न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

जानिये कैसे प्रेम जाल में फंसकर माओवादी मिलिट्री गुरिल्ला आर्मी का सदस्य बना एक मामूली दस्ता सदस्य

24

Latehar : प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के मिलिट्री कमीशन सदस्य सह एक करोड़ का इनामी झारखण्ड और छत्तीसगढ़ का कुख्यात नक्सली बिरसाय जी को उनके ही साथियों ने पार्टी के सभी पदों से हटाकर मामूली दस्ता सदस्य बना दिया है. बिरसाय जी माओवादी के पीपुल्स लिब्रेशन गुरिल्ला आर्मी की कम्पनी को निर्देश देता था, आज उसी कम्पनी में मामूली दस्ता सदस्य बन कर निर्देश का अनुपालन कर रहा है.

mi banner add

Manoj Dutt Dev

Latehar : प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के मिलिट्री कमीशन सदस्य सह एक करोड़ का इनामी झारखण्ड और छत्तीसगढ़ का कुख्यात नक्सली बिरसाय जी को उनके ही साथियों ने पार्टी के सभी पदों से हटाकर मामूली दस्ता सदस्य बना दिया है. बिरसाय जी माओवादी के पीपुल्स लिब्रेशन गुरिल्ला आर्मी की कम्पनी को निर्देश देता था, आज उसी कम्पनी में मामूली दस्ता सदस्य बन कर निर्देश का अनुपालन कर रहा है.

इसे भी पढ़ें – NEWSWING EXCLUSIVE: नौ लाख कंबलों में सखी मंडलों ने बनाया सिर्फ 1.80 लाख कंबल, एक दिन में चार लाख से अधिक कंबल बनाने का बना डाला रिकॉर्ड, जानकारी के बाद भी चुप रहा झारक्राफ्ट

इसे भी पढ़ें – NEWSWING EXCLUSIVE: झारखंड की बेदाग सरकार में हुआ 18 करोड़ का कंबल घोटाला, न सखी मंडल ने कंबल बनाये, न ही महिलाओं को रोजगार मिला

प्रेम जाल में फंसकर बिरसाय जी ने गंवाया अपना ओहदा

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 48 वर्षीय मिलिट्री कमीशन सदस्य बिरसाय जी छत्तीसगढ़ राज्य के बलरामपुर जिला के साबाग थाना क्षेत्र अन्तर्गत बुढा पहाड़ पर स्थित पुन्दाग ग्राम के एक आदिम जनजाति नाबालिक लड़की से दो वर्ष पूर्व प्रेम कर बैठा था और गत वर्ष फ़रवरी माह में नाबालिग ने एक नवजात को जन्म दिया. नवजात के जन्म लेते ही बिरसाय का कारनामा जंगल की आग की तरह फैल गयी, जिससे नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाला बुढा पहाड़ क्षेत्र में माओवादी की बदनामी होने लगी. माओवादी के शीर्ष नेता ने सूचना पाते ही होली पर्व के दौरान बुढा पहाड़ के चुनचुना में ग्रामीणों के साथ एक बड़ी बैठक आयोजित की, जिसका नेतृत्व स्टेट कमेटी के प्रभाकर और अजय यादव जैसे शीर्षस्थ नक्सली नेता ने किया और शीर्ष माओवादी द्वारा नाबालिग से प्रेम कर उसे मां बनाने के आरोप में बिरसाय जी को दण्ड के रूप में पार्टी के सभी पदों से हटा कर मामूली दस्ता सदस्य बना दिया गया. सूत्रों कि मानें तो बिरसाय जी को केवल पार्टी के पद से हटाया गया है, पार्टी से निकाला नहीं गया है.

इसे भी पढ़ें – टंडवा पुलिस के सामने खुले घूम रहे हैं डीबी पावर का 153 ट्रक कोयला चोरी कर बेचने वाले

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

इसे भी पढ़ें – जमशेदपुर : स्वर्णरेखा नदी पर वायुसेना का हेलीकॉप्टर क्रैश, पायलट ने कूदकर बचायी जान

जानिये कौन है एक करोड़ का इनामी बिरसाय जी

पीपुल्स लिब्रेशन गुरिल्ला आर्मी मिलिट्री कमीशन का सदस्य बिरसाय जी झारखण्ड राज्य के लातेहार जिला के चंदवा प्रखण्ड का रहने वाला है. माओवादी के कला जत्था दल से जुड़ कर बीस वर्षों की मेहनत के बाद उसे स्टेट कमेटी और मिलिट्री कमीशन का सदस्य सहित कई पद दिये गये. बिरसाय पर झारखण्ड और छत्तीसगढ़ राज्य सरकार द्वारा घोषित इनाम की राशि एक करोड़ से भी अधिक है. विगत सात-आठ वर्षों से बिरसाय जी झारखण्ड और छत्तीसगढ़ की सीमा पर स्थित बुढा पहाड़ को अपना शरण स्थली बना कर पार्टी के पीपुल्स लिब्रेशन गुरिल्ला आर्मी के लिए कार्य कर रहा था. वहीं झारखण्ड के गढ़वा और लातेहार जिला के सीमवर्ती इलाकों सहित छत्तीसगढ़ के सरगुजा इलाके में कई नक्सली घटनाओं को अंजाम दिया है. गत वर्ष छत्तीसगढ़ की सीमा पर लातेहार जिला के महुआडांड़ थाना अन्तर्गत कुकुटपाठ में आधा दर्जन बॉक्साइड लदे खड़े वाहनों को आग के हवाले किया था .

इसे भी पढ़ें – कर्नाटक के लिंगायत समुदाय की तरह सरना को मिले अलग धर्म का दर्जा, जेवीएम प्रमुख बाबूलाल ने की मांग

झारखण्ड और छत्तीसगढ़ दो राज्य की पुलिस बिरसाय के पीछे लगी है  

पीएलजीए बिरसाय जी को पार्टी के पदों से हटाने, पार्टी से निकाले जाने की सूचना पर झारखण्ड और छत्तीसगढ़ दोनों राज्य की पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों के कान खड़े हैं. दोनों राज्य की पुलिस और सुरक्षा एजेंसी बिरसाय जी तक पहुंचना चाहती है और सरेंडर करवाने के प्रयास में लगी हुई है. बिरसाय जी के सरेंडर करने से माओवादियों को बड़ा झटका लगेगा और बुढा पहाड़ के जिन इलाको में आज तक पुलिस और सुरक्षा एजेंसियां नहीं पहुंच सकी है, वहां बिरसाय जी की मदद से पहुंचने का प्रयास करेगी. पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों के हाथ बिरसाय जी नहीं लगे इसे लेकर माओवादी भी चिंतित है. इसी आशंका को लेकर माओवादी बिरसाय जी को कड़ी सुरक्षा घेरे में साथ रखा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: