न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

अदालत ने पाक वित्त मंत्री इसहाक डार को ‘भगोड़ा’ घोषित किया

24

News Wing

eidbanner

Islamabad, 11 December : पाक की एक भ्रष्टाचार-निरोधी अदालत ने संकट से घिरे वित्त मंत्री इसहाक डार को ‘भगोड़ा’ घोषित किया है. पनामा पेपर्स से जुड़े भ्रष्टाचार के एक मामले में अदालत में बार-बार अनुपस्थित रहने के कारण उनके खिलाफ यह कार्रवाई की गयी है. अदालत ने डार को तीन दिन के भीतर मुचलका जमा करने का निर्देश दिया है. अदालत ने आगाह किया है कि ऐसा करने में विफल रहने पर अधिकारी उसकी संपत्ति जब्त कर लेंगे. डार अभी लंदन में उपचार करा रहे हैं. अक्तूबर में 67 वर्षीय डार पर आय के ज्ञात स्रोत से अधिक संपत्ति बनाने का मामला दर्ज किया गया था.

इसे भी पढ़ें : पाकिस्तान ने भारत से कहा, अपनी घरेलू राजनीति में हमें ना घसीटें

डार अक्तूबर से लंदन में
पनामा पेपर्स मामले में पाकिस्तान के उच्चतम न्यायालय द्वारा 28 जुलाई को नवाज शरीफ को अयोग्य ठहराये जाने की पृष्ठभूमि में राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरी (नैब) ने डार पर मामला दर्ज किया था. प्रधानमंत्री को अयोग्य घोषित किये जाने के उच्चतम न्यायालय के फैसले के कुछ सप्ताह बाद नैब ने शरीफ, उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ भ्रष्टाचार के तीन और वित्त मंत्री डार के खिलाफ एक मामला दर्ज किया था. डार अक्तूबर से लंदन में हैं और हृदय से जुड़ी एक अज्ञात बीमारी का हार्ले स्ट्रीट अस्पताल में इलाज करा रहे हैं. वित्त मंत्री के वकील ने उनकी नयी मेडिकल रिपोर्ट अदालत में प्रस्तुत की और उन्हें ‘भगोड़ा’ घोषित नहीं करने का आग्रह किया.

Related Posts

पूर्व सीजेआई आरएम लोढा हुए साइबर ठगी के शिकार, एक लाख रुपए गंवाये

साइबर ठगों ने  पूर्व सीजेआई आरएम लोढा को निशाना बनाते हुए एक लाख रुपए ठग लिये.  खबर है कि ठगों ने जस्टिस आरएम लोढा के करीबी दोस्त के ईमेल अकाउंट से संदेश भेजकर एक लाख रुपए  की ठगी कर ली.

इसे भी पढ़ें : येरुशलम मामले में अलग-थलग पड़ा अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन भी ट्रंप के खिलाफ

पिछले महीने दायित्व से मुक्त कर दिया गया
नैब के विशेष अभियोजक इमरान शफीक ने यह कहते हुए याचिका का विरोध किया कि अदालत में पेश की गयी रिपोर्ट एक-दूसरे से भिन्न हैं. न्यायाधीश मोहम्मद बशीर ने डार की नयी रिपोर्ट को स्वीकार करने से इनकार करते हुए उन्हें ‘भगोड़ा’ घोषित कर दिया. अदालत ने मामले की सुनवाई की 14 दिसंबर के लिए स्थगित कर दिया. 
डार ने तीन माह के अवकाश का आग्रह किया था, जिसके बाद उन्हें पिछले महीने दायित्व से मुक्त कर दिया गया था.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: