Uncategorized

गिरिडीह: प्रेमिका से मिलने पहुंचे युवक के साथ मारपीट, बताया अपराधी, पुलिस ने बचायी जान

News Wing

Giridih, 02 October: मिस कॉल से बाद बातचीत की शुरूआत हुई. प्रेम परवान चढ़ा और दशहरे में अपनी प्रेमिका से मिलने युवक उसके गांव जा पहुंचा. लेकिन युवक को नहीं मालूम था कि वह बड़ी मूसीबत मोल ले रहा है. यह युवक एक ऐसी पेंच में फंसा कि पुलिसिया कारवाई से उसकी जान बच सकी. मामला गिरिडीह जिले के सरिया थाना क्षेत्र स्थित अलरती गांव का है.

advt

प्रेमिका का इंतजार पड़ा महंगा

घटना के सम्बन्ध में सरिया एसडीपीओ दीपक कुमार शर्मा ने बताया कि बगोदर थाना क्षेत्र अंतर्गत बिहारो गांव का रहने वाला सूरज मंडल जो की मुंबई में रहकर काम करता है. अचानक एक दिन सरिया थाना क्षेत्र के अलरती गांव अपनी फोन गर्लफ्रेंड से मिलने पहुंचा. गांव की एक विवाहित महिला के साथ युवक के बीतचीत की शुरूआत मिस कॉल के बाद से हुई. दिन बीतते गये और दोनों का प्यार परवान चढ़ा.

महिला से मिलने अलरती गांव पहुंचा युवक सूरज

कथित रूप से उक्त महिला के बुलाये जाने पर बीते 29 सितम्बर को युवक सूरज अपने एक मित्र रवि कुमार के साथ मोटर साइकिल से महिला से मिलने अलरती गांव पहुंचा व उससे सम्पर्क करने का प्रयास किया. परंतु महिला का मोबाइल स्विच ऑफ रहने के कारण बातचीत नहीं हो पाई. शाम तक शायद मोबाइल का स्विच ऑन हो जाये और महिला से मुलाकात हो इस लालसा में अपने मित्र रवि के साथ सूरज गांव के किनारे इधर-उधर घूम कर समय व्यतीत कर रहा था.

अपराधी होने की आशंका में दोनों युवकों की बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी

इसी बीच गांव के कुछ असामाजिक प्रवृति के लोगों की नज़र उन दोनों युवकों पर पड़ी. लोगों ने अपराधी होने की आशंका में दोनों युवकों की बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी. इसी बीच मौका पाकर रवि नामक युवक अपनी बाइक से भागने में सफल रहा. वहीं लगभग 20 की संख्या में लोगों ने युवक सूरज को बिजली के पोल में बांधकर मारना शुरू कर दिया. यहां तक कि धारदार हथियार से कई बार प्रहार किया. हमले में युवक गंभीर रूप से घायल होकर अधमरा हो गया. वहीं घटना स्थल से अपनी जान बचाकर भागे युवक रवि ने इसकी सूचना अपने गांव बिहारो के मुखिया उमेश मण्डल को दी. जिन्होंने इसकी जानकारी एसडीपीओ सरिया दीपक कुमार शर्मा दी.

सूचना मिलते ही पुलिस ने की कार्रवाई

शर्मा ने बताया कि सूचना पर त्वरित कार्रवाई करते हुए एक टीम गठित कर अलरती गांव भेजा गया. मौके पर पुलिस ने देखा कि एक युवक को कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा बिजली पोल में बांध कर पीटा जा रहा है. जिससे वह बेहोश हो चुका है. पुलिस द्वारा पोल में बंधे उक्त युवक को हिरासत में लेकर प्राथमिक उपचार कराया गया. वहीं उससे पूछताछ की गयी.

मारपीट करने वाले महेश सिंह ने घटना से संबंधित नयी कहानी बना दी

इधर पुलिस के आ जाने से सूरज के साथ मारपीट करने वाले महेश सिंह और उसके नाबालिग बेटे सचिन ने घटना से संबंधित नयी कहानी बना दी. महेश सिंह व उसके पुत्र ने पुलिस को बताया कि षड्यंत्र के तहत गांव के रामप्रसाद साव से इनकी जमीन संबंधी विवाद चल रहा है और उसे मरवाने की नियत से रामप्रसाद ने सूरज और रवि नामक युवक को एक लाख रुपये देकर बुलाया था. जिसे लेकर उक्त दोनों युवक रिवाल्वर लेकर हमेश सिंह को मारने आये थे.

ईलाज के बाद युवक ने पुलिस के सामने खोला राज

इधर घायल सूरज मण्डल से प्राथमिक उपचार के बाद पूछताछ हुई तो सूरज ने प्रेम कथा की सारी घटना पुलिस को बताया. उसने बताया कि अपरिचित महिला से बीते तीन माह से बातचीत हो रही थी.

गहन जांच पड़ताल से साफ हुआ मामला, महेश सिंह को जेल

एसडीपीओ शर्मा द्वारा इन दोनों तथ्यों की गहराई से जांच की गई तथा युवक की प्रेम कथा को सत्य पाया गया. जबकि निर्दोष राम प्रसाद साव को झूठे मुकदमे में फंसाने के षड्यंत्र रच रहे पिता पुत्र महेश सिंह तथा सचिन को सरिया पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. वहीं घायल सूरज के बयान पर महेश सिंह को जेल और सचिन को बाल सुधार गृह भेज दिया गया.

महेश सिंह पूर्व से ही आपराधिक चरित्र का व्यक्ति रहा है

इधर एसडीपीओ शर्मा ने कहा कि महेश सिंह पूर्व से ही आपराधिक चरित्र का व्यक्ति रहा है. जो निर्दोष लोगों को झूठे मुकदमे में फंसाने का काम करता रहा है. उन्होंने कहा कि इस प्रकार के असामाजिक प्रवृति के लोग यदि निर्दोष लोगों को फंसाने का काम करते हैं वैसे लोगों से सख्ती से निपटा जाएगा. जिससे गांव के लोग अमन-चैन से रह सकें. शर्मा ने स्थानीय पुलिस की सराहना करते हुए कहा कि मौके पर यदि पुलिस नहीं पहुंचती तो युवक सूरज को अपनी जान गंवानी पड़ती. पुलिस के इस साहसिक एवं सफल प्रयास को लेकर उन्हें पुरस्कृत करने हेतु अनुशंसा की जाएगी.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: