Skip to content Skip to navigation

Interview

Interviews of Different Personalities

यह सब राजनीतिकों की ओर से 'डिवाईड एंड रूल' है केवल! - कार्डिनल टोप्‍पो

यह कुछ राजनीतिकों का खेल है.. डिवाईड एंड रूल.. आखिर चुनाव जो सामने है!

‘जांच होनी चाहिए लेकिन मानवीय पहलुओं की अनदेखी न हो’

साक्षात्कार : राज्य अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन डा शाहिद अख्तर से न्‍यूज विंग की खास बातचीत।
आतंकी मानचित्र पर रांची और झारखंड का नाम आना चिंता की बात है। और यह धब्बा जब किसी खास अल्पसंख्यक समुदाय पर लगे तो यह सवाल उठना लाजिमी हैः संस्थाएं, मशीनरी, संगठन क्या कर रहे हैं? इस घटना को लेकर कितना गंभीर हैं ये लोग। न्यूज विंग ने इसी सवाल को लेकर झारखंड राज्य अल्पसंख्यक आयोग के युवा चेयरमैन डा शाहिद अख्तर से लंबी बातचीत की। पेश है उस बातचीत के प्रमुख अंश।

कांग्रेस बताए, जेल में बंद विधायकों से क्‍या डील हुई इस राज्‍यसभा चुनाव में- बाबूलाल मरांडी

|| बाबूलाल मरांडी से किसलय की की बातचीत ||
निर्णय में दूरदर्शिता और व्‍यवहार अडिग, नेता के कद को पहचान देती है। झारखंड के पहले मुख्‍यमंत्री रहे झाविमो सु्प्रीमो बाबूलाल मरांडी भी अडि़यल हैं। अड़ गए और 2003 में, भाजपा छोड़ा तो छोड़ दिया। अपनी पार्टी बनायी। आज झाविमो के पास 11 विधायक और 2 सांसद हैं। कहते हैं, बात वसूल की है। इसे अपनी बेबाकी का आधार मानते हैं। लेकिन याद कीजिए, डोमिसाइल का बवंडर, कितनी मुश्किल से थमा था। आज भी सीएनटी पर अपनी अलग राय से नहीं चूकते। अबतक इनके निशाने पर भाजपा थी। अब कांग्रेस भी है। और इस बार प्रेस-मीडिया भी। बातचीत में दावा करते हैं कि अभी चुनाव हो जाए तो सरकार इनकी होगी। तो चलिए इस दावे की थाह लेते हैं मरांडी जी की इस लंबी बातचीत में:-

शीर्ष पुलिस अफसरों से नाखुश डीएन गौतम छोड़ेंगे झारखंड

झारखंड सरकार के सुरक्षा सलाहकार डा डी एन गौतम ने पद छोड़ने का मन बना लिया है. 29 फरबरी को वह इस्‍तीफा दे देंगे. उन्‍होंने आज एक विभागीय बैठक में इस बाबत घोषणा करते हुए सहकर्मियों से विदा ली. खबर है कि मुख्‍यमंत्री अर्जुन मुंडा के साथ उनकी फाइनल बातचीत अभी बाकी है. लेकिन, इस पत्रकार से बातचीत में डा गौतम इस बार मानने के मूड में नहीं दिखे.

वंचित वर्ग की लड़कियों की बात नहीं करते नारीवादी : मृणाल

नई दिल्ली, 21 फरवरी | शहरों में भारतीय नारीत्व के विचारों में बदलाव आया है। अब महिलाओं के लिए 'पॉवर मॉम' जैसे विशेषण इस्तेमाल किए जाने लगे हैं। अब तक पुरुषों के गढ़ रहे क्षेत्रों में महिलाएं प्रवेश करने लगी हैं, लेकिन आज भी इन शहरी महिलाओं और ग्रामीण महिलाओं के बीच बातचीत के दरवाजे बंद हैं। यह कहना है प्रख्यात पत्रकार और लेखिका मृणाल पांडे का।

भारतीय शिक्षा में लचीलेपन की आवश्यकता : श्रीनिवास

नई दिल्ली, 22 जनवरी | भारतीय मूल के अमेरिकी विशेषज्ञ श्रीनिवास वर्धन का मानना है कि भारतीय शिक्षा प्रणाली में लचीलापन नहीं हो पाने के कारण यहां अच्छे गणितज्ञों की कमी है।

भारत से आध्यात्मिकता को खत्म नहीं किया जा सकता : अमेरिकन गुरु

पुणे, 1 जनवरी | आध्यात्मिकता भारत की जड़ों में इस कदर बसी है और उसे यहां से कभी खत्म नहीं किया जा सकता। यह कहना है क्रिया योग और सनातन धर्म के प्रसार में छह दर्शकों का समय गुजार चुके प्रमुख अमेरिकी योग गुरु स्वामी क्रियानंद का।

हिमाचल में हम लोकायुक्त को सशक्त बनाएंगे : धूमल

शिमला, 30 दिसम्बर | हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने प्रभावी लोकायुक्त व्यवस्था के साथ राज्य को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने का वादा किया है। उन्होंने कहा कि इस संस्था को अधिक प्रभावी बनाने के लिए वह अन्ना हजारे तथा उनके सहयोगियों से सुझावों के लिए उनके सम्पर्क में हैं।

आर्थिक अपराध ही भ्रष्टाचार की जड़ : अभयानंद

पटना, 22 दिसम्बर | बिहार के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) अभयानंद का मानना है कि आर्थिक अपराध ही भ्रष्टाचार की जड़ है। यदि इस पर लगाम लग जाए तो कई चीजें स्वत: ठीक हो जाएंगी।

झारखंड की इंस्टीट्यूशनल मेमोरी तार-तार

|| डीएन गौतम से विशेष बातचीत || झारखंड पुलिस में सबकुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा. सवाल दक्षता पर नहीं, लेकिन महकमा लुंज-पुंज दिखाई देने लगे तो सांगठनिक क्षमता पर उंगली उठेगी. जहां मातहत हवलदार की गुहार लगाती विधवा अफ़सरों के दर पर सालों भटकती रहे, वहां बेचारी जनता की दशा का अंदाजा लगाइए.

हम नंबर वन होंगे, बशर्ते..

|| जी के पिल्लई, (सीएमडी, एचईसी) से किसलय की बातचीत ||
दस साल में, बदहाली, ढुलमुल राजनीति, कुशासन, भ्रष्टाचार, जनµधन की बंदरबांट झारखंड की पहचान बन गयी है. ऐसा पहले नहीं था। इलाका उपेक्षित जरूर था लेकिन यह हाहाकार नहीं था. याद कीजिए, जब इस इलाके की पहचान एचईसी से होती थी. 1958 में स्थापित उन संस्थानों में से एक जिसने जवाहर लाल को युगद्रष्टा की उपाधि दिलायी थी.

10 रूपये में हरिश्चन्द्र नहीं मिलने वाला.!

|| डा मुंडा से किसलय की बातचीत ||
राज्यसभा सांसद डा रामदयाल मुंडा को लोग राजनेता कम, शिक्षाविद् और झारखंड-मर्मज्ञ के रूप में अधिक जानते हैं. 14 साल अमेरिका में प्रोफेसर रह चुके सत्तर वर्षीय डा मुंडा आज भी टिपिकल आदिवासी सी सरलता और बेबाकी के लिये जाने जाते हैं. स्थानीय लोक संस्कृति और संगीत की चर्चा होते ही मुंडा केवल एक भावुक गंवई आदिवासी नजर आते हैं.

Pages

Subscribe to RSS - Interview

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी में आरएवी फैशंस फैशन के नए ट्रेंड के साथ फैशन और लाइफस्टाइल एग्जीविश...

New Delhi: While many wait for the monsoon season to arrive, mucky roads and gloomy weather have...

मुंबई: बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान ने संगीतकार प्रीतम चक्रवर्ती को गिटार भेंट किया और उन्हें आगामी...

मुंबई: राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय महिला पहलवान गीता फोगाट का कहना है कि व...