Skip to content Skip to navigation

डेन्‍टल काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्‍यक्ष का पर्दाफाश

रांची: न्‍यूज विंग का नया अंक 'डेंंटल काउंसिल आॅॅॅफ इंडिया के अध्‍यक्ष के फर्जीवाड़ेे' पर केंद्रीत है। बुक स्‍टॉल पर पहुंच चुका है। ईपेपर संस्‍करण नीचे पढ़ सकते है:

शिक्षा मंत्री ने कोडरमा डीडीसी को सरेआम अपमानित किया, मामला क्‍या है!

रांची: न्‍यूज विंग का नया अंक बुक स्‍टॉल पर पहुंच चुका है। इस अंक का मुख्‍य आलेख कोडरमा की एक घटना पर फोकस करता है जिसमें शिक्षा मंत्री नीरा यादव ने वहां के डीडीसी को सार्वजनिक तौर पर अपमानित किया। यह अंक ईपेपर में नीचे पढ़ सकते हैं:

अर्थशात्री डॉ ज्‍यां द्रेज कहते हैं सरकार की यह नोटबंदी आम लोगों के हितों पर एक जुआ है..

रांची: न्‍यूज विंग का नया अंक झारखंड में नरेगा कानून की बदहाली पर केंद्रीत है। साथ में जाने माने अर्थशास्‍त्री डॉ ज्‍यां द्रेज का आलेख, नोटबंदी की समीक्षा करता हुुआ। इस अंक को ईपेपर में भी पढ़ सकते हैं, नीचे..

झारखंड के झारक्राफ्ट की तरक्‍की महज आईवाश!

रांंची: न्‍यूज विंग का नया अंक बुकस्‍टॉल पर पहुंच चुका है। इस अंक का मुख्‍य आलेख झारक्राफ्ट की बदहाली बता रहा है। इसे ईपेपर में भी पढ़ सकते हैं, नीचे:

नोटबंदी से परेशान आम आदमी

रांची: न्‍यूज विंग का नया अंक नोटबंदी के फैैसले से परेशान आम आदमी की कहानी पर केंद्रीत है। इस अंक का ईपेपर नीचे पढ़ सकते हैं:

झारखंड में माओवाद: एक्‍सक्‍लुसिव इंटरव्‍यू

रांची: न्‍यूज विंग का नया अंक बुक स्‍टॉल पर पहुंच चुका है। इस अंक की कवर स्‍टोरी झारखंड में माओवाद पर केंद्रीत है। अंक का ईपेपर नीचे पढे़:

झारखंड में भू राजस्‍व पर विवाद

रांची: न्‍यूज विंग का नया अंक बुक स्‍टॉल पर पहुंच चुका है। इस अंक की कवर स्‍टोरी झारखंड में भू राजस्‍व पर हो रहे विवाद और जनता की मुश्किलों को फोकस करती है।
इस अंक का ईपेपर नीचे देखिये:

हजारीबाग के बड़कागांव में भूमि संकट और विपक्ष की भूमिका

रांची: न्‍यूज विंग का नया अंक हजारीबाग में चल रहे भूमि संकट पर केंद्रीत है। प्रशासन और पुलिस के किसानों आम लोगों का टकराव और इस घटनाक्रम में विपक्ष की भूमिका इस आलेख का केंद्र है। यह अंक बुक स्‍टॉल पर पहुंच चुका है। इसका ईपेपर संस्‍करण नीचे पढ़ सकते हैं:

बंसल परिवार आत्‍महतया मामला: सीबीआई एक बार फिर सवालों में

रांची: न्‍यूज विंग के इस नए अंक की कवर स्‍टोरी दिल्‍ली में बंसल परिवार की आत्‍महत्‍या पर केंद्रीत है। सीबीआई के चरित्र पर एक बार फिर सवाल उठ रहा है। यह अंक बुक स्‍टॉल पर पहुंच चुका है। इसका ईपेपर एडिशन नीचे पढ़ सकते हैं:

Pages

Comment Box