न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जनजातीय समाज किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं : डॉ लुईस मरांडी

62

Ranchi: समाज कल्याण और महिला बाल विकास मंत्री डॉ लुईस मरांडी ने कहा कि झारखंड का जनजातीय समाज किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं है. उद्योग और व्यापार के क्षेत्र में भी तेजी से लोग आगे बढ़ रहे हैं. स्टार्टअप कार्यक्रम के माध्यम से नए लोगों को अपना काम शुरू करने में आसानी होगी. लुईस मरांडी शुक्रवार को होटल रेडिसन ब्लू में आयोजित ट्राइबल इंटरपेन्योरशिप डेवलपमेंट कार्यक्रम (टीईडीएफ) में बतौर मुख्य अतिथि बोल रही थी. उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों के साथ झारखंड सरकार मजबूती के साथ खड़ी है. अब लोगों को रोजगार के लिए दूसरे राज्य में जाने की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि झारखंड में रोजगार के अवसर हैं. झारक्राफ्ट के ज्यादातर उत्पाद के निर्माण में जनजातीय समाज के लेागों का योगदान है. इनकी प्रतिभा को एक मौका देने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि इनके उत्पादन को बाजार उपलब्ध कराया गया है. जिससे इनकी आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है. सरकार की कोशिश है कि ट्राइबल युवा रोजगार मांगने वाले नहीं देने वाले बने.

इसे भी पढ़ेंः देखिये-सुनिये सीएम रघुवर दास ने सदन में विपक्षी विधायकों को कौन सी गाली दी

इसे भी पढ़ेंः सीएम रघुवर पर सदन में गाली देने का आरोप, हेमंत ने कहा माफी मांगें सीएम, जेएमएम ने फूंका पुतला

युवा शक्ति के बल पर हो सकता है झारखंड का नवनिर्माणः राजबाला वर्मा

विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने कहा कि देश के भविष्य युवा हैं. झारखंड की आधी आबादी युवाओं की है. यहां के युवाओं में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है. जरूरत है, तो उसे मंच देने की. उन्होंने कहा कि यहां 15 से 35 वर्ष तक के युवाओं की संख्या एक करोड़ की है. युवा शक्ति के बल पर झारखंड का नवनिर्माण कर सकते हैं. इसके लिए हमें आगे आना होगा, राज्य के लिए कुछ अलग करना होगा. युवा शक्ति, युवा श्रम शक्ति के लिए रोजगार, स्वरोजगार तलाशने होंगे. उद्योगों से युवाओं को जोड़ना है. इस मौके पर आईटी सचिव सत्येन्द्र कुमार सिंह, झारक्राफ्ट की रेणु गोपीनाथ पाणिकर सहित अन्य लोग उपस्थित थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: