न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

गिना हसपेल की नियुक्ति को लेकर संशय में हैं अमेरिकी सांसद

16

Washington : सीआईए प्रमुख के तौर पर गिना हसपेल की नियुक्ति के बारे में अमेरिकी राष्ट्रपति की घोषणा के साथ सीआईए में गिना के शानदार कॅरियर में अब नया आयाम जुड़ने जा रहा हैं. डोनाल्डट्रंप ने घोषणा किया था कि गिना अमेरिकी इतिहास में पहली महिला सीआईए प्रमुख होंगी.

eidbanner

गिना हसपेल बन सकती अमेरिकी केंद्रीय खुफिया एजेंसी की नेतृत्व करने वाली पहली महिला

राष्ट्रपति ट्रंप ने सभी को चौंकाते हुए विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन को हटाने, उनकी जगह सीआईए निदेशक माइक पोम्पेओ को नियुक्त करने तथा गिना को पदोन्नत करने की घोषणा की. पोम्पेओ की जगह गिना हसपेल(61) की नियुक्ति पर मुहर के लिये सीनेट में मतदान होगा. अगर सीनेटउन की नियुक्ति पर अपनी मुहर लगा देता है तो वह अमेरिकी केंद्रीय खुफिया एजेंसी का नेतृत्व करने वाली पहली महिला होंगी.

इसे भी पढ़ें: वार्ड दो में भट्ठा टोला की सड़क बनी हुई है गटर, पानी की समस्या से हैं लोग परेशान

बहुत शानदार महिला हैं गिना हसपेल

हालांकि सीनेट के प्रभावशाली सांसदों ने संकेत दिया कि वे उनकी नियुक्ति पर अपनी सहमति नहीं देने वाले हैं. बल्कि वे यातना कार्यक्रम मेंगिना की भूमिका को लेकर उन्हें घेरने की तैयारी में हैं. ट्रंप ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं को बताया कि गिना को मैं बहुत अच्छे से जानता हूं. मैंने उनके साथ बहुत करीब से काम किया है. वह सीआईए की पहली महिला निदेशक होंगी. वह बहुत शानदार महिला हैं, जिनसे मैं भली भांति परिचित हूं.’’

इसे भी पढ़ें: रांची : वार्ड नंबर एक के चंदवे बस्ती में सड़क-बिजली ठप, स्थानीय लोगों ने कहा – “नहीं हुआ है इधर विकास”

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

mi banner add

कई स्थानों में चीफ ऑफ स्टेशन के तौर पर काम कर चुकी है गिना हसपेल

राष्ट्रीय खुफिया विभाग के निदेशक डेनियल कोट्स ने कहा किट्रंप ने सीआईए की अगली निदेशक के तौर पर गिना की नियुक्ति की अपनी घोषणा से अपना मजबूत पसंद जाहिर किया है. गिना वर्ष 1985 में सीआईए में शामिल हुयी थीं. उन्हें विदेशों में कार्य का व्यापक अनुभव रहा है और उन्होंने कई स्थानों में चीफ ऑफ स्टेशन के तौर पर भी काम किया है. आतंकवाद निरोध के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्यों के लिये उन्होंने जॉर्ज एच डब्ल्यूबुश पुरस्कार और इंटेलिजेंस मेडल ऑफ मेरिट पुरस्कार भीदिया गया है.

इसे भी पढ़ें: पलामू: कठौतिया कोल माइंस से कोयला लेकर निकल रहे वाहनों पर फायरिंग और बमबारी

संदिग्ध आतंकवादियों की गिरफ्तारी एवं पूछताछ की भी निगरानी कर चुकी है गिना हसपेल

वॉल स्ट्रीटपत्रिका के अनुसार वह सीआईए की उस टीम का भी हिस्सा थीं जो संदिग्ध आतंकवादियों की गिरफ्तारी एवं पूछताछ की निगरानी करती थी. सीनेट की प्रभावशाली सशस्त्र सेवा समिति के अध्यक्ष एवं रिपब्लिकनसांसद जॉनमकेन ने कहा कि बीते दशक के दौरान अमेरिका के कैद में रहे आरोपियों को दी गयी यातना देश के इतिहास में सर्वाधिक काला अध्याय रहा है. इसी तरह से कई और सांसदों ने भी गिना हसपेल की नियुक्ति पर अपने विरोध प्रकट किया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: