न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

क्या सरकार ने मोमेंटम झारखंड, सरकार के 1000 दिन व माइनिंग शो के दौरान निगम क्षेत्र में बिना अनुमति लगाए थे बैनर-पोस्टर

18

Subhas Shekhar Mahto

Ranchi, 12 December : 17 फरवरी 2017 को हुए मोमेंटम झारखंड, झारखंड सरकार के 1000 दिन और माइनिंग शो के दौरान शहर भर में सरकार ने सभी स्ट्रीट लाइटों के खंभों पर बैनर-पोस्टर लगाये. निगम क्षेत्र में कई अन्य जगहों पर भी बैनर पोस्टर लगाए गए. बैनर-पोस्टर लगाने से पहले सरकार ने नगर निगम या किसी अन्य संस्था से अनुमति ली थी या नहीं, newswing.com ने इसकी पड़ताल की.  पड़ताल के दौरान हमने नगर निगम, स्ट्रीट लाइट व खंभों पर अधिकार रखने वाली कंपनी ब्राइट न्यूल साइन प्राइवेट लिमिटेड और सरकार के लिए होर्डिंग, बैनर-पोस्टर लगाने वाली कंपनी मार्क एडवरटाइजिंग एजेंसी से संपर्क किया. किसी ने भी अनुमति देने की बात साफ-साफ नहीं स्वीकार की है.

इसे भी पढ़ें- माइनिंग शो में सरकार ने शहर में लगाए 112 होर्डिंग, 1444 पोल फ्रेम व 134 रोड साइड बैनर

दूसरी एजेंसी लगाती है सरकारी विज्ञापन के होर्डिंग्स : ब्राइट

ब्राइट कंपनी के रांची प्रभारी बिपिन कुमार वर्मा ने बताया कि सड़कों के बीच स्ट्रीट लाइट के खंभों पर सरकारी विज्ञापन के होर्डिंग्स किसी दूसरी एजेंसी के द्वारा लगवाये जाते हैं. ब्राइट कंपनी ने इन खंभों पर सिर्फ लाइट लगाया है और मेंटेनेंस का काम करती है. इस दौरान यहां पर जितने भी सरकारी विभाग के विज्ञापन लगाये गये, उसकी कोई जानकारी उनके पास नहीं है.

संबंधित एजेंसी की जिम्मेदारी : संदीप कर्ण

नगर निगम के बाजार शाखा के प्रमुख संदीप कर्ण ने बताया कि जिस कंपनी को स्ट्रीट लाइट के लगाने और मेंटनेंस का टेंडर हुआ है, उसी को वहां पर विज्ञापन लगाने का अधिकार है. वह वहां निमयमानुसार किसका विज्ञापन लगवाता है. उसके एवज में कितना पैसा चार्ज करता है,  यह संबंधित ऐजेंसी की जिम्मेदारी और जवाबदेही है.

यह भी पढ़ें : यह झारखंड की राजधानी रांची है ? या बीजेपी की पोस्टर और बैरियर वाली कोई बस्ती

यह भी पढ़ें : ऐशो आराम में डूबे शासकों का अंत हर दौर में हुआ है, झारखंडी संदर्भ भी यह आकार ले रहा

जानकारी हमारे पास नहीं : अरुण श्रीवास्तव

मार्क ऐड एजेंसी के अरुण श्रीवास्तव ने बताया कि हमारे पास ज्यादा ऐड स्पेस नहीं है. हम सिर्फ सर्विस प्रोवाइडर हैं. दूसरी एजेंसियों से ऐड स्पेस लेते हैं और वहां विज्ञापन या बैनर लगवा देते हैं. अनुमति ली गई या नहीं यह हम नहीं बता सकते हैं. इसके बारे में जानकारी रांची नगर निगम दे सकती है.

जानिये माइनिंग शो के दौरान कितने लगे थे सरकार के होर्डिंग्स

कुल होर्डिंग्स – 112

कुल पोल फ्रेम बैनर्स – 1444

कुल रोड साइड बैनर – 134

किस रोड में कितने होर्डिंग्स व बैनर

1- बूटी मोड़ से राजभवन, मेयर्स रोड, हॉट लिप्स चौक से रातू रोड चौराहा तक

कुल होर्डिंग्स – 08

कुल पोल फ्रेम बैनर्स – 163

2- बिरसा चौक से प्रोजेक्ट बिल्डिंग सचिवालय, एचइसी एरिया

कुल होर्डिंग्स – 03

कुल पोल फ्रेम बैनर्स – 389

कुल रोड साइड बैनर – 134

3- मोरहाबादी से कचहरी, सर्कुलर रोड, पुरुलिया रोड

कुल होर्डिंग्स – 02

4- कचहरी से डोरंडा कॉलेज

कुल होर्डिंग्स – 26

कुल पोल फ्रेम बैनर्स – 52

5- डोरंडा कॉलेज से एयरपोर्ट, बिरसा चौक, बाईपास से अरगोड़ा चौक तक

कुल होर्डिंग्स – 35

कुल पोल फ्रेम बैनर्स – 451

6. पिस्का मोड़ से रातू रोड चौराहा, हरमू बाईपास से अरगोड़ा चौक तक

कुल होर्डिंग्स – 13

कुल पोल फ्रेम बैनर्स – 231

7. सीएम हाउस से कांके रोड चांदनी चौक तक

कुल पोल फ्रेम बैनर्स – 43

8. बूटी मोड़ से कोकर, कांटाटोली चौक, सिरम टोली, सरकारी बस स्टैंड तक

कुल होर्डिंग्स – 08

कुल पोल फ्रेम बैनर्स – 115

यह भी पढ़ें : झारखंड की जनता को आपसे नहीं रही ‘आस‘ दास जी

यह भी पढ़ें : पोस्टरों का नेता जब तक जनता का नेता नहीं बनेगा, झारखण्ड की दुर्दशा जारी रहेगी

इससे कहीं ज्यादा होर्डिंग्स और बैनर रघुवर सरकार के 1000 दिन व मोमेंटम झारखंड के दौरान लगाये गये थे. जिसका हिसाब-किताब न तो रांची नगर निगम के पास है और न ही ब्राइट न्यूल साइन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के पास. ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि आखिर किसकी अनुमति से झारखंड सरकार के विज्ञापन के होर्डिंग्स- व विज्ञापन पूरे शहर में पाटने के लिए किसी से अनुमति ली थी या नहीं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: