Uncategorized

उत्तर प्रदेश : पुलिसकर्मियों को ट्रकों से वसूली करने से रोका तो आईपीएस के ही तोड़ दिये हाथ-पैर

Uttar Pradesh : उत्‍तर प्रदेश में पुलिसकर्मियों द्वारा अपने ही ऑफिसर पर हमला कर हाथ-पैर तोड़ देने का मामला प्रकाश में आया है. मामला उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के गिरवा थाना क्षेत्र का है. दरअसल गिरवा थाना के पुलिसकर्मी रेत भरे ट्रकों से अवैध वसूली कर रहे थे. उसी दौरान लखनऊ के पुलिस मुख्यालय द्वारा भेजा गया एक विशेष दल मौके पर पहुच गया. दल में शामिल आईपीएस अधिकारी ने वसूली कर रहे पुलिसकर्मियों को रोका तो उन्होंने आईपीएस हिमांशु पर हमला कर दिया और उनके हाथ-पैर तोड़ डाले. मामले को लेकर थाना प्रभारी विवेक प्रताप सिंह और एक सिपाही को सस्पेंड कर दिया गया है. वहीं, चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है.

इसे भी पढ़ें- रिम्स के एक वेंटिलेटर के भरोसे रहते हैं इमरजेंसी वार्ड में आने वाले गंभीर मरीज

डीजीपी को मिली थी अवैध वसूली की शिकायत

जानकारी के अनुसार डीजीपी को रेत से भरे ट्रकों से पुलिस द्वारा पैसा वसूलने की शिकायत लगातार मिल रही थी. डीजीपी ने एक विशेष टीम को बांदा भेजा था. इस दल ने पुलिस वालों को वसूली करते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया. पुलिस अधीक्षक शालिनी ने बताया कि ट्रकों से वसूली की शिकायत पर डीजीपी ने गोपनीय तरीके से वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी हिमांशु कुमार और मोहित गुप्ता के नेतृत्व में पुलिस अधिकारियों के एक दल को गिरवां थाने भेजा था.

इसे भी पढ़ें- बकोरिया कांडः 10-12 साल व 14 साल के बच्चों को मार कर पुलिस ने कुख्यात नक्सली बताया था

कोर्ट की कड़ी हिदायत के बाद भी बाज नहीं आते रेत माफिया

बांदा जिले में एनजीटी, उच्च न्यायालय और राज्य सरकार की कड़ी हिदायत के बाद भी रेत माफिया अपनी करतूतों से बाज नहीं आते हैं. उत्‍तर प्रदेश सरकार ने भी मशीनों से रेत खनन न करने की सख्‍त हिदायत दे रखी है. लेकिन इसका असर खनन माफियाओं पर नहीं पड़ता है. वैध खदानों के अलावा भी यहां पुलिस और अन्‍य अधिकारियों की मिलीभगत से शाम ढलते ही केन और बागै नदियों से अवैध तरीके से खनन का काम शुरू कर दिया जाता है.

विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button