Uncategorized

गिरिडीह : महिला आयोग की टीम ने किया सदर अस्पताल का निरीक्षण, मरीजों के परिजनों ने कहा- प्रसव कराने के लिए लिये जाते हैं पैसे

Giridih : राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष कल्याणी शरण मंगलवार शाम अपनी पूरी टीम के साथ गिरिडीह पहुंची. इस क्रम में अध्यक्ष ने अपने टीम के साथ शाम को सदर अस्पताल में महिलाओं को दिए जाने वाली सुविधाओं आदि की जांच की. मौके पर टीम ने हरेक वार्ड में जाकर इलाज़रत मरीजों व उनके परिजनों से बातचीत की. वहीं मरीजों के लिए उपलब्ध सुविधाओं के बाबत जानकारी भी लिया. हरेक वार्ड से होते हुए जैसे ही अध्यक्ष एंड टीम प्रसुति वार्ड पहुंची तो मरीजों के परिजनों की शिकायत कर विफर गयीं. उन्होंने सभी को कार्रवाई का आश्वासन दिया. इस क्रम में प्रसव के लिए भर्ती रकीबा खातून, पिंकी देवी समेत अन्य मरीजों के परिजनों ने टीम को बताया कि प्रसव कराने के नाम पर अस्पताल कर्मी पैसे की मांग करते हैं. लोगों ने बताया कि उनलोगों से 1 हजार व 15 सौ रुपये लिए गये हैं. मरीजों के परिजनों की शिकायत पर श्रीमती शरण भड़क उठी.

इसे भी पढ़ेंः खूंटी : पुलिस की बड़ी कार्रवाई, PLFI सुप्रीमो दिनेश गोप की करोड़ों की संपत्ति जब्त

इसे भी पढ़ेंः पलामू: ओबरा में आपसी विवाद में जेसीबी में लगायी आग, जांच में जुटी पुलिस

सीएस केयरलेस है, नहीं देख रहे कि उनका स्टाफ घूस लेता है

मौके पर श्रीमति शरण ने कहा कि वो देवघर से अपनी टीम के साथ गिरिडीह आईं हैं. यहां दो दिन रुकने के बाद वो धनबाद होकर बोकारो जायेंगी. कहा कि महिलाओं की स्थिति को जानने के लिए वो टीम को लेकर चली है. सदर अस्पताल के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि लोग कहते हैं सरकार ने ये नहीं दिया, ये नहीं किया. सरकार की व्यवस्था है कि हॉस्पिटल में जब प्रसव होता है तो एक पैसा किसी को मत दो, अगर मैं ओपेन कर दूं तो सबकी नौकरी चली जायेगी. कहीं 1500, कहीं 900, कहीं एक हजार सभी से लिया गया है. मरीजों को यह जानकारी नहीं दी जाती है कि ये सुविधा आपको सरकार के तरफ से मिला है. ये बताना किसका काम है. यहां के सीएस की जवाबदेही है, क्योंकि उनके नाक के नीचे ये खेल चल रहा है. इसका मतलब है कि सीएस केयरलेस हैं. नहीं देख रहे कि उनका स्टाफ घूस ले रहा है.

इसे भी पढ़ेंः छोटानागपुर खादी ग्रामोद्योग ने बिना अनुमति काट डाले सात हरे-भरे पेड़

इसे भी पढ़ेंः महाराष्ट्र में 2017 में छह महीनों में 2,965 लड़कियां लापता : देवेन्द्र फडणवीस

डॉक्टर खानापूर्ति करने के लिए ड्यूटी कर रहे हैं

इस मामले पर आयोग क्या करेगी इस पर उन्होंने कहा कि आयोग का अगला कदम यह होगा कि इसके ऊपर सख्त कार्रवाई होगी. और यहां के इंचार्ज को लिखित शिकायत जायेगी कि आपके यहां की व्यवस्था का यह हाल है. आगे उन्होंने कहा कि इस ठंड में लोगों को कम्बल घर से लाना पर रहा है. डॉक्टर खानापूर्ति करने के लिए ड्यूटी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि महिला आयोग का भी टाइम है 10.30 बजे से 5.30 बजे शाम तक, लेकिन उन्होंने निरीक्षण का उदहारण देते हुए कहा कि आप सब देखे की टीम कितने बजे तक काम कर रही है. कहा कि सरकार की व्यवस्था लोगों तक पहुंच रही है या नहीं, इसी बात का जायजा लेने के लिए वह अपनी टीम के साथ घूम रही हैं. कहा कि यहां कि व्यवस्था में कमी है. यहां का इंचार्ज सही ढंग से इन्क्वायरी करके अपने स्टाफ को नहीं बता पा रहे हैं कि किसका क्या काम है. खुलेआम यहां घूसखोरी हो रहा है. अभी तक उन्होंने जहां घूमा वहां भी थोड़ी बहुत समस्या है, मगर घूसखोरी की समस्या केवल गिरिडीह सदर अस्पताल में ही आ रही है. इसके साथ ही उन्होंने साफ सफाई आदि पर भी चिंता जतायी.

इसे भी पढ़ेंः भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को नहीं मिला शहीद का दर्जा, याचिका खारिज

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button