Uncategorized

कर्नाटक विधानसभा चुनाव : आयोग से पहले सिर्फ बीजेपी ही नहीं बल्कि कांग्रेस के IT इंचार्ज श्रीवत्स ने भी किया तारीखों का एलान, कांग्रेस ने उठाया सवाल तो ट्विटर पर बना मजाक

New Delhi : मुख्य चुनाव आयुक्त ओ पी रावत ने सोमवार को एलान किया कि कर्नाटक विधानसभा के 224 सीटों के लिये चुनाव 12 मई को कराये जायेंगे और वोटों की गिनती 15 मई को होगी. पिछली बार की तरह इस बार भी चुनाव एक ही चरण में होंगे.रावत ने यहां एक प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि इन चुनावों की अधिसूचना 17 अप्रैल को जारी की जाएगी. नामांकन-पत्र दाखिल करने की आखिरी तारीख 24 अप्रैल होगी. नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख 27 अप्रैल होगी. उन्होंने कहा कि सभी इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनें (ईवीएम) वोटर वेरिफायेबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) मशीनों से जुड़ी होंगी.

इसे भी पढ़ें – रानीगंज में सांप्रदायिक दंगा : बारूद से थर्राया शहर, दो की मौत, कई घायल, बम से डीसीपी का हाथ उड़ा

प्रेस कांफ्रेस में चुनाव आयोग की हुई किरकिरी

ram janam hospital
Catalyst IAS

लेकिन कर्नाटक के चुनाव की तारीख के एलान से पहले ही चारों तरफ आयोग की किरकिरी हो रही है, क्योंकि तारीखों के एलान के पहले ही वह लीक हो गयीं. जब मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत के कर्नाटक चुनाव की तारीखों के ऐलान के वक्त प्रेस कांफ्रेंस कर रहे थे तो पत्रकारों ने उन्हें बीच में ही रोक दिया और तारीख लीक के बारे में टोका तो वह कुछ समझ नहीं पाये. फिर पत्रकारों ने उन्हें बताया कि बीजेपी के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने चुनाव की तारीखों का एलान पहले ट्वीट कर दिया. इसे सुनते ही रावत कुछ समझ नहीं पाये और फौरन उन्होंने अधिकारियों से पूछा तो वह सभी दायें-बायें देखने लगे. काफ्रेंस में मौजूद सभी पत्रकार आयोग पर और भी हमलावर हो गये.     

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें – “सौभाग्य” से घर-घर में बिजली पहुंचाने की विभाग की तैयारी

मालवीय से पहले अंग्रेजी चैनल ने दी जानकारी

नवरसलनवरसल

हालांकि अमित मालवीय ने इस बवाल पर ट्विटर पर अंग्रेजी चैनल टाइम्स नाउ का जिक्र किया और बताया कि उन्हें जानकारी उसी चैनल से मिली है और फिर उसे देखकर ही उन्होंने ट्विट किया. हालांकि मालवीय की सफाई से पहले ही इस बात पर इतना ज्यादा बवाल हो चुका था कि मामले को ठंडा होने में भी वक्त लगा. हालांकि मालवीय के ट्विट से मतगणना की तारीख 18 मई बतायी गयी थी जो आयोग की तारीख से मेल नहीं खा रहे थे. जो चुनाव आयोग के लिये राहत की बात थी.

भाजपा नेता ने ट्वीट किया था कि कर्नाटक में विधानसभा चुनाव12 मई को कराए जाएंगे जबकि वोटों की गिनती18 मई को होगी. मतदान की तारीख का खुलासा करने के मामले में तो वह सही साबित हुए, लेकिन वोटों की गिनती की तारीख के मामले में गलत साबित हुए. वोटों की गिनती15 मई को होनी है.       

इसे भी पढ़ें – न्यूज चैनलों, अखबारों और वेबसाइट्स पर कोबरा पोस्ट का स्टिंग ऑपरेशन : वीडियो में सनसनीखेज खुलासा

सुरजेवाला ने ट्विट कर खुद की करायी फजीहत

वहीं मालवीय के ट्विट के कुछ देर बाद ही कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्विट किया और बीजेपी पर सवाल उठाया. उन्होंने ट्विट में लिखा कि,  

भाजपा ने चुनाव आयोग से पहले ही कर्नाटक के चुनावों की तारीखों का ऐलान किया। चुनाव आयोग की विश्वसनीयता को ये सीधी चुनौती है।प्रश्न यह है- 1.क्या संवैधानिक संस्थाओं का डेटा भी भाजपा चुरा रही है? 2. क्या चुनाव आयोग श्री अमित शाह को नोटिस देगा और भाजपा के IT सेल पर FIR दर्ज करवाएगा?

लेकिन सुरजेवाला अपने ही ट्विट पर ट्रोल हो गये. उनके ट्विट पर कई ऐसे रीट्वीट आये कि सुरजेवाला को ट्विट करना और बीजेपी पर सवाल उठाना महंगा पड़ा. चूंकि मालवीय ने जो तारीख को लेकर ट्वीट किया था , उसका वक्त 11.08 बजे थे. जबकि इससे पांच मिनट पहले ही टाइम्स नाउ ने कर्नाटक चुनाव के तारीखों का एलान कर दिया था. इससे भी सुरजेवाला को तारीख को लेकर मालवीय को साथ ही बजेपी पर भी सवाल उठाना महंगा पड़ा.  

कांग्रेस ने भी किया था तारीखों का एलान

वंमव

हालांकि कर्नाटक कांग्रेस IT इंचार्ज श्रीवत्स ने भी चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले ही मालवीय की तरह ही 11.08 बजे ही कर्नाटक चुनाव की तारीख के साथ ही मतगणना की तारीख भी बता दी थी. लेकिन श्रीवत्स ने भी मतगणना का तारीख मालवीय की तरह ही 18 मई बताया था. जो कि गलत निकली. अब कांग्रेस की ओर से बीजेपी को घेरना पूरी तरह से महंगा पड़ गया.

इसे भी पढ़ें – नमो एप के जरिये 50 लाख से ज्यादा यूजर्स का डाटा हुआ चोरी, अल्ट न्यूज का दावा, राहुल गांधी ने कसा तंज

पूरे मामले पर मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा है कि लोग अटकलें लगा सकते हैं, लेकिन चूंकि सूचना  लीक  हुई है, इसलिए चुनाव आयोग मामले की जांच करेगा और  कानूनी एवं प्रशासिनक  रूप से  सख्त कार्रवाई करेगा. साथ ही रावत ने बाद में कहा कि मालवीय का ट्वीट गलत था, क्योंकि वोटिंग की असल तारीख18 मई नहीं बल्कि15 मई है.

  न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button