न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गढ़वा में लेवी के लिए टीपीसी उग्रवादियों का उत्पात, मुखिया को पीटा 

46

Garhwa: गढ़वा जिले के बरडीहा थाना क्षेत्र में रविवार रात नक्सलियों ने लेवी के लिए जमकर उत्पात मचाया और घर में घुसकर दो मुखिया और ग्रामीणों की पिटायी कर दी. गंभीर रूप से जख्मी मुखिया और ग्रामीणों को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. यहां से बेहतर इलाज के लिए मुखिया को डाल्टनगंज सदर अस्पताल रेफर किया गया है. घटना के बाद इलाके में दहशत का माहौल है. जानकारी के अनुसार रविवार रात करीब 11 बजे नक्सली संगठन तृतीय प्रस्तुति कमिटी (टीपीसी) का अलग-अलग दस्ता सुखनदि पंचायत के मुखिया दिलीप रजवार और सलगा पंचायत के मुखिया पति दीपक सिंह को तलाशते हुए उनके गांव में दस्तक दी. दोनों को पकड़ने के बाद उनकी जमकर पिटाई की. पिटाई से दिलीप रजवार गंभीर रूप हो घायल हो गए.

इसे भी पढ़ें- पलामू: सिर्फ बिजली कनेक्शन के अभाव में पांच वर्षों से बनकर पेंडिंग पड़ा है चैनपुर का सीएचसी, विस में उठा अस्पताल भवन मामला, स्वास्थ्य अधिकारियों में हड़कंप

टीपीसी कमांडर अक्षय कर रहा था नेतृत्व

hosp3

नक्सलियों का नेतृत्व टीपीसी कमांडर अक्षय कर रहा था. उनकी संख्या 10 से 15 के आस-पास थी. नक्सलियों ने इस दौरान कई ग्रामीणों की भी पिटाई की. नक्सली बरडीहा के भाजपा मंडल अध्यक्ष सतीश यादव को भी तलाशते हुए उनके घर गए, लेकिन नक्सलियों के आने की भनक मिलते ही सतीश अपने आवास से भाग निकले थे.

इसे भी पढ़ें- सरकारी दौरा या पीए अंजन की शादी में किराए के विमान से असम गए थे सीएम रघुवर दास !

मोर्चाबंदी कर पुलिस ने शुरू की कार्रवाई

दरअसल, टीपीसी नक्सली संगठन द्वारा इलाके के सभी मुखिया से उनके क्षेत्र में चल रही योजनाओं को लेकर लेवी की मांग की जा रही है. नहीं देने पर नक्सली हिंसक वारदात को अंजाम देने से बाज नहीं आ रहे हैं. इस घटना को भी इसी से जोड़कर देखा जा रहा है. एसपी मोहम्मद अर्शी ने कहा कि टीपीसी का यह दस्ता उस इलाके में काबिज नहीं है, बल्कि वह पलामू से आता है और घटना को अंजाम दे निकल जाता है. पुलिस ने मोर्चाबंदी कर कार्रवाई शुरू कर दी है. जल्द ही एक बड़ी सफलता की सूचना मिलेगी.

इसे भी पढ़ें- मोमेंटम झारखंड पड़ताल : सरकार ने जिसे बताया SIBICS कंपनी का एमडी उसने कहा यह मेरी कंपनी नहीं

माओवादियों के गढ़ में टीपीसी हुआ सक्रिय 

माओवादियों के गढ़ कहे जाने वाले गढ़वा के मझिआंव, बरडीहा और कांडी में टीपीसी नक्सलियों का दबदबा बनने लगा है. यह इलाका माओवादियों की शरणस्थली के रूप में जाना जाता था, लेकिन हाल के दिनों में माओवादियों पर बढ़ी कार्रवाई के बाद माओवादी इस इलाके से निकल गए हैं, लेकिन इसका फायदा उठाकर टीपीसी अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: