Uncategorized

एटीएम सर्विसिंग कंपनियों की सेवाओं का बैंकों पर नोटबंदी के समय का अब भी 25 करोड़ रुपये बकाया: सीएलए

New Delhi: नोटबंदी के एक साल बाद भी उस दौरान एटीएम सर्विसिंग कंपनियों (सीआईटी) को एटीएम प्रणालियों को पुनर्वव्यवस्थित करने के काम का बैंकों ने अभी तक 25 करोड़ की बकाया राशि का भुगतान नहीं किया है. इन कंपनियों ने नोटबंदी के दौरान अतिरिक्त सेवाओं के एवज में भुगतान किया जाना है. कैश लॉजिस्टिक एसोसिएशन (सीएलए) ने आज यह जानकारी दी.

यह भी पढ़ें: 22-23 बड़े कर्ज में डूबे खातों को NCLT भेजेंगे बैंक

अब तक केवल 60 प्रतिशत राशि का किया गया भुगतान 

सीएलए के महासचिव यू एस पालीवाल ने कहा कि इन कंपनियों ने पुराने 500 और 1000 रुपये के नोटों को एटीएम से निकालने और करीब 1.5 लाख एटीएम को नए पांच सौ और दो हजार रुपये के नोटों के हिसाब से परिवर्तित करने के लिए अतिरिक्त सेवाएं प्रदान कीं. इस काम में नौ कंपनियां शामिल थीं. उन्होंने कहा कि इन कंपनियों की ओर से कई बार निवेदन करने के बाद भी अब तक केवल 60 प्रतिशत राशि का भुगतान किया गया है. सीएलए ने इस मुद्दे पर भारतीय बैंक एसोसिएशन (आईबीए) से भी संपर्क किया था. पालीवाल ने कहा कि रिजर्व बैंक ने कंपनियों के प्रयासों को सराहा था और आईबीए ने सदस्य बैंकों को कंपनी के प्रयासों और सेवाओं के एवज में 4000 रुपये प्रति एटीएम का भुगतान करने के निर्देश दिए थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button