न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एक महीने में ‘जिंदगी मिलेगी दोबारा फाउंडेशन’ ने 101 लोगों को पहुंचायी मदद (देखें वीडियो)

5

NEWSWING

Ranchi, 05 December : जिंदगी मिलेगी दोबारा फांउडेशन ने मंगलवार तक 101 लोगों को मदद पहुंचायी. उपरोक्त जानकारी फाउंडेशन के सचिव जय प्रकाश सिंघानिया ने दी. उन्होंने बताया कि फाउंडेशन का शुभारंभ पांच नवंबर को हुआ था और पांच दिसंबर तक (एक महीने में) 101 लोगों की मदद की जा चुकी है. मालूम हो कि फाउंडेशन रिम्स में भर्ती मरीजों की मौत होने पर ससम्मान शव को घर तक पहुंचाने का कार्य कर रहा है. साथ ही जो लोग तत्काल एंबुलेंस सेवा से वंचित रह जाते हैं, उन्हें एंबुलेंस मुहैया कराने की सेवा प्रदान की जा रही है.

चार एंबुलेंस की है सुविधा

इसके अलावा शव ले जानेवाली एंबुलेंस में सफेद चादर, पानी की बोतल एवं फोन से परिजनों को सूचना देने की सुविधा उपलब्ध है. फांउडेशन ने इस कार्य के लिए चार एंबुलेंस की व्यवस्था की है. इसके अलावा रिम्स आनेवाले मरीजों को व्हील चेयर भी उपलब्ध कराया जाता है. इमरजेंसी से लेकर वार्ड तक फाउंडेशन के सदस्य उन्हें पहुंचाते हैं. सचिव ने यह भी बताया कि शुरू में 100 किलोमीटर तक यह सेवा मुहैया करायी जा रही थी. लेकिन लोगों की मांग को देखते हुए इसकी दूरी बढ़ायी गयी है. उन्होंने बताया इस सेवा का लाभ कोई भी उठा सकता है. एम्बुलेंस सेवा का लाभ लेने के लिए 9709500007 नंबर पर संपर्क कर सकते हैं.

फांउडेशन के सदस्यों की सक्रियता की वजह से यह मुकाम हासिल हुआ

जिंदगी मिलेगी दुबारा संस्था के अध्यक्ष अश्विनी राजगढ़िया ने कहा कि हमने सैकड़ों लोगों की मदद की है. इस मुकाम को हासिल करने में फांउडेशन के सदस्यों की सक्रियता है, जिनकी वजह से हम शीघ्र ही अन्य जिलों में भी इस सेवा का विस्तार करने जा रहे है. इस फाउंडेशन में आलोक अग्रवाल, अरविंद मंगल, हर्षवर्धन बजाज, जयप्रकाश सिंघानिया, कुणाल बोरा, निखिल केडिया, रमन सब्बू, साकेत सर्राफ, सचिन सिंघानिया, सौरभ मोदी, विक्रम सब्बू, विपुल अग्रवाल, विनित अग्रवाल, विवेक बागला की अहम भूमिका है. सभी सदस्यों ने एक सुर में कहा है कि चाहे कोई भी समस्या क्यों न आये, हमारी मदद जरूरतमंदों तक पहुंचेगी. एम्बुलेंस सेवा के संचालन में अनिल, राहुल, राजू, आशीष, शंभु, फिरोज, कलीम का भी भरपूर सहयोग रहता है.

गरीब और असहाय लोगों की मदद से होती है सुखद अनुभूति : अनिल

फाउंडेशन में कार्यरत कर्मचारी अनिल ने कहा कि नर सेवा ही नारायण सेवा है. बस इसी उद्देश्य के साथ हर रोज मरीजों की सेवा में हम सभी फाउंडेशन के लोग तत्पर है. पूरी निष्ठा के साथ लोगों की सेवा में जुटे हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: