न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एलीट वर्ग के चुंबन लेने पर बुराई नहीं तो आदिवासियों के चुंबन पर बवाल क्यों – साइमन

42

 Dumka : झारखंड की राजनीति में इन दिनों पाकुड़ में आयोजित चुंबन प्रतियोगिता काफी गरमायी हुई है. सड़क से लेकर सदन तक इसपर बवाल हो चुका है. वहीं चुंबन प्रतियोगिता के मामले में झामुमो नेता साइमन मरांडी सभी ओर से घिर चुके हैं क्योंकि वह य़िस प्रतियोगिता के दौरान वहां मौजूद थे. हालांकि पार्टी अध्यक्ष शिबू सोरेन के द्वारा मिले नोटिस का उन्होंने अब तक जवाब नहीं दिया है और वह अपने स्टैंड पर अब भी कायम हैं.

इसे भी पढ़ें – शीतकालीन सत्र ऐसा जैसे शराब और चुंबन प्रतियोगिता के अलावा झारखंड में कोई मुद्दा ही ना हो

इसे भी पढ़ें – मिशनरीज को बढ़ावा देने के लिए अंग्रेजों ने जबरन हड़पी थी आदिवासियों की जमीन : महावीर विश्वकर्मा

चुंबन प्रतियोगिता पर हाय-तौबा क्यों मचा है – साइमन

सत्ता से लेकर अपनी पार्टी तक के सवालों में घिरे साइमन ने स्पष्ट कर दिया है कि चुंबन प्रतियोगिता को वह गलत नहीं मानते हैं.  साइमन ने मंगलवार को इस विषय पर पत्रकारों से बातचीत करके यह कहा कि जब समाज का एलीट वर्ग किस एक्सचेंज कर सकता है और एक –दूसरे की पत्नियों को चुंबन तक लेता है. यदि इसमें कोई बुराई नहीं है तो आदिवासी समाज के लोग अपनी पत्नी को चुंबन लेते हैं तो इसपर इतना बवाल क्यों किया जाता है. हर ओर इसपर हाय-तौबा मचा हुआ है.

इसे भी पढ़ें – संथाल के लिए जहर है कि प्यार है तेरा चुम्मा, बीजेपी ने पूछा जेएमएम से

इसके साथ ही साइमन ने स्पष्ट किया कि पाकुड़ जिले के लिट्टीपाड़ा के डुमरिया गांव में जो चुंबन प्रतियोगिता करायी गयी थी, उसमें हिस्सा लेने वाले सभी आदिवासी अपनी पत्नी को ही चुंबन कर रहे थे. तो इसमें गलत क्या है और मैं भी इसे गलत नहीं मानता हूं. लेकिन यह सिर्फ कुछ खास लोगों को ही नागवार गुजर रहा है. सके साथ ही साइमन ने स्पष्ट किया कि पार्टी के नोटिस का भी वह जलवाब देंगे.               

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: