Uncategorized

छोटे-मंझोले उद्योग राज्‍य की आवश्‍यकता : रघुवर दास

रांची : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि किसी भी राज्य में बढ़ते उद्योगों का जाल, विकास का पैमाना होता है। इससे रोजगार के अवसर पैदा होते ही हैं। श्री दास सोमवार को (13 जुलाई, 2015) पतरातू में नवनिर्मित बर्णपुर इंटीग्रेटेड सीमेंट प्लांट के उद्धाटन समारोह के मौके पर बोल रहे थे। इस अवसर पर उन्‍होंने कहा कि राज्य में छोटे और मंझोले उद्योगों की स्थापना होनी चाहिए ताकि बड़े पैमाने पर रोजगार का सृजन हो सके। वहीं हर जिले में एक-दो उद्योग की स्थापना होनी चाहिए ताकि बेरोजगारी कम की जा सके और पलायन रूके।

उन्होंने कहा कि मजदूर और मालिक के बीच अगर बेहतर समन्वय होगा तो उत्पादन तो बढ़ेगा ही साथ ही मजदूरों और मालिकों की तरक्की के भी रास्ते खुलेंगे। श्री दास ने कहा कि कोई भी प्लांट या उद्योग एक मंदिर के समान होता है और उसी लिहाज से मजदूरों को देखना चाहिए। उन्होंने मेक इन झारखंड के संबंध में कहा कि झारखंड के विकास के बिना मेक इन इंडिया की कल्पना नहीं की जा सकती है। इस प्लांट के खुलने से एक ओर जहां बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार मिलेंगे वहीं रामगढ़ पतरातू का विकास भी होगा।

श्री दास ने कहा कि राज्य के सर्वांगीण विकास के लिए कृषि, उद्योग और आईटी के क्षेत्र में सरकार तेजी से काम कर रही है। कृषि को प्राथमिकता की श्रेणी में रखा जा रहा है। सरकार का प्रयास है कि किसान साल में तीन खेती करें साथ ही बागवानी और पशुपालन को तरजीह दी जाये। उन्होंने कहा कि पर्यटन के लिहाज से झारखंड एक समृद्ध राज्य है, इसे बढ़ावा देकर इसे एक उद्योग का दर्जा दिया जा सकता है। सरकार इस दिशा में तेजी से कदम बढ़ा रही है।

Catalyst IAS
ram janam hospital

श्री दास ने कहा कि रांची पतरातू रोड तथा रजरप्पा को पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जायेगा साथ ही पारसनाथ को अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल बनाने की दिशा में सरकार कदम बढ़ा चुकी है। इसके अलावा तारापीठ-मलूटी मंदिर और बासुकीनाथ के 125 किलोमीटर इलाके को टूरिस्ट सर्किट के रूप में विकसित करने की योजना पर काम हो रहा है।

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि रांची को बेंगलुरु की तर्ज पर आईटी हब, और आदित्यपुर-हाट गम्हरिया को ऑटो मोबाईल हब बनाया जायेगा। सीएसआर के संदर्भ में उन्होंने कहा कि उद्योगों के मालिक और सत्ता वाले सभी ट्रस्टी हैं और ट्रस्टी का फर्ज होता है कि स्थानीय लोगों के विकास के लिए योजनाओं को अमलीजामा पहनायें। आज भी राज्य में महिलाओं को शौच जाने के लिए शाम होने का इंतजार करना पड़ता है। श्री दास ने उद्यमियों से अपील की, कि विकास का दिखावा न करें बल्कि जमीन पर काम कर दिखायें। युवक और युवतियों में हुनर पैदा करें ताकि काम करने वाले हाथ भी किसी को काम दे सकें।

कार्यक्रम के दौरान उपस्थित जन समूह को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि लक्ष्य और संकल्प का जिन्दगी में बहुत महत्व है, इसलिए लक्ष्य के साथ संकल्प लें और जीवन को सफलता के मुकाम तक ले जायें।

बर्णपुर सीमेंट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक अशोक गुड़गुड़ि‍या ने स्वागत भाषण में कहा कि इस प्लांट में करीब 500 लोगों को रोजगार मिलेगा। उन्होंने बताया कि प्लांट से प्रतिदिन 800 टन सीमेंट का उत्पादन किया जायेगा। प्लांट में ड्राई टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जायेगा जिससे कोयला पानी और ऊर्जा की कम खपत होगी। उन्होंने कहा कि प्लांट का दूसरा फेज भी अक्टूबर माह के अंत तक चालू कर दिया जायेगा। साथ ही सीएसआर के तहत कंपनी की ओर से कई कार्य किये जा रहे हैं। प्लांट में ईएसपी समेत कई ऐसे उपकरण लगाये गये हैं जिनसे पर्यावरण प्रदूषित नहीं होगा। उन्होंने कहा कि 2006 में झारखंड सरकार के साथ प्लांट बैठाने के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर हुए थे और उनके समूह का झारखंड में यह दूसरा प्लांट है।
– सूजंसवि –

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button