बीच झड़प हो गयी. इसके बाद बंद समर्थक उग्र हो गए और पत्थरबाजी करने लगे. पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर बंद समर्थकों को खदेड़ा. सभी छात्र आदिवासी हॉस्टल परिसर के अंदर से ईंट-पत्थरों से पुलिस पर हमला करने लगे. जिसके बाद वहां तैनात सुरक्षकर्मियों ने आंसू गैस के गोले छोड़े. पत्थरबाजी में कई बंद समर्थक और पुलिसकर्मी घायल हो गये है. इनमें सिटी एसपी अमन कुमार ,सिटी डीएसपी राजकुमार के साथ अन्य आठ से दस पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. वहीं प्रदर्शन कर रहे दर्जनों छात्र-छात्राओं को भी चोटें आई हैं. बंद समर्थकों के उत्पात से जेल चौक के पास कुछ समय के लिए अफरातफरी मच गयी. लेकिन प्रशासन ने तुरंन्त एक्शन लेते हुए हालात पर काबू पा लिया. इस दौरान सैकड़ो बंद समर्थकों को गिरफ्तार कर कैम्प जेल भेज दिया गया.

आगजनी

इसे भी देखें- SC/ST एक्ट में बदलाव के खिलाफ भारत बंद, झारखंड में खासा असर-थमी रफ्तार, देखें वीडियो

सिटी एसपी

Chatra/ Hazaribagh/ Ramgarh :   इधर सूबे के चतरा, हजारीबाग और रामगढ़ जिले में भी भारत बंद दौरान दलित संगठनों और उनके समर्थकों ने जमकर प्रदर्शन किया. सड़कों पर उतरे बंद समर्थकों को नियंत्रण में रखने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती भी की गई थी.

Daltonganj : सुप्रीम कोर्ट द्वारा अनुसूचित जाति-जनजाति अधिनियम में संशोधन किए जाने के विरुद्ध एक दिवसीय भारत बंद का पलामू जिले में भी खासा असर देखा गया. अनुसूचित जनजाति मोर्चा के बैनर तले बड़ी संख्या में कार्यकर्ता सड़कों पर उतरे और विरोध प्रदर्शन किया. डालटनगंज के छहमुहान, रेड़मा चैक, सद्वीक चैक, साहित्य समाज चैक, बैरिया चैक को जाम कर बड़ी संख्या में बंद समर्थक धरने पर भी बैठे.

इसे भी देखें- भारत बंद का असर- साहिबगंज में रेल की पटरी पर उतरे प्रदर्शनकारी, रेल सेवा ठप

झड़प

Jhumritilaiya (Koderma):  सर्वोच्च न्यायालय द्वारा एससी-एसटी अत्याचार निवारण कानून में संशोधन के खिलाफ दलित उत्पीड़न संघर्ष समिति व अन्य दलित संगठनों ने संयुक्त रूप से झुमरीतिलैया में विशाल अपील मार्च निकाला. 

Sahebganj : वहीं, गंगा किनारे बसे जिले साहेबगंज में भी भारत बंद को सफल बनाने के लिए प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतरे. जहां देखते ही देखते विरोध प्रदर्शन ने तल्ख तेवर अखितियार कर लिया. साहिबगंज रेलवे स्टेशन पर पटरी पर बंद समर्थकों ने अपने हक की आवाज बुलंद की.

इसे भी देखें- एससी-एसटी एक्ट को लेकर राहुल का बीजेपी-आरएसएस के DNA पर सवाल, भाजपा का पलटवार

एमपी में भी प्रदर्शन के दौरान हिंसा , 4 की मौत 
भारत बंद के दौरान देश के कई हिस्सों में हिंसक प्रदर्शनों के बीच मध्य प्रदेश के भिंड, मुरैना और ग्वालियर में भी प्रदर्शनकारियों द्वारा हिंसा की खबरे हैं. संवेदनशील हालात को देखते हुए मुरैना में कर्फ्यू लगाए जाने की भी खबरें हैं. बंद के दौरान हिंसा के दौरान ग्वालियर और मुरैना को मिलाकर 4 लोगों की मौत हो गई. वहीं एमपी के मुख्यमंत्री सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि उनकी सरकार भी एससी-एसटी अधिनियम को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करेगी. 

बिहार में रुकी ट्रेनों की रफ्तार

भारत बंद का असर बिहार में व्यापक स्तर पर देखने को मिला. आरा, अररिया, फारबिसगंज, दरभंगा और जहानाबाद में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेनें रोक दी, जिससे घंटों यात्री परेशान रहे. राज्य के अलग-अलग इलाकों में प्रदर्शनकारियों ने टायर जलाकर और सड़कों पर जाम लगाकर गुस्से का इजहार किया.

यूपी में भी व्यापक असर 
बात यूपी की करें तो वहां भी कई दलित संगठनों ने मेरठ, आगरा, सहारनपुर, वाराणसी, गाजियाबाद जैसे शहरों में हिंसात्मक विरोध प्रदर्शन किया. मेरठ में बंद समर्थकों ने कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया. वहीं, पुलिस को प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए हल्का बल प्रयोग भी करना पड़ा. 

इसे भी देखें- भारत बंद: एससी-एसटी एक्ट में संशोधन का विरोध, सड़क पर उतरे लोग

हरियाणा में सड़क जाम कर विरोध प्रदर्शन 
हरियाणा में भी दलित समुदाय बंद के समर्थन में सड़क पर उतरा. गुड़गांव में भारत बंद के समर्थन में कन्हई गांव के लोगों ने आरडी सिटी गेट नंबर –2 के सामने जाम लगाकर प्रदर्शन किया, जबकि फरीदाबाद में देशव्यापी बंद को लेकर एनआईटी 5 पर रास्ता बंद कर प्रदर्शन किया गया. 

पंजाब में बस और मोबाइल सेवा पर भी असर 
पंजाब के अमृतसर सहित अन्य जिलों में बंद को देखते हुए भारी तादाद में पुलिस की तैनाती की गई. हालात के मद्देनजर पंजाब में बस और मोबाइल सेवाएं निलंबित कर दी गईं. सरकार ने पब्लिक ट्रांसपोर्ट सर्विस सस्पेंड करने के साथ सभी शिक्षण संस्थान भी बंद रखने का आदेश दिये थे.

इसे भी देखें- इराक में मारे गए भारतीयों के अवशेष वायुसेना के स्पेशल विमान से पहुंचा अमृतसर

ओडिशा में भी दिखा आक्रोश
ओडिशा के संबलपुर में भी एससी/एसटी प्रोटेक्शन ऐक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन रोकी, जबकि कई संगठनों ने सड़कों पर उतरकर अपना आक्रोश जताया. 

राजस्थान के बाड़मेर में हिंसक झड़प

राजस्थान के बाड़मेर में प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच हिंसक झड़प हुई. यहां प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया, यहां भी पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा. वहीं, राजधानी जयपुर में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेनों की रफ्तार रोकी. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: