JharkhandJharkhand Vidhansabha ElectionMain SliderRanchi

सरयू राय ने जमशेदपुर प. के साथ-साथ रघुवर के विधानसभा क्षेत्र जमशेदपुर पू. का भी नामांकन पत्र खरीदा, बढ़ेगी CM की मुश्किलें

Pravin Kumar

Jharkhand Rai

Ranchi: खबर है कि भाजपा के कद्दावर नेता व राज्य सरकार के मंत्री सरयू राय ने जमशेदपुर पश्चिमी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिये नामांकन पत्र खरीदा है. इसके साथ ही उन्होंने जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए भी नामांकन पत्र खरीदा है. इसकी पुष्टि जमशेदपुर समाहरणायल के एक अधिकारी ने की है.

जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा क्षेत्र राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास का क्षेत्र है. पार्टी ने उन्हें वहीं से टिकट भी दिया है. जबकि सरयू राय का टिकट अभी तक होल्ड पर रखा है.

इसे भी पढ़ें- #JharkhandElection : बाबूलाल ने कहा- इस बार राज्य भर में भाजपा से असली लड़ाई लड़ेगा झाविमो

Samford

रघुवर को परेशानी में डाल सकता है सरयू का जमशेदपुर पूर्वी से चुनाव लड़ना 

अगर सरयू राय जमशेदपुर पूर्वी से चुनाव लड़ते हैं, तो वहां रघुवर दास के लिए परेशान करने वाली परिस्थितियां पैदा होंगी. इसकी कई बड़ी वजहें हैं. पर सबसे बड़ी वजह यह होगी कि जहां सरयू राय लंबे समय से भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ते रहे हैं.

वहीं रघुवर दास हाल के वर्षों में भ्रष्टाचार के आरोपियों को संरक्षण देने और भ्रष्टाचार, यौन शोषण जैसे आरोपों से घिरे नेताओं (ढ़ुल्लू महतो, भानू प्रताप शाही, शशिभूषण मेहता) के पैरोकार के रूप में सामने आये हैं.

इसे भी पढ़ें- #Jamshedpur: जमशेदपुर में एसीबी ने सिंचाई विभाग के मुख्य अभियंता के घर की छापेमारी, 2.44 करोड़ रुपये बरामद, जमीन और फ्लैट के दस्तावेज भी मिले

इन मुद्दों को उठाने की कोशिश करेंगे सरयू

सरयू राय चुनाव के दौरान भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाने की कोशिश करेंगे. और अगर वह इसमें सफल हुए तो रघुवर दास को नुकसान उठाना पड़ेगा. सरयू राय मैनहर्ट का मुद्दा भी उठाने की कोशिश करेंगे, तब पूरे झारखंड में भाजपा के सीएम फेस को लेकर दिक्कतें होंगी.

भाजपा को एक दूसरा नुकसान यह होगा कि रघुवर दास अपने क्षेत्र में ही फंस कर रह जायेंगे. क्योंकि जैसी चर्चा है, इस परिस्थिति में विपक्ष अपने उम्मीदवार वापस भी ले सकता है.

सरयू राय का बयान मीडिया में आया है उन्हें पार्टी पर विश्वास है. इसलिए उन्होंने जमशेदपुर पश्चिमी से चुनाव लड़ने के लिए नामांकन पत्र खरीदा है. दूसरी परिस्थिति में अगर पार्टी उन्हें टिकट नहीं देती है, तो वह अपने विवेक से फैसला लेंगे. उनके करीबी बताते हैं कि अपने विवेक के तहत ही उन्होंने जमशेदपुर पूर्वी से टिकट लिया है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: