न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चोर मचाये शोर, राज्यसभा चुनाव पर बोले जेवीएम महासचिव बंधु तिर्की

89

Ranchi: राज्यसभा चुनाव के नतीजों आने के बाद भी झारखंड के राजनीतिक गलियारे में गहमागहमी बनी हुई है. एक और जहां अप्रत्यक्ष रूप से धनबल का प्रयोग की चर्चा जोरों पर है, वहीं कांग्रेस प्रत्याशी को किस ने वोट दिया और किसने नहीं दिया इस पर संशय अभी भी बरकरार है. सभी विधायक दावे कर रहे हैं कि हमने अपनी पार्टी के पूर्व निर्धारित मत के अनुसार मतदान किया. लेकिन आखिर बीजेपी उम्मीदवार को 25वां वोट किसने दिया यह अभी स्पष्ट नहीं हो सका है, हालांकि चुनाव में कांग्रेस के धीरज साहू जीत चुके हैं.

 इसे भी पढ़ें: पलामू : एसीबी ने मुखिया को 15 हजार रुपये घूस लेते रंगेहाथ दबोचा

मकड़जाल में फंसा राज्यसभा का चुनावी समीकरण अब भी

धीरज साहू :  झामुमो 18 + कांग्रेस 7 + ? 1= 26

प्रदीप सोंथालिया : बीजेपी 16 + आजसू 4 + गीता कोड़ा 1 + भानूप्रताप शाही 1 + एनोस एक्का 1 + प्रकाश राम 1 + ? 1 = 25

जारी है आरोप-प्रत्यारोप का दौर 

राज्यसभा चुनाव को लेकर दो पार्टी अप्रत्यक्ष रूप से एक दूसरे पर आरोप लगा रही हैं. इसी कड़ी में सोमवार को झारखंड विकास मोर्चा के केंद्रीय कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर केंद्रीय सचिव सचिव बंधु तिर्की ने अपना पक्ष रखा. प्रेस को संबोधित करते हुये बंधु तिर्की ने कहा कि राज्यसभा चुनाव में जिसने वोट कांग्रेस उमीदवार को नहीं दिया है वही शोर कर रहे हैं. ‘चोर मचाये शोर’ वाली कहावत को चरितार्थ कर रहे है. बंधु तिर्की आगे कहा कि मैं पार्टी की ओर से अधिकृत चुनाव एजेंट था. हमारी पार्टी के एक विधायक ने बिना वोट दिखाये मतदान किया जिसे झारखंड विकास मोर्चा ने तत्काल कार्रवाई करते हुये पार्टी से निलंबित करने का काम किया है. वही पार्टी के दूसरे विधायक ने धीरज साहू को वोट किया है.  जिसका मैं प्रत्यक्ष गवाह हूं,क्योंकि मैं पार्टी एजेंट था और पार्टी ने कांग्रेस प्रत्याशी को वोट देने का निर्णय लिया था. पार्टी के निर्णय के विरोध में मतदान करने वाले विधायक पर पार्टी ने कार्रवाई की है.

 इसे भी पढ़ें: देशभर में सूचना आयोग की हालत खस्ता, खाली पड़े हैं 109 आयुक्त पद, झारखंड में 11 में से 9 पद रिक्त

भाजपा ने की खरीद फरोख्त की राजनीति

वही बंधु तिर्की में प्रेस कॉन्फ्रेंस में बीजेपी पर आरोप लगाया कि भाजपा खरीद फरोख्त की राजनीति करती है. और यह इस बार के राज्यसभा चुनाव में भी ये दिखा. भाजपा राज्यसभा चुनाव के नतीजे को लेकर कोट जाने की बात कर रही है, जबकि जेवीएम के छह विधायकों को भाजपा ने खरीद कर पार्टी में शामिल कर लिया. जिसपर अभी तक निर्णय नहीं किया गया है. बंधु तिर्की ने आरोप लगाया कि भाजपा हमेशा धन बल का प्रयोग करती रही है. बीजेपी ने राज्यसभा चुनाव में अपने दो उम्मीदवार इसलिये खड़े किये ताकी विधायकों की खरीद-फरोख्त की जा सके, इससे भाजपा का चाल, चेहरा और चरित्र झारखंड की जनता के समाने उजागर हो चुका है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: