न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

खुद को जनता का दास बताने वाले मुख्यमंत्री के कथनी और करनी में अंतर: अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ

26

News Wing Ranchi, 25 November: मुख्यमंत्री रघुवर दास खुद को जनता का दास कहते हैं, लेकिन उनकी कथनी और करनी में जमीन आसमान का अंतर है. बार-बार समझौता होने के बावजूद शिक्षकों के लंबित मांगों को सरकार नहीं मान रही है. उक्त बातें सरकार के खिलाफ अपने19 सूत्री मांगों को लेकर शनिवार को राजभवन के सामने धरना दे रहे अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ ने कही. धरना में संघ के सलीम सहाय, रंजीत मोहन, कृष्ण शर्मा, मदन स्वांसी, अगम लाल महतो, योगेन्द्र कुमार, धनेष्वर राव, शैलेन्द्र कुमार शर्मा समेत कई शिक्षक मौजूद थे.

यह भी पढ़ेंः जामताड़ाः 19 सूत्री मांगों को लेकर प्राथमिक शिक्षकों ने किया प्रदर्शन

19 सूत्री मांगों को लेकर दिया धरना

प्राथमिक शिक्षक संघ रांची इकाई के करीब 500 प्राथमिक शिक्षक राजभवन के सामने अपनी मांगों को लेकर धरना में शामिल हुए. 19 सूत्री मांग में प्रमुख रुप से सातवें वेतन पुनरीक्षण के तहत केंद्र के अनुरूप मकान भाड़ा भत्ता, दिव्यांग भत्ता सहित कई भत्तों पर स्वीकृति की मांग की. छठे वेतन उत्क्रमित वेतनमान में वेतन निर्धारण में लगी रोक को हटाने संबंधी मांग के साथ कई प्रमुख मांगे शामिल हैं.

यह भी पढ़ेंः हजारीबागः प्राथमिक शिक्षकों का धरना, उपायुक्त को सौंपा ज्ञापन

रिर्पोटिंग का होता है बोझ, ठीक से पढ़ा नहीं पाते

silk_park

प्राथमिक शिक्षकों का कहना है की सरकार प्राथमिक शिक्षकों को जरुरत के अधिक फिल्ड रिर्पोटिंग करवाती है. कभी जनगणना, कभी वोटर कार्ड सहित कई अन्य कई चीजों के लिए पढाई से अलग कार्य करवाती है, जिस वजह से बच्चों की पढाई पर ज्यादा ध्यान नहीं दे पाते हैं.

यह भी पढ़ेंः साहिबगंजः 22 सूत्री मांगों को लेकर शिक्षकों ने दिया धरना

शिक्षा और शिक्षक दोनों की हो रही अवहेलना

शिक्षकों ने कहा कि सरकार शिक्षकों को दूसरे कामों में लगाकर और उनके मांगों को पूरा करने का भरोसा देकर उसे ठंडे बस्ते में डालकर उनकी उपेक्षा कर ही रही है, उसके अलावा सरकार को इस बात की बिल्कुल भी परवाह नहीं है की अगर शिक्षक रिर्पोटिंग करेंगे तो बच्चों को पढ़ाएगा कौन, ऐसा करके सरकार शिक्षा और शिक्षक दोनों की अवहेलना कर रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: