Uncategorized

आनेवाले दिनों में भारत में गहरा सकता है जल संकट, सैटेलाइट से मिले संकेत

Newswing Desk: आमतौर पर कहा जाता है कि तीसरा विश्व युद्ध पानी के लिए होगा. जल के समिति साधनों का लगातार दोहन, घटते जल स्तर पहले से ही इस बात की तस्दीक कर रहे हैं कि आनेवाले दिनों में पानी की कमी एक बड़ी समस्या होगी. अब तो सेटेलाइट से मिले संकेत भी यही बता रहे हैं. उपग्रहीय सूचना-संकेतों से चेतावनी मिली है कि स्पेन, मोरक्को और इराक समेत भारत में जलाशयों के सूखने से आगे पानी का संकट गहरा सकता है. मध्य प्रदेश स्थित इंदिरा सागर बांध और गुजरात के सरदार सरोवर जलाशय के जल स्तर में कमी आई है. जिसका कारण बरसात में कमी बताई जा रही है.  बता दें कि इन जलाशयों के पानी से लाखों लोगों की प्यास बुझती है. 

इसे भी पढ़ेंरेल हादसा: लखीसराय में मौर्य एक्सप्रेस की बोगी में घुसी रेल पटरी, एक की मौत, दो घायल

सिकुड़ रहा जलाशय

Catalyst IAS
ram janam hospital

लविसकर

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

अंग्रेजी अखबार गार्जियनकी रिपोर्ट के मुताबिक, उपग्रह से प्राप्त संकेतों के आधार पर पूर्वानुमान जाहिर करने वालों के अनुसार, जलाशयों के सिकुड़ने से आगे पानी का संकट बढ़ सकता है. वर्ल्ड रिसोर्सेस इंस्टीट्यूट (डब्ल्यूआरआई) के मुताबिक, बढ़ती मांग, कुप्रबंधन और जलवायु परिवर्तन के कारण कई अन्य देश भी इसी प्रकार के संकट के जूझ रहे हैं.  अमेरिका स्थित पर्यावरण संगठन, डेल्टारेस, डच सकार व अन्य साझेदारों के साथ मिलकर जल व सुरक्षा संबंधी पूर्व चेतावनी पर काम कर रहा है जिसका मकसद सामाजिक स्थिरता, आर्थिक नुकसान और सीमापार आव्रजन का आकलन करना है. 

इसे भी पढ़ें:अमेरीका ने फ्रांस, ब्रिटेन के साथ मिलकर किया सीरिया पर हमला, रुस ने परिणाम भुगतने की दी चेतावनी

घटते जलस्तर ने बढ़ायी चिंता

ज्ञात हो कि इंदिरा सागर और सरदार सरोवर बांध जलाशय को पानी नर्मदा नदी से मिलता है. पिछले साल बारिश कम होने से इंदिरा सागर का जल स्तर औसत मौसमी जल स्तर से कम रहा, जोकि अब तक तीसरा सबसे निचला स्तर है. वहीं, सरदार सरोवर जलाशय में भी पानी का स्तर घट गया है जिसके बाद पिछले महीने गुजरात सरकार ने जलाशय के पानी से खेतों की सिंचाई रोक दी क्योंकि यहां से तीन करोड़ लोगों को पीने का पानी मिलता है. वहीं, जल संसाधन मंत्रालय के शुक्रवार के बयान के अनुसार, देश के 91 बड़े जलाशयों में 12 अप्रैल को 40.857 बीसीएम पानी था, जोकि इन जलाशयों की कुल संग्रहण क्षमता का 25 फीसदी है. इससे पहले पांच अप्रैल को इन जलाशयों में कुल संग्रहण क्षमता का 27 फीसदी पानी था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button