Uncategorized

अब सुगम और सुखद होगा आपका सफर, मोदी सरकार आज लॉन्‍च करेगी ‘सुखद यात्रा’ ऐप

New Delhi :  कितना अच्छा लगेगा, जब हाईवे पर वाहन चलाते वक्त आपको पहले से ही पता हो कि आगे कहां पर सड़क खराब है और कहां स्पीड कम रखनी है?  किस प्लाजा पर कितना टोल देना है?  वहां कितना वक्त लगने की संभावना है? “सुखद यात्राऐप आपकी ऐसी ही तमाम मुश्किलें आसान कर देगा.

इसे भी पढ़ें: पेरियार की मूर्ति तोड़े जाने के बाद शरारती तत्वों ने बीजेपी कार्यालय पर फेंका पेट्रोल बम, शहर में पेरियार की प्रतिमाओं पर विशेष निगरानी

नितिन गडकरी  लांच करेंगे एप के साथ इमरजेंसी नंबर

Catalyst IAS
SIP abacus

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी बुधवार को इस ऐप के साथ हाईवे इमरजेंसी नंबर 1033 लांच करेंगे. इसके अलावा हर जिले में ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर स्थापित करने तथा सड़क सुरक्षा के क्षेत्र में कार्य करने वाले गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) को वित्तीय मदद की योजना का भी शुभारंभ भी करेंगे.  भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) द्वारा तैयार सुखद यात्रा ऐप की मदद से राजमार्ग पर वाहन चलाने वाला कोई भी व्यक्ति आगे सड़क की स्थिति, टोल प्लाजा की दूरी, स्थान,  सुविधाओं, टोल सुविधाओं, टोल दर,  प्रतीक्षा अवधि आदि का पता लगा सकता है. यही नहीं,  वह सड़क के गड्ढे,  दुर्घटना आदि के बारे में शिकायत भी दर्ज करा सकता है. इस ऐप की मदद से फास्टैग की खरीदारी भी संभव है.

MDLM
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें: त्रिपुरा में लेनिन की मूर्ति तोड़ने के बाद देशभर में इस तरह की घटनायें, तमिलनाडू में पेरियार की और अब बंगाल में श्यामा प्रसाद मुखर्जी की तोड़ी गयी मूर्ति

टोल फ्री नंबर 1033

टोल फ्री नंबर 1033 डायल कर कोई भी हाईवे पर दुर्घटना की सूचना आपात सेवाओं को दे सकता है. इस नंबर को एंबुलेंस तथा वाहन उठाने वाली टो-अवे क्रेन सेवाओं के साथ लोकेशन ट्रैकिंग फीचर से जोड़ा गया है. इस पर नंबर पर विभिन्न भारतीय भाषाओं में बात की जा सकती है.

इसे भी पढ़ें:  बीजेपी नेता की FB पोस्ट के बाद तमिलनाडु में पेरियार की मूर्ति को तोड़ा, दो गिरफ्तार

सड़क सुरक्षा एनजीओ को मदद

इस स्कीम के तहत सड़क सुरक्षा संबंधी उपायों का प्रचार-प्रसार करने तथा जागरुकता कार्यक्रम चलाने वाले गैर सरकारी संगठनों/ट्रस्टों/सहकारी समितियों को सरकार की ओर से पांच लाख रुपये तक की वित्तीय सहायता प्रदान की जायेगी. प्रत्येक राज्य में सड़क सुरक्षा के लिए कार्य करने वाले व्यक्तियों को पांच लाख,  दो लाख और एक लाख रुपये के तीन पुरस्कार भी दिये जायेंगे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button