न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चैंबर के प्रतिनिधियों ने किया पंडरा बाजार का दौरा, ट्रांसपोर्ट नगर को लेकर जानी व्यवसायियों की राय

20

News Wing Ranchi, 2 December: रांची के पंडरा बाजार में ट्रांसपोर्ट नगर बनाये जाने के राज्य सरकार के फैसले से उत्पन्न समस्या को देखते हुए झारखण्ड चैंबर ऑफ कॉमर्स के पदाधिकारियों ने पंडरा बाजार का निरीक्षण किया और वहां के व्यवसायियों से मुलाकात की. बाजार प्रांगण के व्यापारियों ने बताया कि अधिकारियों द्वारा मुख्यमंत्री के संज्ञान में यह लाया गया है कि बाजार की अधिकतर दुकानें बंद रहती हैं, जबकि ऐसा नहीं है. मुख्यमंत्री ने जिस दिन बाजार प्रांगण का दौरा किया गया था उस दिन रविवार अवकाश का दिन था जिस कारण अधिकतर दुकानें बंद थी. अधिकारियों द्वारा उन स्थानों को दिखाया गया जिस भूखंड पर पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा ने कोल्ड स्टोरेज के लिए शिलान्यास किया था. वह शिलापट्ट आज भी उसी स्थान में अवस्थित है. वर्तमान में सभी दुकानें चालू अवस्था में हैं और संचालित हैं. यह भी बताया कि बाजार प्रांगण में दुकानदारों के वेयर हाउसेस भी हैं जो माल के लोडिंग-अनलोडिंग के समय ही खुलती हैं.

यह भी पढ़ेंः रांचीः ट्रांसपोर्ट नगर के लिए सीएम ने देखी पंडरा में जमीन

पंडरा बाजार में ट्रांसपोर्ट नगर बनाने की योजना अव्यवहारिकः रंजीत गाड़ोदिया

व्यापारियों की समस्याओं को सुनने के बाद चैंबर अध्यक्ष रंजीत गाडोदिया ने कहा कि विकास के रास्ते पर मुख्यमंत्री द्वारा किये जा रहे प्रयास सराहनीय हैं. चैंबर सदैव मुख्यमंत्री के हर प्रयासों में सरकार के साथ खड़ा है, लेकिन पंडरा बाजार में ट्रांसपोर्ट नगर बनाने की योजना कहीं न कहीं अव्यवहारिक है. यह भी कहा कि राजधानी के प्रस्तावित नये मास्टर प्लान में रिंग रोड में ट्रांसपोर्ट नगर को दर्शाया गया है. ऐसे में ट्रांसपोर्ट नगर का निर्माण रिंग रोड में ही हो और मार्केट यार्ड को अत्यधिक मॉडर्न बनाने का प्रयास करना चाहिए, क्योंकि यातायात की समस्या को देखते हुए अपर बाजार से काफी संख्या में थोक व्यापारियों को पंडरा बाजार का स्थान चयनित कर स्थानांतरित किया गया था.

यह भी पढ़ेंः नई ट्रैफिक व्यवस्था से परिवहन व्यवसाय करना कठिन : गुड्स ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन

पंडरा बाजार के व्यापारी राज्य के व्यापार की रीढ़

उन्होंने कहा कि वर्तमान में पंडरा बाजार में संचालित दुकानों के व्यापारी राज्य के व्यापार की रीढ़ हैं जिसे ध्वस्त करने की योजना चिंतनीय है. चैंबर के अनुसार ट्रांसपोर्ट नगर की स्थापना मास्टर प्लान के अनुसार होनी चाहिए, जहां भारी मालवाहक वाहन, ऑटो, रिक्शा-ठेला, दो हजार दोपहिया वाहनों को खड़ा करने की व्यवस्था, वाहन चालकों के लिए स्नानागार, विश्राम गृह, ट्रांसपोर्ट में कार्यरत श्रमिकों, ग्राहकों के लिए ठहरने की व्यवस्था, पब्लिक यूटिलीटि के उपाय सहित बेहतर आधारभूत संरचना आवश्यक है, लेकिन पंडरा बाजार में मात्र 35 एकड भूमि पर ट्रांस्पोर्ट नगर के निर्माण की कल्पना असंभव है. इसके लिए लगभग 100 एकड़ भूमि की जरूरत होगी. 

p>न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: