न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

क्या आप हैं नरेंद्र मोदी एंड्रॉइड एप यूजर, तो आपकी निजी सूचनाएं ले गयी विदेशी कंपनी, फ्रांसीसी शोधकर्ता का दावा

27

New Delhi: देश और दुनिया में डेटा चोरी, उसके राजनीतिक इस्तेमाल को लेकर मचे बवाल के बीच एक और विवाद को हवा मिल रही है. अब नरेंद्र मोदी एंड्रॉइड एप के जरिये यूजर्स की निजी जानकारी, तीसरे पक्ष को बगैर यूजर्स की जानकारी के दिये जाने का मामला सामने आया है. फ्रांस के सुरक्षा मामलों के शोधकर्ता इलियट एल्डर्सन ने दावा किया है कि नरेंद्र मोदी एंड्रॉइड ऐप बगैर यूजर्स की सहमति के उपयोगकर्ताओं की व्यक्तिगत जानकारी साझा करते हैं. शोधकर्ता इलियट एल्डर्सन का दावा है कि ये जानकारी अमेरिकी कंपनी क्लैवर टैप को मिल रही है.

mi banner add

इसे भी पढ़ें:महज साढ़े तीन सौ रुपये में बिकती है आपकी फेसबुक लॉग-इन जानकारी !

गौरतलब है कि एल्डर्सन ने कई ट्वीट्स साझा किए हैं जो दावा करते हैं कि जब उपयोगकर्ता नरेंद्र मोदी एंड्रॉइड ऐप पर अपनी प्रोफ़ाइल बनाते हैं, तो उनकी डिवाइस की जानकारी, साथ ही साथ व्यक्तिगत डेटा भी एक ऐसे तीसरे दल के डोमेन को भेजा जाता है, जिसे in.wzrkt.com कहा जाता है, जो जाहिरा तौर पर अमेरिका की कंपनी है. गौरतलब है कि ये एपलीकेशन नई दिल्ली में अकबर रोड में भाजपा कार्यालय के पते पर मोदी नरेंद्र राम के नाम पर पंजीकृत है.

इसे भी पढ़ें:झारखंड राज्यसभा चुनाव का कैल्कूलसः यूपीए को एक विधायक ने दिया धोखा,  बीजेपी को कोसने वाले ने ही दिया एनडीए का साथ

क्लैवर टैप कंपनी को मिल रही जानकारी

pic

शोधकर्ता के अनुसार,  एप के यूजर्स की साझा की जा रही जानकारी में ऑपरेटिंग सॉफ़्टवेयर, नेटवर्क प्रकार, कैरियर शामिल हैं. इसके साथ ही  ईमेल, फोटो, लिंग और नाम जैसी उपयोगकर्ताओं की व्यक्तिगत जानकारी भी सहमति के बिना क्लैवर टैप के साथ साझा की जा रही है. दरअसल “जब आप आधिकारिक @narendramodi #Android एप्लिकेशन में कोई प्रोफ़ाइल बनाते हैं,  तो आपकी सभी डिवाइस जानकारी (OS, नेटवर्क प्रकार, कैरियर …) और इतना ही नहीं बगैर आपकी सहमति के व्यक्तिगत डेटा (ईमेल, फोटो, लिंग, नाम, …)  तीसरे पक्ष जिसका डोमेन http: //in.wzrkt.com पर साझा हो रही है और यह डोमेन एक क्लैवर टैप नामक अमेरिकी कंपनी से संबंधित है.

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

इसे भी पढ़ें: चारा घोटाला: दुमका ट्रेजरी केस में लालू को 7-7 साल की सजा, 30-30 लाख का जुर्माना

कांग्रेस ने छेड़ा डिलीट नमो ऐप अभियान

कांग्रेस ने सोशल मीडिया ट्विटर पर लोगों से नरेंद्र मोदी एप को अपने मोबाइल से हटाने की अपील की है. पार्टी की सोशल मीडिया टीम ने इस बावत ट्विटर पर अभियान छेड़ा है. कांग्रेस का आरोप है कि नमो एप डाउनलोड करने से यूजर की व्यक्तिगत सूचनाएं उसकी अनुमति के बिना तीसरे पक्ष के पास चली जाती है. हालांकि बीजेपी ने इन आरोपों को झूठ बताया है और इसे कांग्रेस का प्रोपगैंडा करार दिया है. कांग्रेस की सोशल मीडिया टीम का नेतृत्व कर रही दिव्या स्पंदना ने कहा है कि नमो एप को मोबाइल पर डाउनलोड करने के बाद इसके जरिये यूजर के निजी डाटा पर सेंधमारी की जाती है. उन्होंने कहा है कि लोगों को इस एप को अपने मोबाइल से तुंरत डिलीट करना चाहिए. झारखंड कांग्रेस के अध्यक्ष डॉ अजय कुमार ने कहा है कि नमो एप आपके डाटा के जरिये आपके व्यवहार पर नियंत्रण करता है.

क्या है नमो एप ?

बता दें कि नमो एप पीएम नरेंद्र मोदी का एप है. इस एप के जरिये यूजर पीएम की गतिविधियों से जुड़ा रह सकता है. इस एप पर पीएम के सभी कार्यक्रम लाइव और आर्काइव में देखे जा सकते हैं. पीएम मोदी ने इसे जून 2015 में लॉन्च किया था.  यह एप को गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध है, जहां से इसे बिल्कुल फ्री में डाउनलोड किया जा सकता हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: