न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

खूंटी : महिला उग्रवादी सहित दो गिरफ्तार, चार भागने में सफल, हथियार और गोलियां बरामद (देखें वीडियो)

25

Khunti: प्रतिबंधित संगठन पीएलएफआई के खिलाफ खूंटी पुलिस ने रविवार को बड़ी सफलता हासिल की है. संगठन के हार्डकोर एरिया कमांडर प्रभुसहाय बोदरा दस्ते के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई करते हुए महिला उग्रवादी समेत दो उग्रवादियों को गिरफ्तार किया है. वहीं चार उग्रवादी भागने में सफल रहे. पुलसि ने दोनों उग्रवादियों को मुरहू थाना क्षेत्र के पंगुरा जंगल से गिरफ्तार किया.

इसे भी पढ़ें- खूंटीः पीएलएफआई उग्रवादियों का तांडव, चलायी सौ राउंड गोलियां, भाजपा नेता की मौत, तीन घायल

इसे भी पढ़ें- खूंटीः भैया राम मुंडा हत्याकांड का 72 घंटे के अंदर खुलासा, वार्ड सदस्य और दो PLFI उग्रवादी गिरफ्तार

भाजपा नेता भैयाराम मुंडा हत्याकांड में भी थी संलिप्तता

माटा बहंदा और महिला उग्रवादी इलिसबा हस्सा पूर्ति को हथियार और दर्जनों कारतूस समेत गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार उग्रवादियों से पुलिस ने तीन गन, एक पिस्टल, चार गोली, 21 खोखा, वॉकी-टॉकी समेत कई अन्य सामान बरामद किया गया है. बता दें कि भाजपा नेता भैयाराम मुंडा हत्याकांड में भी इन उग्रवादियों की संलिप्तता रही थी.

IFrame

इसे भी पढ़ें- खूंटी गोली कांडः बिरसा ने पहले कहा कुछ लोग घर के बाहर बुला रहे थे, फिर कहा भाई राम मुंडा को बचाने में घायल हुआ (देखें वीडियो)

इसे भी पढ़ें- भाजपा नेता भैया राम मुंडा की हत्या में संगठन का हाथ नहीं : पीएलएफआई

जल्द होगी फरार उग्रवादियों की गिरफ्तारी

जिला के एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा ने बताया कि खूंटी पुलिस को सूचना मिली थी कि पंगुरा जंगल में एरिया कमांडर अपने दस्ते के साथ कैम्प कर रहा है. पुलिस ने छापेमारी टीम का गठन कर कार्रवाई की. जिसमें पीएलएफआई दस्ते के दो उग्रवादी गिरफ्तार किये गए हैं. जबकि संगठन के चार बड़े उग्रवादी भागने में कामयाब रहे. खूंटी एसपी ने दावा किया है कि जल्द ही फरार उग्रवादियों को गिरफ्तार कर लिया जायेगा. वहीं गिरफ्तार उग्रवादियों से पूछताछ की जा रही है. जल्द ही कई और खुलासे होने की संभावना है. एसपी ने बताया कि गिरफ्तार उग्रवादियों से संगठन के दर्जनों पर्चा भी बरामद किया है. जिसमे सीएम के खिलाफ जमकर टिपण्णी की गई है.

बता दें कि फ़रवरी महीने के दौरान संगठन ने रघुवर सरकार के कई मंत्रियों को जान से मारने की धमकी दी थी. जिसमे खूंटी के विधायक सह ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा का नाम शामिल था. उसके बाद मंत्री की सुरक्षा बढ़ा दी गई थी.

IFrame

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-01ः सीआईडी ने न तथ्यों की जांच की, न मृतकों के परिजन व घटना के समय पदस्थापित पुलिस अफसरों का बयान दर्ज किया

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-02ः-चौकीदार ने तौलिया में लगाया खून, डीएसपी कार्यालय में हुई हथियार की मरम्मती !

इसे भी पढ़ेंः बकोरिया कांड का सच-03- चालक एजाज की पहचान पॉकेट में मिले ड्राइविंग लाइसेंस से हुई थी, लाइसेंस की बरामदगी दिखाई ईंट-भट्ठे से

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: