न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आदिवासियों का पारंपरिक ज्ञान तेजी से घट रहा, आठ जनजातीय समूहों पर हुए शोध में सामने आई बात

14

News Wing

Thiruvananthapuram, 12 December : एक अध्ययन का कहना है कि जनजातियों में पीढ़ी-दर पीढ़ी पहुंचने वाले पारंपरिक ज्ञान में बहुत क्षरण हुआ है और अब वह धीरे धीरे गायब होता जा रहा है. भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी एवं प्रबंधन संस्थान, केरल (आईआईटीएम-के) के अध्ययन में बताया गया है कि परंपरागत ज्ञात का क्षरण जनजातीय युवावर्ग खासकर पुरुषों में ज्यादा हुआ है. आईआईटीमएम के सूत्रों ने बताया कि भारत में अपनी तरह का यह पहला अध्ययन पारंपरिक ज्ञान का मात्रात्मक अनुमान प्रदान करता है जो खतरनाक दर से गायब होता जा रहा है.

क्षरण खतरनाक स्तर पर

पश्चिमी घाट पर आठ जनजाति समुदायों के बीच आईआईटीएम के ‘सी. वी रमन लेबोरेटरी ऑफ इकॉलोजिकल इनफॉर्मेटिक्स’ (सीवीआरएलईआई) द्वारा कराये गये अध्ययन में बताया गया है, ‘‘पारंपरिक ज्ञान का क्षरण खतरनाक स्तर पर है. ’’ सीवीआरएलईआई के प्रमुख जयशंकर आर नैय्यर ने कहा, ‘‘परंपरागत ज्ञान का क्षरण भौगोलिक धरोहर स्थलों के अस्तित्व के लिए खतरनाक है. यह अध्ययन किसी भी कीमत पर इस पारंपरिक ज्ञान के संरक्षण की आवश्यकता रेखांकित करता है.’’

इसे भी पढ़ें : शिवसेना का मोदी पर हमला, कहा : गुजरात चुनाव जीतने के लिए पाकिस्तान को घसीटना एक ‘‘नापाक’’ कोशिश

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: