न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जहां ईवीएम वहां भाजपा शेर, जहां मतपत्र वहां ढेर : आप

17

News Wing

New Delhi, 02 December : आम आदमी पार्टी (आप) ने ईवीएम में गड़बड़ी का मुद्दा एक बार फिर उठाते हुये उत्तर प्रदेश के स्थानीय निकाय चुनाव में भाजपा की जीत के लिये वोटिंग मशीन को जिम्मेदार ठहराया है. आप के उत्तर प्रदेश के प्रभारी संजय सिंह ने आज संवाददाता सम्मेलन में कहा कि भाजपा ने उन्हीं पदों पर जीत दर्ज की है जिन पर ईवीएम से मतदान हुआ था. लेकिन मतपत्र से मतदान वाले पदों पर भाजपा हारी है.

यह भी पढ़ें : वृद्धि दर में गिरावट का दौर अभी बीता नहीं, मोदी हमारी सरकार की बराबरी नहीं कर सकते : मनमोहन सिंह

सिंह ने ईवीएम में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुये कहा ‘‘सच्चाई यह है कि भाजपा नगर निगम चुनाव में ही बहुमत के साथ जीती है क्योंकि वहां ईवीएम से मतदान कराया गया. जबकि नगर पंचायत और नगर पालिका परिषद के चुनाव में मतपत्र से वोट डाले गए, तो भाजपा को बेहद कम सीटे मिली. इससे साफ है कि जहां ईवीएम का इस्तेमाल हुआ वहां भाजपा शेर, जहां मतपत्र से मतदान हुआ वहां ढेर हो गयी.’’ 

silk_park

यह भी पढ़ें : तीन तलाक विधेयक में बहुविवाह और हलाला भी हो शामिल : मुस्लिम महिला आंदोलन

सिंह ने कहा ‘‘आप लगातार यह कह रही है कि जब तक ईवीएम से चुनाव होंगे तब तक भाजपा और मोदी जी जीतते रहेंगे. उत्तर प्रदेश में एक बार फिर यह बात सच साबित हुई.’’ इस दौरान उन्होंने उत्तर प्रदेश के स्थानीय निकाय चुनाव में आप के प्रदर्शन पर खुशी व्यक्त करते हुये राज्य की जनता के प्रति आभार प्रकट किया. सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में आप पहली बार स्थानीय निकाय का चुनाव लड़ी थी, जिसमें पार्टी के दो नगर पंचायत अध्यक्ष और 44 पार्षद एवं सभासद जीतकर आए हैं.

यह भी पढ़ें : महंगे होंगे डीजल-पेट्रोल, 2018 तक उत्पादन में कटौती जारी रखेंगे ओपेक देश
उन्होंने कहा ‘‘जिस तरह इस चुनाव में आप को उत्तर प्रदेश की जनता ने समर्थन दिया है उसके लिए पार्टी राज्य की जनता का आभार व्यक्त करते हुये उसकी सेवा की प्रतिबद्धता प्रकट करती है.’’ ईवीएम के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि ईवीएम में गड़बड़ी का मुद्दा आप भविष्य में भी उठाती रहेगी. सिंह ने कहा ‘‘हमने पहले भी चुनाव आयोग को ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत की है और अब फिर आयोग के समक्ष इसकी शिकायत करेंगे.’’

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: