Skip to content Skip to navigation

Lifestyle

Articles on Lifestyle, Societies

मप्र में 80 फीसदी किशोरियां एनीमिया की शिकार

भोपाल, 22 जनवरी | मध्य प्रदेश में 80 फीसदी किशोरियां एनीमिया (खून की कमी) की शिकार हैं। राज्य के अपर मुख्य सचिव ओ.पी. रावत ने यह स्वीकार किया है। ऐसे में सुरक्षित मातृत्व व स्वस्थ बचपन की कल्पना नहीं की जा सकती। इतना ही नहीं, प्रदेश सरकार और प्रशासन को बच्चों के कुपोषण से मुक्ति का कोई रास्ता भी नहीं सूझ रहा है।

Now, cure migraine with a botox jab

New Delhi, Jan 19 | Severe headaches for days, nausea and vomiting - migraine patients go through hell. In fact it has been ranked as the 19th most disabling disease by WHO. But anti-ageing drug botox can bring some relief to chronic patients, say experts, though there is not much awareness about this cure yet.

कबूतरा समाज की नई पीढ़ी लिख रही बदलाव की इबारत

झांसी, 16 जनवरी | बुंदेलखंड में कबूतरा और कंजर समाज की पहचान जरायम पेशा अर्थात अपराध करने वाले समाज के रूप में है, लेकिन इस समाज की नई पीढ़ी इस बदनुमा दाग से मुक्त होना चाहती है और इसके लिए उसने कदम भी बढ़ा दिए हैं। यही कारण है कि कच्ची शराब का केन थामने वाले हाथों में इन दिनों किताबें नजर आने लगी हैं और उनकी जुबान से अंग्रेजी की वर्णमाला सुनाई देने लगी है।

नोकझोंक से खुशहाल रहता है वैवाहिक जीव

नई दिल्ली, 11 जनवरी | भारत के 44 फीसदी दम्पत्तियों का मानना है कि हफ्ते में एक से अधिक बार की नोकझोंक वैवाहिक जीवन को लम्बा और खुशहाल बनाती है। यह बात एक सर्वेक्षण में सामने आई है।

5 साल बाद ठगा महसूस कर रही नंदीग्राम की जनता

नंदीग्राम, 3 जनवरी | पश्चिम बंगाल का नंदीग्राम पांच साल पहले भूमि अधिग्रहण के खिलाफ आंदोलन के बाद राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में आया था, जो राज्य में 34 साल पुराने वामपंथियों के शासन के अंत की शुरुआत के रूप में भी देखा गया। लेकिन पांच साल बाद क्षेत्र की जनता आज खुद को ठगा महसूस कर रही है।

पेट भरा हो तो ही मनाया जाता है नया साल

भोपाल, 1 जनवरी | पूरी दुनिया नए साल के स्वागत के जश्न में डूबी है, खुशियां मनाई जा रही हैं, एक-दूसरे को शुभकामनाएं देने का सिलसिला जारी है। लेकिन समाज में एक ऐसा वर्ग है, जो इन सबसे बेखबर है, क्योंकि उन्हें पेट भरने की चिंता होती है। भूखे पेट किसी को खुशियों में शरीक होना नहीं सुहाता।

खास होता है कोलकाता का क्रिसमस

- शशि गोयला - 
कोलकाता, 24 दिसम्बर (आईएएनएस)| दिसम्बर की 25 तारीख को क्रिसमस का उत्सव सम्पूर्ण विश्व में मनाया जाता है। कोलकाता भी इसका अपवाद नहीं। पर कुछ अपने महानगरीय प्रभाव के कारण, कुछ अपनी उदार सभ्यता के कारण और कुछ अंग्रेजी राज के प्रभाव के चलते कोलकाता का क्रिसमस अन्य जगहों से भिन्न है।

Pages

Subscribe to RSS - Lifestyle

मुंबई: मैक्सिम पत्रिका द्वारा किए गए सर्वेक्षण में दीपिका पादुकोण मैक्सिम हॉट 100 में पहले पायदान...

New Delhi: While many wait for the monsoon season to arrive, mucky roads and gloomy weather have...

नई दिल्ली: बॉलीवुड और सरकार के बीच करीबी बढ़ती जा रही है। सरकारी विज्ञापन में फिल्मी हस्तियां नजर...

डर्बी (इंग्लैंड): क्या आप जानते हैं कि महिलाओं के विश्व कप टूर्नामेंट का आयोजन पुरुषों के विश्व क...

loading...