न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आज के दौर में टेलीविजन का इडियोटिकरण, मीडिया की मदद से जनता की मानसिकता बदलने में लगी राजनीतिक पार्टियां

79

Asif Asrar

टेलीविजन का अविष्कार 1930 में हुआ,लेकिन टेलीविजन को बनाने की प्रकिर्या 1920 से ही शुरू हो गई थी. वैसे तो टेलीविजन बनाने में बहुतों का हाथ रहा है लेकिन फादर ऑफ टेलीविजन जॉन लोगी बार्ड को माना जाता है. सबसे अनोखी बात ये है कि जॉन जिन्होंने टेलीविजन का अविष्कार किया उन्ही के घर मे टेलेविजन नहीं था. जॉन का कहना था इससे इंसान को कोई फायदा नहीं है, इसलिए टेलीविजन को इडियट बॉक्स भी कहा गया.

इसे भी पढ़ें- रांची: भारत बंद के दौरान समर्थकों का उत्पात, आदिवासी हॉस्टल को खाली करने को निर्देश, पुलिस ने संभाला मोर्चा,  देखें वीडियो

इस दौर में टेलीविजन को इडियट बॉक्स क्यों कहा गया ये हम टेलेविजन (न्यूज चैनल) चालू करते ही समझ सकते हैं. हर तरफ एक ही तरह के मुद्दे और एक ही तरह के एजेंडे से न्यूज चैनलों द्वारा टेलीविजन का इडियोटिकरण किया जा रहा है. हाल ही में कोबरापोस्ट द्वारा किये गए स्टिंग से सामने आया है कि कैसे देश के 17 बड़े मीडिया संस्थान जिसमे इंडिया टीवी,दैनिक जागरण, यूएनआई भी शामिल हैं जो  पैसों के लिए एक विचारधारा के प्रचारक बने घूम रहे हैं. मीडिया की मदद से राजनीतिक पार्टियां जनता की मानसिकता बदलने में लगे हैं.

इसे भी पढ़ें- भारत बंद: रांची में बंद समर्थकों का हंगामा, पुलिस ने भांजी लाठी, देखें वीडियो

टेलीविजन के इडियोटिकरण होने के कुछ उदहारण, कुछ चैनल के एंकरों को देखकर पता लगाया जा सकता है. ऐसा लगता है जैसे वो एक अदालत चला रहे हैं और उस अदालत के वकील भी खुद हैं और न्यायमूर्ति भी वही हैं. एक पत्रकार ने प्रधानमंत्री से इंटरव्यू में पूछा कि आप विदेश में सब से दोस्ती कैसे कर लेते हैं ? एक चैनल किम जोंग में लगा रहता है. एक चैनल ने तो प्रवक्ताओं को ही पत्रकार बना डाला.

इसे भी पढ़ें- इसे भी पढ़ें- एससी-एसटी एक्ट मामले में सरकार पर बढ़ा दबाव, कोर्ट में 2 अप्रैल को पुनर्विचार याचिका दाखिल कर सकती है मोदी सरकार

टेलीविजन के इडियोटिकरण के समय में ये बात हर दर्शक को खुद से पूछना जरूरी हो गया है कि हम टेलीविजन क्यों देखते हैं? मीडिया को जिसे लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा गया है क्या वो अब गिरता नजर आ रहा है ? जनता को ये बात समझना होगा कि मीडिया जनता की आवाज है लेकिन अब सरकार की आवाज बनती नजर आ रही है.

इसे भी पढ़ें- CBSE पेपर लीक मामले का खुलासा : शिक्षकों ने सुबह 9:15 बजे पेपर की फोटो क्लिक की और कोचिंग सेंटर के मालिक को भेज दिया, फिर मालिक ने छात्रों में बांट दिया पेपर

हाल ही में मैंने कुछ पत्रकारों से एक सवाल पूछा, आपको क्या लगता है भारत में प्रेस आजाद है ? तो न्यूज नेशन के एक पत्रकार ने कहा कि कॉरपोरेट से चल रही मीडिया के अंदर आजादी की बात करना ही झूठ है. कभी इसके खिलाफ खबर मत लिखो और कभी उसके खिलाफ खबर मत लिखो कहा जाता है. वहीं बिजनेस स्टैण्डर्ड के पत्रकार ने कहा, आजादी किस बात की?  जो पूंजी लगाता है कुछ-कुछ उसके मुताबिक होता ह. ज्यादा कुछ उसके मुताबिक होता है जो मीडिया का सीईओ और प्रधान संपादक होता है. बाकी तो बस अपनी नौकरी करते हैं. एक और पत्रकार ने कहा कि सच्चाई तो यही है कि बिकाऊ मीडिया आजाद हो ही नहीं सकता. सरकार के खामियों पर पर्दा डालना, जरूरी और बुनियादी मुद्दों को दरकिनार करना साथ ही सरकार की तरफदारी व प्रशंसा के इस दौर में टेलीविजन को इडियट बॉक्स कहना गलत नहीं है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: