न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एमपी : धर्मांतरण का आरोप, हिरासत में 30 से ज्यादा पादरी, जलायी कार

11

Bhopal: मध्यप्रदेश के सतना शहर के एक गांव में कैरोल गा रहे ईसाई समाज के 30 से ज्यादा लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है. पुलिस सभी गिरफ्तार लोगों से पूछताछ ही कर रही थी की इसी दौरान बाहर खड़ी ईसाई समाज की कार को किसी ने आग लगा दी, हालांकि अधिकारी इसे दुर्घटना बता रहे हैं. पुलिस ने बताया कि उन्हें नहीं मालूम कि कार किसने जलाई है. उन्होंने यह भी कहा कि आईपीसी के सेक्शन 435 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है. वहीं, गिरफ्तार किए गए पादरी और ईसाई संगठनों ने बजरंग दल के कार्यकर्ताओं पर उनके वाहनों में आग लगाने का आरोप लगाया है और शिकायत दर्ज कराई है.

इसे भी पढ़ें- आजसू एक ऐसी पार्टी जो सत्ता के साथ भी और खिलाफ भी

तीन ग्रामीणों को फंसाकर धर्मांतरण कराने का आरोप

hosp3

बताया जा रहा है कि सभी आरोपी भूमकहर गांव पहुंचे थे. जिनपर बजरंग दल के कार्यकर्ताओं का आरोप है कि ईसाई समाज के लोग गांव में धर्मांतरण करने पहुंचे थे और 3 ग्रामीणों को बातों में फंसाकर धर्मांतरण भी किया. शुक्रवार को सेंट एफ्रफ थियोलॉजिकल कॉलेज में पढ़ाने वाले एम जॉर्ज और पांच अनजान लोगों पर 21 वर्षीय भुमकार गांव के निवासी धर्मेंद्र दोहर की शिकायत पर धर्म अधिनियम की स्वतंत्रता एवं धारा 153-बी और 295-ए के तहत मामला दर्ज किया गया है.

इसे भी पढ़ें- मुख्य सचिव राजबाला मुश्किल में, आधार से राशन कार्ड जोड़ने का आदेश मामले में UIDAI ने दिया जांच कर कार्रवाई का निर्देश

गैर कानूनी तरीके से धर्मान्तरण कर ईसाई बनाने का आरोप

शिकायत में धर्मेन्द्र ने आरोप लगाया है कि 10 दिसंबर को गैर कानूनी तरीके से धर्मान्तरण कर उसे ईसाई बनाया गया है और इसके लिए उसे पैसे ऑफर किये गये थे. धर्मेंद्र ने बताया कि मिशनरी इस गांव में पिछले दो वर्ष से सक्रिय हैं और धर्मांतरण के लिए तालाब में डुबकी लगाने के बाद उसे 5 हजार रुपये, एक क्रॉस और बाइबिल दी गई. वहीं दूसरी ओर कैथलिक बिशप्स कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया (सीबीसीआई) ने जबरदस्ती धर्मांतरण कराने के आरोपों से इनकार किया है.

इसे भी पढ़ें- सीएम सर ने सच कहा, मीडिया का काम सत्य को प्रकाश में लाने का है, सत्य के लिए देखें दो वीडियो

गांव की स्थिति गंभीर देखते हुए थाने लाये गये थे सभी पादरी

सिविल लाइंस पुलिस थाने की सब-इंस्पेक्टर मोहिनी शर्मा ने बताया कि जॉर्ज को बेल पर छोड़ दिया गया है. वहीं धर्मेंद्र का धर्मांतरण कराने वाले पांच लोगों की पहचान होनी बाकी है. उन्होंने दावा किया कि पुलिस इन पादरियों और सेमिनरीज को थाने इसलिए लेकर आयी थी क्योंकि बजरंग दल कार्यकर्ताओं की मौजूदगी के कारण गांव में स्थिति गंभीर हो रही थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: