न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कांग्रेस का आरोप: 2010 बिहार विधानसभा चुनाव में बीजेपी-जेडीयू ने कैम्ब्रिज एनालिटिका को दिया ठेका, फेसबुक डाटा चोरी कर दिलायी थी 90 सीटों पर जीत

21

NewDelhi: फेसबुक लीक मामले पर मचे सियासी घमासान के बाद अब बीजेपी घिरती नजर आ रही है. बीजेपी के आरोपों के बाद कांग्रेस भी हमलावर हो गई है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी पर जमकर निशाना साधा है. कांग्रेस ने एजेंसी की वेबसाइट से मिली जानकारियों के आधार पर दावा किया कि 2010 के बिहार चुनाव में बीजेपी ने इस एजेंसी की सेवाएं ली थीं. उस समय बीजेपी का जेडीयू के साथ गठबंधन था. कांग्रेस प्रवक्ता ने ये भी दावा किया कि ब्रिटिश फर्म के भारतीय पार्टनर ओवीलेने बिजनेस इंटेलिजेंस (ओबीआई) को भाजपा सहयोगी के सांसद के बेटे द्वारा चलाया जा रहा है. इतना ही नहीं ओबीआई की सेवाओं का उपयोग गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने 2009 में किया था.

 इसे भी पढ़ेंअमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में फेसबुक यूजर्स की निजी जानकारियां बनी राजनीतिक हथियार, भारत के लिए भी खतरे की घंटी

कांग्रेस ने आरोपों को किया खारिज

मीडिया को संबोधित करते हुए कांग्रेस नेता सुरजेवाला ने साफ कहा कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस या कांग्रेस अध्यक्ष ने कभी भी ब्रिटिश एजेंसी कैम्ब्रिज एनालिटिका की सेवाओं का इस्तेमाल नहीं किया है.  बीजेपी को नकली खबरों की फैक्ट्री बताते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा ने एक और फर्जी खबर तैयार की है. उन्होंने आरोप लगाया, ‘ऐसा लगता है कि फेक स्टेटमेंट्स, फेक प्रेस कॉन्फ्रेंस और फेक अजेंडा बीजेपी और उनके लॉलेसलॉ मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद का कैरेक्टर बन गया है.

इसे भी पढ़ें2010 बिहार विधानसभा चुनाव में कैम्ब्रिज एनालिटिका ने दिलायी थी 90 सीटों पर जीत, आपके Facebook डाटा की हुई चोरी ?

गौरतलब है कि इससे कुछ घंटे पहले केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस पार्टी के इस एजेंसी से कनेक्शन का दावा किया था. प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने 2019 के चुनाव प्रचार के लिए ब्रिटिश एजेंसी कैम्ब्रिज एनालिटिका को जिम्मेदारी सौंपी है, उस पर घूस लेने, सेक्स वर्कर्स के जरिए राजनेताओं को फंसाने और फेसबुक से डेटा चुराने जैसे गंभीर आरोप लगे हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने भी चुनाव प्रचार के समय इसी एजेंसी की सेवाएं ली थीं. 

डाटा लीक पर बढ़ा विवाद

गौरतलब है कि कैम्ब्रिज एनालिटिका कंपनी को लेक पूरा विवाद हुआ है जिस पर फेसबुक के करीब 5 करोड़ यूजर्स की जानकारियां लीक होने से फायदा पहुंचने के आरोप लगे हैं. मिली जानकारी के मुताबिक अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के लिए डेटा प्राप्ति के लिए पैसों के अलावे इस फर्म ने दूसरे गलत रास्ते भी अपनाए. ब्रिटेन के चैनल 4 एक स्टिंग ऑपरेशन में कैमरे के सामने पकड़े गए फर्म के सीईओ अलेक्जेंडर निक्स समेत फर्म के दूसरे टॉप एग्जिक्यूटिव ने दूसरे तरीकों के बारे में भी जानकारी दी. इस स्टिंग के फुटेज में निक्स और फर्म के मैनेजिंग डायरेक्टर मार्क को यह बताते हुए देखा गया कि चुनावों को प्रभावित करने के लिए कैसे प्रॉपेगैंडा, फेक न्यूज, हनी ट्रैप में फंसाने जैसे कृत्यों का भी सहारा लिया गया. फिलहाल कैम्ब्रिज एनालिटिका ने बिग डेटा सेंधमारी की इस खबर के सार्वजनिक होने के बाद निक्स को सस्पेंड कर दिया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: