Uncategorized

चुम्बन प्रतियोगिता से आदिवासी समाज को लगी ठेस : सालखन मुर्मू

Jamtara : झारखंड दिशोम पार्टी के अध्यक्ष सालखन मुर्मू ने बुधवार को जामताड़ा स्थित सुभाष चौक पर प्रेस वार्ता किया. इस दौरान उन्होंने चुम्बन प्रतियोगिता पर विरोध जताया. सालखन ने कहा कि झारखंड मुक्ति मोर्चा के विधायकों ने इस तरह की प्रतियोगिता का आयोजन कर आदिवासी समाज में ठेस पहुंचाने का काम किया है. उन्होंने कहा कि झामुमो आदिवासियों को राजनीतिक और सामाजिक रूप से अपमानित करने का काम कर रही है. झारखंड मुक्ति मोर्चा को न समाज की परवाह है और न ही राज्य की जनता की. चुम्बन प्रतियोगिता का हम लोग पुरजोर विरोध करते हैं और हमेशा करते रहेंगे.

इसे भी पढ़ेंः एलीट वर्ग के चुंबन लेने पर बुराई नहीं तो आदिवासियों के चुंबन पर बवाल क्यों – साइमन

इसे भी पढ़ेंः जमशेदपुर में सरेशाम गैंगवार,क्षत्रिय महासभा के नेता निरंजन की गोली मारकर हत्या (देखें वीडियो) )

भाजपा, जेएमएम को हटाकर झारखंड दिशोम पार्टी की सरकार बनेगी

सालखन मुर्मू ने कहा कि झारखंड दिशोम पार्टी और आदिवासी सेंगेल अभियान संथाल परगना के 81 विधानसभा सीटों पर वंचित बहुजन समाजों के गठबंधन को बना कर सत्ता और व्यवस्था को बदलने का काम करेगी. उन्होंने कहा कि पक्ष-विपक्ष से अलग तीसरा पक्ष अर्थात जनपक्ष की सरकार दिल्ली विधानसभा की तर्ज पर भाजपा, जेएमएम को हटाकर झारखंड दिशोम पार्टी की सरकार बनेगी. उन्होंने कहा कि झारखंड दिशोम पार्टी सभी 81 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

इसे भी पढ़ेंः प्रद्युम्न मर्डर केस: आरोपी छात्र पर बालिग की तरह चलेगा केस, 22 से होगी सुनवाई

पांच मुद्दों को लेकर जनता के बीच जायेंगे

उन्होंने कहा कि हम पांच मुद्दों को लेकर जनता के बीच जाएंगे. जिसमें जमीन बचाने, नौकरी बचाने, विस्थापन पलायन रोकने, पंचायतों और ग्राम सभाओं को पैसा-पावर देने, आदिवासी भाषा, संस्कृति और सरना धर्म कोड बचाने आदि मुद्दों को लेकर हम जनता के बीच जा रहे हैं. संथाल परगना क्षेत्र के 18 विधानसभा क्षेत्रों में पाकुड़, राजमहल, महागामा, मधुपुर, नाला में मुस्लिम प्रत्याशी दिए जाएंगे. वहीं सारठ से एससी, पोड़ैयाहाट से मंडल, गोड्डा और जरमुंडी से यादव तथा शेष सीटों में एसटी प्रत्याशी होंगे. उन्होंने कहा कि झारखंड बनने के 17 वर्षों में पक्ष और विपक्ष ने झारखंड को बचाने की जगह बेचने का काम किया है. अतः अब झारखंड को लूटने-मिटने से बचाने के लिए पक्ष-विपक्ष से अलग तीसरा पक्ष जन मुद्दों पर आधारित जन पक्ष को खड़ा करना अनिवार्य है, तभी झारखंड बचेगा. उन्होंने कहा कि भाजपा और जेएमएम ने सीएनटी-एसपीटी कानून का कई बार गला घोंटा है.

इसे भी पढ़ेंः दिनाकरण गुट ने जयललिता का अस्पताल के दौरान का वीडियो किया जारी, पी रही थी हेल्थ ड्रिंक

ये थे मौजूद

मौके पर आदिवासी सेंगेल अभियान के संथाल परगना प्रभारी सिकंदर टुडू, सुमित्रा मुर्मू, सुजीत कुमार, गौतम नयन, कुमार गौतम, नाजिर सोरेन, गोपाल सोरेन, रविनाथ राजेश सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे.

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड-सीआईडी को दिए बयान में ग्रामीणों ने कहा, कोई मुठभेड़ नहीं हुआ, जेजेएमपी ने सभी को मारा

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button