न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अगले साल वेतन वृद्धि बेहतर रहने की उम्मीद!

11

News Wing

New Delhi, 11 December: रोजगार क्षेत्र के लिये वर्ष 2017 चुनौतीपूर्ण रहने के बाद अब 2018 में योग्य प्रतिभाओं को 10 से 15 प्रतिशत तक की वेतनवृद्धि मिल सकती है. नोटबंदी के बाद कपड़ा और दूसरे परंपरागत क्षेत्रों में छंटनी से रोजगार बाजार काफी चुनौतीपूर्ण बन गया था.

2018 में नियुक्ति में भी आएगा सुधार

रोजगार संबंधी सलाह सेवा देने वाली कंपनी मैनपावर ग्रुप के भारतीय आर्थिक परिदृश्य रिपोर्ट में यह बात कही गयी है. मौजूदा साल के दौरान नोटबंदी के कारण कपड़ा उद्योग जैसे पारंपरिक क्षेत्रों तथा कृत्रिम इंटेलीजेंस के कारण अत्याधुनिक क्षेत्रों में चुनौतियां सामने आयीं. इन कारणों से रोजगार उद्योग के लिए यह साल मुश्किलों भरा रहा. रिपोर्ट के अनुसार, देश में रोजगार प्रदाताओं द्वारा नियुक्तियों में भी 2018 में सुधार जारी रहेगा.

यह भी पढ़ें: रिजर्व बैंक ने धोखाधड़ी के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए शुरू की हेल्पलाइन

अक्तूबर-दिसंबर रोजगार देने की नियोक्ताओं की योजना में 24 प्रतिशत का उछाल

इस साल की अंतिम तिमाही में पहली तीन तिमाही की मंदी के बाद रोजगार नियुक्तियों में सुधार आया है. कंपनी के सर्वेक्षण में कहा गया है कि इस साल जनवरी-मार्च तिमाही में नियोक्त्ओं की रोजगार देने की योजना में 22 प्रतिशत गिरावट रही जो कि अप्रैल-जून में और 19 प्रतिशत घट गई. इसके बाद जुलाई- सितंबर तिमाही में रोजगार के अवसर 16 प्रतिशत घटे लेकिन अक्तूबर-दिसंबर तिमाही में रोजगार देने की नियोक्ताओं की योजना में 24 प्रतिशत का उछाल दर्ज किया गया.

60 प्रतिशत कंपनियों ने कर्मचारियों की संख्या को रखा बरकरार

विशेषज्ञों को उम्मीद है कि 2018 में नियुक्तियों में सुधार जारी रहेगा. मोबाइल विनिर्माण, वित्तीय प्रौद्योगिकी और स्टार्ट-अप्स सहित अन्य क्षेत्रों में नियुक्तियां बढ़ेंगी. इसके साथ ही वेतन वृद्धि भी 2017 में जहां 8- 10 प्रतिशत रही वह 2018 में 10- 15 प्रतिशत तक रहेगी. विभिन्न आकलनों के अनुसार, 2017 में महज 20 प्रतिशत कंपनियों ने नयी नियुक्तियां की और 60 प्रतिशत कंपनियों ने कर्मचारियों की संख्या बरकरार रखा.
 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: