Skip to content Skip to navigation

Interview

Interviews of Different Personalities

ब्युरोक्रैट्स चला रहे झारखंड सरकार, रघुवर दया के पात्र! - बाबुलाल मरांडी

: झारखंड विकास मोर्चा (प्र) के सुप्रीमो बाबुलाल मरांडी से किसलय की लंबी बातचीत :

सोचा न था, अभिव्यक्ति पर यूं आएगा खतरा : नंदिता दास

पणजी : देश में बढ़ती असहिष्णुता के मुद्दे पर आमिर खान, शाहरुख खान जैसे लोकप्रिय कलाकारों के बयानों पर उठे विवाद के बीच अभिनेत्री नंदिता दास ने भी देश के हालात पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी पर रोक अब 'खतरनाक' मोड़ ले रही है और इसके खिलाफ आवाज उठाना, जोरदार तरीके से उठाना ही

मेरे लिए यह लड़ाई चुनौती है और मंजिल की ओर एक मार्ग भीः बाबुलाल मरांडी

आठ में से छह विधायकों का पार्टी छोड़ भाजपा में चले जाने से झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातंात्रिक) के अध्यक्ष बाबुलाल मरांडी दुःखी हैं..

आदर्श 'प्लुरल सोसायटी' बन सकता है झारखंड : न्युरो सर्जन, डा नारायण

प्रदेश में शमां राजनीति का है। नए पुराने राजनीतिक चेहरों की नुमाईश हो रही है। लेकिन अधिकांश ऐसे ही चेहरे सामने दिखते हैं जिनपर खास किस्म का ठप्पा है। दावों की डुगडुगी बजानेवाले, वादों की फुहारें बरसाने वाले। किसकी कही सुनें और किसकी मानें। आम आदमी भ्रमित है। कोई ऐसा मिले जो पते की बात बताये, राह

डेढ़ दशक में जर्जर झारखंड : बदलेगा झारखंड़?

झारखंड राज्‍य के पूर्व मुख्‍य सचिव डा ए के सिंह ने 'न्‍यूज विंग' को झारखंड की व्‍यथा सुनायी

झारखंड में बिजली विभाग का गड़बड़झाला: साक्षात्कार

झारखंड में बिजली के लिए हाहाकार मचा है। गर्मी और प्यास से बेहाल लोग सड़कों पर उतरते हैं तो पुलिस लाठियां बरसाती है। जनांदोलन के नाम पर विपक्षी जेल चले जाते हैं। और सरकार खामोश! कोई उससे साफ-साफ पूछता क्यों नहीं?

झामुमो, आजसू, राजद जैसी पार्टियां कांग्रेस-भाजपा की पिछलग्गू हैं! : बाबूलाल मरांडी

रांचीः लोकसभा चुनाव सर पर है। जाहिर है हर दल तैयारियों में जुटा है साथ ही साथ जुबानी जंग भी जारी है। झाविमो (झारखंड विकास मोर्चा) भी पीछे नहीं। झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी कहते हैं, कांग्रेस बीजेपी की नीतियां एक ही है। वे झारखंड में मोहरों के जरिये सरकार चलाती हैं और अपनी झोली भरती हैं। मरांडी

आमजन की अभिव्यक्ति है ‘आप’, मगर.. : -दीपांकर भट्टाचार्य

दीपांकर भट्टाचार्य मानते हैं कि आज देश की कुव्यवस्था से लोगों का जो मोहभंग हो रहा है उसकी एक अभिव्यक्ति है ‘आप’। साथ ही, वह जोड़ते हैं ‘..लेकिन, एकमात्र अभिव्यक्ति नहीं।’ दरअसल दीपांकर बताना चाहते हैं कि ‘आप’ आज जो कुछ कर रहा है वह तो मार्क्सवाद का बुनियादी चरित्र रहा ह

Pages

Subscribe to RSS - Interview

मुंबई: मैक्सिम पत्रिका द्वारा किए गए सर्वेक्षण में दीपिका पादुकोण मैक्सिम हॉट 100 में पहले पायदान...

New Delhi: While many wait for the monsoon season to arrive, mucky roads and gloomy weather have...

नई दिल्ली: बॉलीवुड और सरकार के बीच करीबी बढ़ती जा रही है। सरकारी विज्ञापन में फिल्मी हस्तियां नजर...

डर्बी (इंग्लैंड): क्या आप जानते हैं कि महिलाओं के विश्व कप टूर्नामेंट का आयोजन पुरुषों के विश्व क...

loading...