न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गिरिडीह: डुमरी, निमियाघाट थाना क्षेत्र के विभिन्न इलाकों में धड़ल्ले से बेची जा रही है अवैध शराब

16

NEWSWING

Giridih, 11 December: अवैध महुआ व अंग्रेजी शराब में रोकथाम के बावजूद जिले के कई इलाकों में अवैध महुआ शराब और अंग्रेजी शराब की बिक्री जारी है. डुमरी, निमियाघाट थाना क्षेत्र के विभिन्न गांव, इलाकों व जीटी रोड किनारे अवस्थित लाईन होटलों में इन दिनों जमकर अवैध महुआ व अंग्रेजी शराब परोसने का खेल चल रहा है.

महुआ शराब की अवैध बिक्री पर लगाम नहीं लगा पा रही है पुलिस 

पुलिस प्रशासन की लाख कोशिशों के बावजूद महुआ शराब की अवैध बिक्री पर लगाम नहीं लग पा रही है. जीटी रोड़ के किनारे अवस्थित लाईन होटलों, विभिन्न चौक-चौराहों स्थित झुग्गी झोपड़ीयों और फास्ट फूड दुकानों में अवैध महुआ शराब व अंग्रेजी शराब पीने वालों की भीड़ आसानी से देखी जा सकती है. अहले सुबह अवैध महुआ शराब बनाने वाले धंधेबाजों को जार में भरकर बाइकों व साइकिलों से शराब को ले जाते देखा जा सकता है. 

इसे भी पढ़ें- गिरिडीह: नर्सिंग होम में उड़ाई जा रही थी नियमों की धज्जियां, एसडीओ ने की कार्रवाई, पांच क्लिनिक सील

धंधे में शामिल लोगों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा: ज्ञान प्रकाश मिंज

हालांकि अब शराब को उसके निर्धारित स्थल तक पहुंचाने का तरीका धंधे में शामिल लोगों ने बदल लिया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार निमियाघाट थाना क्षेत्र के जरुआडीह, टिंगरा, खांकी, पोरदाग रेलवे फाटक, केंदुआडीह, रांगामाटी, गट्टीगढा, तुरीटोला, घुटवाली रेलवे स्टेशन के समीप आदि विभिन्न क्षेत्रों में अवैध महुआ शराब की बिक्री की जाती है. वहीं कई क्षेत्रों में अंग्रेजी मिलावटी शराब की बिक्री धड़ल्ले से जारी है. इस बाबत एसडीएम ज्ञान प्रकाश मिंज का कहना है कि कहीं भी अवैध शराब की बिक्री नहीं होने दी जाएगी. एसडीएम कहते हैं कि जहां कहीं भी अवैध महुआ शराब की बिक्री हो रही है उसके विरूद्ध पुलिस द्वारा छापेमारी अभियान चलाई जा रही है फिर भी यदि कहीं कोई ऐसा क्षेत्र है जहां ऐसे अवैध धंधे चलाए जा रहे हैं तो धंधे में शामिल लोगों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: