न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

आईएनएक्स मीडिया मामला में 24 मार्च तक की न्यायिक हिरासत में भेजे गये कार्ति चिदंबरम

32

New Delhi : दिल्ली की एक कोर्टने आईएनएक्स मीडिया घोटाले मामले में सोमवार को कार्ति चिदंबरम को 24 मार्च तक की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. कोर्ट ने जमानत पर जल्द सुनवाई का आवेदन खारिज करते हुये यह आदेश दिया. विशेष न्यायाधीश सुनील राणा ने यह आदेश उस समय दिया जब सीबीआई ने कहा कि कार्ति को हिरासत में रखकर पूछताछ करने की अब जरूरत नहीं है.

eidbanner

इसे भी पढे़ं- बीएसएल के खिलाफ इनकम टैक्स की बड़ी कार्रवाई, बोकारो एसबीआई का बीएसएल अकाउंट अटैच, वसूले 3.80 करोड़ बकाया 15.20 करोड़ बकाया

15 मार्च को होगी जमानत याचिका पर सुनवाई

तिहाड़ जेल में अलग कोठरी और सुरक्षा की मांग करने वाली उनकी याचिका पर कोर्ट ने कहा कि जेल के नियमों का पालन किया जायेगा. साथ ही कोर्ट ने कहा कि उनकी जमानत याचिका पर तय समय यानि 15 मार्च को ही सुनवाई होगी. जेल में घर के भोजन के कार्ति के आग्रह को भी मानने से अदालत ने इंकार कर दिया. इस बीच प्रवर्तन निदेशालय( ईडी) द्वारा दाखिल किए गये एक मामले में फिलहाल जेल में मौजूद कार्ति के चार्टर्ड अकाउंटेंड एस भास्कररमन ने सीबीआई के आईएनएक्स मीडिया मामले में अग्रिम जमानत के लिये अदालत का रुख किया है. कार्ति चिदंबरम के पिता पी. चिदंबरम भी अदालत कक्ष में उपस्थित थे.

इसे भी पढे़ं- रांची के गर्ल्स स्कूल की पूर्व छात्राओं को टार्गेट कर रहे हैं साइबर अपराधी, चैटिंग में अश्लील मैसेज कर करते हैं ब्लैकमेल

ब्रिटेन से लौटने के दौरान गिरफ्तार किये गये थे कार्ति

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

पिछले साल15 मई को दर्ज की गयी एक प्राथमिकी के संबंध में कार्ति को ब्रिटेन से लौटने के दौरान गिरफ्तार किया गया. इसमें वर्ष2007 में उनके पिता पी. चिदंबरम के केंद्रीय वित्त मंत्री रहने के दौरान आईएनएक्स मीडिया को करीब305 करोड़ रुपये की विदेशी निधि प्राप्त करने की विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड( एफआईपीबी) द्वारा दी गई मंजूरी में हुई गड़बड़ी का आरोप लगाया गया है. सीबीआई ने शुरुआत में कार्ति पर आईएनएक्स मीडिया को एफआईपीबी की मूंजरी दिलवाने के लिए10 लाख रुपये घूस लेने का आरोप लगया था. हालांकि बाद में सीबीआई ने इन आंकड़ों को दस लाख डॉलर( वर्तमान विनिमय दर पर6.50 करोड़ रुपये और वर्ष2007 में4.50 करोड़ रुपये) बताया.

इसे भी पढे़ं- राज्यसभा के ‘रण’ का महारथी कौन ? चुनावी गणित का इशारा : फायदे में होकर भी बहुमत से दूर रहेगी बीजेपी

इंद्राणी मुखर्जी के बयान के रूप में सामने आये मामले में नये सबूत

मामले में नये सबूत इंद्राणी मुखर्जी के बयान के रूप में सामने आये जो आईएनएक्स मीडिया( प्राइवेट) लिमिटेड की पूर्व निदेशक हैं. इंद्राणी ने17 फरवरी को मजिस्ट्रेट के समक्ष अपराध दंड संहिता( सीआरपीसी) की धारा164 के तहत अपना बयान दर्ज कराया था. इंद्राणी के बयान के बाद ही कार्ति को गिरफ्तार किया गया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: