न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

छात्र संघ चुनाव रद्द होने के विरोध में आजसू ने आरयू के कुलपति को घेरा

9

NEWSWING

Ranchi, 11 December : आजसू छात्रसंघ ने सोमवार को रांची विश्वविद्यालय मुख्यालय में कुलपति समेत कई पदाधिकारियों को दिन भर घेरे रखा. मुख्यालय में कुलपति कार्यालय के नीचे आजसू के सदस्य देर शाम तक उग्र आंदोलन करते रहे एवं अपनी मांगों को लेकर अड़े रहे.

छात्रसंघ चुनाव को टालने के विरोध में आजसू ने साथ प्रदर्शन किया. इसके लिए कुलपति समेत परीक्षा नियंत्रक को जिम्मेवार ठहराया. करीब 11 बजे के आस-पास आजसू छात्रसंघ के सदस्य विश्वविद्यालय मुख्यालय में सैकड़ों की संख्या में झण्डा लेकर शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन कर रहे थे एवं कुलपति से मिलने की बात कर रहे थे. लेकिन पूर्व नियोजित तरीके से विश्वविद्यालय प्रशासन ने आंदोलन को दबाने की तैयारी कर रखी थी. इसी साजिश के तहत आंदोलन शुरू करने से पहले ही विश्वविद्यालय परिसर में सैकड़ों की संख्या में पुलिस को तैनात कर दिया गया था. जबकि आजसू के सदस्य शांतिपूर्ण तरीके से कुलपति कार्यालय के गेट पर बैठे हुए थे फिर भी कुलपति ने पुलिस प्रशासन की मदद से छात्रों के साथ दुर्व्‍यवहार करते हुए छात्रों को धक्का मुक्की करते हुए अपने कार्यालय में चले गए.

वाइस चांसलर खबरदार, वाइस चांसलर होसियार का नारा लगा रहे थे छात्र

इसके बाद मामला बिगड़ गया और आजसू के छात्र आग-बबुला हो गए. उग्र रूप अखतियार करते हुए विश्वविद्यालय प्रशासन एवं कुलपति के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी. वाईस चांसलर खबरदार वाईस चांसलर होसियार जैसे नारों से मुख्यालय गुंज उठा. इसके बाद कुलपति ने कार्यालय में वात्र्ता के लिए बुलाया परन्तु आजसू कुलपति को ही नीचे आकर धरना स्थल पर ही वार्ता के लिए बुलाने पर अड़ी रही. अन्ततः वाईस चासंलर ने मजबूर होकर वार्ता की एवं छात्रों के साथ हुए दुर्व्‍यवहार के लिए माफी मांगी. वार्ता के दौरान में आजसू के छात्र नेताओं ने कुलपति से साफ तौर पर कहा कि लोकतंत्र की हत्या कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे. चुनाव को किसी एक संगठन के इशारे पर रोक कर छात्रों के अधिकार के साथ खिलवाड़ हुआ है. अतः चुनाव किसी भी कीमत पर करना होगा एवं जिनके चलते कुछ छात्रों का वोटर लीस्ट तैयार नहीं हो पाया पर उन दोषी अफसरों को अविलम्ब निलंबित किया जाए.

 कुलपति ने विश्वविद्यालय के मर्यादा को धुमिल किया

आजसू के विश्वविद्यालय अध्यक्ष नीतिश सिंह ने कहा कि किसी एक संगठन के इशारे पर काम कर के कुलपति महोदय ने विश्वविद्यालय के मर्यादा को धुमिल किया है. विश्वविद्यालय प्रभारी कुश साहु ने कहा कि अगर विश्वविद्यालय प्रशासन जल्द से जल्द चुनाव नहीं कराती है तो आजसू आमरण अनशन पर बैठने के लिए विवश होगी. इस पर कुलपति महोदय ने सार्वजनिक रूप से कहा कि विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव किसी कीमत पर करायी जायेगी. ये मेरे प्रतिष्ठा का विषय है और दोषी पदाधिकारियों पर जांच के लिए विजिलेंस से आग्रह करेंगे.

ये थे मौजूद

मौके पर मुख्य रूप से प्रदेश प्रभारी हरिश कुमार, प्रदेश वरीय उपाध्यक्ष मनीष शाहदेव, जब्बार अंसारी, उपाध्यक्ष नीरज वर्मा, प्रदेश सचिव ओम वर्मा, अजित कुमार, विश्वविद्यालय महासचिव राज किशोर महतो, विश्वविद्यालय सह प्रभारी रमेश कपाड़िया, सोनु कुमार, अजय कुमार, जमाल गद्दी, बन्टी कुमार, चंदन कुमार, अमन बोहरा, राहुल तिवारी, शैलेष कुमार, प्रकाश राम, अभिषेक तिवारी, भीम कुमार, हुसैन अंसारी आदि समेत सैकड़ों छात्र मौजूद थे. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: