top main slide

झारखंड के 14 में 10 सांसदों की पत्नी है कमाऊ, अगली बार से बताना होगा कैसे कमाए लाखों रुपये

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 02/17/2018 - 19:49

Akshay kumar jha

Ranchi: 16 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसला लिया है. सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि चुनाव लड़ रहे सभी उम्मीदवारों को खुद के अलावा पत्नी और बच्चों की आय के स्रोत को भी उजागर करना होगा. हलफनामें में पत्नी व बच्चों की आय का ब्योरा भी देना होगा. न्यायमूर्ति जे. चेलमेश्वर की अध्यक्षता में पीठ ने फैसले में कहा है कि उम्मीदवारों को चुनाव के लिए नामांकन भरने के दौरान पत्नी और बच्चों की आय सहित खुद की आय के स्रोत का खुलासा करना होगा. अदालत ने गैरसरकारी संस्था 'लोक प्रहरी' की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फैसला सुनाया. 

सरकार नहीं दे रही सीएस के खिलाफ ट्विट मामले में स्पेशल ब्रांच की जांच की कॉपीः सरयू राय

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 02/17/2018 - 19:11

Ranchi: सूबे के खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने एक बार फिर सीएस राजबाला वर्मा को लेकर मोर्चा खोल दिया है. 17 फरवरी को उन्होंने अपने सरकारी आवास रांची में प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने कहा कि आखिर कैसे स्पेशल ब्रांच सीएस से जुड़े मामलों की जांच कर सकता है. अगर जांच हुई भी है तो क्यों सरकार उन्हें जांच की कॉपी उपलब्ध नहीं कर रही है. सरयू राय ने कहा कि उन्होंने जांच से जुड़ी रिपोर्ट की मांग सरकार से की थी. एक हफ्ता होने को है, लेकिन सरकार की तरफ से इस मामले में कोई रिस्पॉन्स नहीं है.    

 

सिंदरी कारखाना शुरू करने के लिए झारखंड सरकार करे 210 करोड़ की स्टांप ड्यूटी माफ, 1250 मीट्रिक पानी हर घंटे चाहिए

Publisher NEWSWING DatePublished Sat, 02/17/2018 - 16:44
Ranchi: 2002 में सिंदरी खाद परियोजना पर जो ग्रहण लगा था, उसके हटने के आसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल के बाद दिखने लगे थे. सिंदरी खाद को फिर से शुरू करने की कवायद केंद्र सरकार की तरफ से की गयी. झारखंड सरकार की इस काम को लेकर काफी तारीफ भी हुई. लेकिन जो हालात हैं, उससे यह नहीं लगता कि सिंदरी के अच्छे दिन इतनी जल्दी वापस आने वाले हैं. सिंदरी खाद कारखाना को फिर से शुरू करने में केंद्र सरकार का पेट्रोलियम मंत्रालय एक अहम भूमिका निभा रहा है. खाद परियोजना को फिर से शुरू करने के लिए मंत्रालय की तरफ से झारखंड सरकार को मदद करने को कहा गया है. जितनी जल्दी पेट्रोलियम मंत्रालय की शर्तों को झारखंड सरकार मानेगी, उतनी ही जल्दी प्लांट लगना संभव हो पायेगा. इसे लेकर मंत्रालय के अधिकारियों ने राज्य स्तर के शीर्ष अधिकारियों के साथ रांची प्रोजेक्ट भवन में एक बैठक की. बैठक के दौरान मंत्रालय ने सरकार के अधिकारियों के सामने सारी समस्याओं को रखा.

मद्रास हाईकोर्ट ने कहा, वकीलों का काम सिर्फ अपनी जेब भरना रह गया

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 02/16/2018 - 18:31

Chennai:  मद्रास हाई कोर्ट ने  शुक्रवार को वकीलों के कामकाज को लेकर गंभीर टिप्पणी की है. कोर्ट ने कहा है कि वकीलों का एक मात्र उद्देश्य अपनी जेबों को भरना रह गया है. कोर्ट ने हाल की स्थिति पर दुख जताते हुए कहा कि वकालत एक महान पेशा है. लेकिन आज यह पेशा सबसे खराब स्थिति में पहुंच गया है. मद्रास हाई कोर्ट के  न्यायमूर्ति एन किरूबाकरण ने वकीलों भाष्कर मदुरम और लेनिन कुमार की एक रिट याचिका पर सुनवाई करते हुए यह मौखिक टिप्पणी की हैं.

गिद्ध संरक्षण योजना पर नहीं हो रही कोई पहल, वन मंत्री के पास चार महीने से लटकी है फाइल  

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 02/16/2018 - 18:02
Ranchi :  अब वह दिन दूर नहीं है, जब गिद्धों के बारे में बच्चों को सिर्फ कहानियों के बारे में सुनने को मिलेगा. क्योंकि पर्यावरण के रक्षक के रूप में पहचानी जाने वाली गिद्ध प्रजाति संरक्षण के अभाव में पूरे देश से समाप्ती की कगार पर है. एक अनुमान के मुताबिक 40 साल पहले जहां देश में लगभग चार करोड़ गिद्ध थे, वो अब चार लाख भी नहीं बचे हैं. देश में गिद्ध की संख्या को देखते हुए पर्यावरण एवं वन मंत्रालय कई योजनाओं पर काम कर रही है. इसके तहत झारखंड में भी गिद्ध संरक्षण की योजना पर वन विभाग की ओर से काम किया जा रहा है. इसके तहत राज्य का पहला गिद्ध प्रजनन केंद्र रांची से 30 किमी की दूरी पर मुटा में बनाया गया है. लेकिन इस दिशा में की गई विभागीय पहल आज भी पूरा नहीं हो सकी है. इस वजह से गिद्ध प्रजनन केन्द्र शुरू नहीं किया जा सका है. गिद्धों की मौत की मुख्य वजह पशुओं को दी जाने वाली दर्द निवारक दवा डाइक्लोफेनेक है. पशुओं के उपचार में डाइक्लोफेनेक दवा के इस्तेमाल पर सरकार की ओर से प्रतिबंध लगा हुआ है. लेकिन विडंबना यह है कि देश में आज भी पालतू पशुओं के उपचार के लिये प्रतिबंधित दवाओं का ही इस्तेमाल धड़ल्ले से किया जा रहा है. जिससे पालतू पशुओं के शव के सेवन से गिद्धों के शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने लगती है. जिससे इस तरह के मांस के सेवन से गिद्धों के किडनी पर असर पड़ता है. वहीं इस मामले के जानकारों के अनुसार डाइक्लोफेनेक की वजह से ही देशभर से 99 फीसदी गिद्ध विलुप्त हो चुके हैं.

मानवता हुई शर्मसार : डायन के आरोप में दो महिलाओं का सिर मुंडाकर पूरे गांव में घुमाया, मल-मूत्र भी पिलाया

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 02/16/2018 - 15:17

Ranchi/Sonahatu : देश डिजिटल इंडिया बन रहा है. सरकार झारखंड के सभी क्षेत्र को डिजिटल बनाने में करोड़ों रुपये खर्च कर रही है. मगर राज्य में अंधविश्वास कम होने का नाम ही नहीं ले रहा है. आये दिन हमेशा राज्य के कई हिस्सों से डायन-बिसाही का आरोप लगाकर महिलाओं को प्रताड़ित करने की खबर आती रही है. झारखंड में डायन-बिसाही एक अभिशाप के रूप समाज को बांटने में लगे है. झारखंड सरकार के समाज कल्याण विभाग ने पिछले वित्तीय वर्ष में डायन बिसाही और महिला हिंसा के खिलाफ जागरुकता कार्यक्रम के लिए करीब चार करोड़ रुपये खर्च कर दिये.

बैंगलुरु के बिजनेसमैन हरि प्रसाद एसवी का दावाः 2016 में ही पीएमओ को दी थी नीरव मोदी की गड़बड़ियों की जानकारी

Publisher NEWSWING DatePublished Fri, 02/16/2018 - 10:31

Ranchi: पंजाब नेशनल बैंक में हुए 11,300 करोड़ के महा घोटाला को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय पर भी सवाल उठने लगे हैं. बैंगलुरु के एक बिजनेस मैन हरि प्रसाद एसवी ने दावा किया है कि डायमंड मर्चेंट नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चौकसी द्वारा की जा रही गड़बड़ियों की जानकारी वर्ष 2016 में ही उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय को दी थी. लेकिन प्रधानमंत्री ने उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की. टाइम्स अॉफ इंडिया की खबर के मुताबिक हरि प्रसाद एसवी ने दावा किया है कि अगर पीएमओ ने उनकी शिकायत पर कार्रवाई की होती, तो यह महाघोटाला पहले ही सामने आ जाता और शायद घोटाले की राशि इतनी ज्यादा नहीं होती. 

मोमेंटम झारखंड के एक सालः इसे बरसी कहेंगे या सालगिरह ! सरकारी दावाः हुआ करोड़ों निवेश, राजनीतिक पार्टियां और बिजनसमैन: हाथी उड़ने की बजाय जमीन पर गिरा

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 02/15/2018 - 20:40
Ranchi : एक साल पहले की बात है. आज के दिन रांची दुल्हन की तरह सजी थी. लाखों करोड़ों निवेश लाने के दावे के साथ रंग-बिरंगे पोस्टरों और बैनरों से रांची पटा हुआ था. हर दिवार ऐसी सजी थी जैसे रांची को मेंहदी रची हो. 16 फरवरी 2017 को इस सरकार का ही नहीं बल्कि झारखंड बनने से लेकर अबतक का सबसे बड़ा मेगा शो शुरू हुआ था, नाम था मोमेंटम झारखंड, ग्लोबल इंवेस्टर समिट. मोमेंटम झारखंड के आयोजन के बाद सरकार की तरफ से कहा गया कि राज्य को इस समिट से उम्मीद से दोगुना मिला है. कुल 210 एमओयू हुए. 3,10,277 करोड़ के निवेश का करार कंपनियों ने किया. 11,000 से ज्यादा रजिस्टर्ड डेलिगेट्स आए. जिसमें 600 डेलिगेट्स विदेशी थे.

कांग्रेस व केजरीवाल का आरोप, पीएनबी का 11,300 करोड़ लूटने वाला नीरव मोदी दावोस में पीएम नरेंद्र मोदी के साथ था

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 02/15/2018 - 16:29
New Delhi: पंजाब नेशनल बैंक को लूटने वाला, 11,300 हजार करोड़ रुपये का महाघोटाला करनेवाला नीरव मोदी को लेकर तमाम तरह की बातें सामने आ रही हैं. उसके संबंधों को लेकर भी कई बातें सामने आयी हैं. इस बीच कांग्रेस और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नीरव मोदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर गंभीर आरोप लगाये हैं. राहुल गांधी ने अपने एक ट्वीट में आरोप लगाया है कि पीएनबी घोटाले का मुख्य आरोपी नीरव मोदी पिछले दिनों दावोस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ देखे गये थे. 

IFAC सर्वे का खुलासा, 64% कारोबारियों ने कहा- GST से उनका कारोबार गड़बड़ाया

Publisher NEWSWING DatePublished Thu, 02/15/2018 - 13:26
देश में जीएसटी लागू होने को लेकर एक सर्वेक्षण किया गया. इस सर्वे में 64 प्रतिशत भारतीयों ने कहा है कि जीएसटी के कारण उनके कारोबार में परेशानी आई है. यह सर्वेक्षण आईएफएसी की ओर से ऑनलाइन किया गया. इसमें 1,200 लोगों से पूछताछ की गयी. इंटरनेशनल फैडरेशन ऑफ एकाउंटेंट्स (आईएफएसी) के लिये हैरिस पोल द्वारा 30 अक्तूबर से 2 नवंबर 2017 के बीच किये गये इस सर्वेक्षण में, जीएसटी लागू होने के बाद लेखा पेशेवरों के समक्ष आने वाले कुछ अहम मुद्दों पर बातचीत की गयी.
loading...
Loading...

NEWSWING VIDEO PLAYLIST (YOUTUBE VIDEO CHANNEL)