DhanbadJharkhand

तीन करोड़ में खरीदी गयी थीं रोड स्वीपिंग मशीनें, उद्घाटन के बाद भी फांक रही धूल

Anil pandey
Dhanbad : स्वच्छ भारत मिशन के तहत धनबाद नगर निगम ने तीन करोड़ की लागत से धनबाद की सड़क को साफ-सुथरा रखने के लिए तीन बड़ी और दो छोटी रोड स्वीपिंग मशीन खरीदी थी. जिसका उद्घाटन 17 अगस्त को पूरे तामझाम से किया गया.

इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में भू-राजस्व एवं खेल मंत्री अमर बाउरी उपस्थित थे. इसके साथ ही सांसद पीएन सिंह, मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल और डीसी, नगर आयुक्त ने संयुक्त रूप से उद्घाटन किया था.

उद्घाटन के बाद लोगों को उम्मीद जगी थी अब धनबाद की सड़कों पर धूल के दर्शन नहीं होंगे. लेकिन उद्घाटन के बाद इन मशीनों को रोड पर आज तक उतारा ही नहीं जा सका. और अब आलय यह है कि जो मशीनें धूस साफ करने के लिए लायी गयी थीं वो अब खुद ही धूल फांक रही हैं.

इसे भी पढ़ें- #Kolhan में मची है भागम-भाग, कुणाल ही नहीं, कई नेता बदल रहे पार्टी, मझधार में बन्ना गुप्ता

मशीनों का नहीं हो रहा इस्तेमाल

कोलियरी क्षेत्र के लोग धूल से अधिक परेशान रहते हैं. उन लोगों को इन मशीनों से काफी उम्मीद थी. उन्होंने सोचा था कि इन मशीनों के जरिये सड़क की धूल साफ हो जायेगी और वे लोग साफ-सुथरी सड़क पर यात्रा कर सकेंगे. लेकिन उद्घाटन होने के बाद इन मशीनों को आज तक रोड पर उतारा ही नहीं गया.

फलस्वरूप नगर निगम द्वारा करोड़ों रुपये खर्च करने के बाद भी लोग धूल भरी सड़कों पर यात्रा करने को मजबूर हैं. लोगों का कहना है कि इन धूल भरी सड़कों पर यात्रा करने से लोगों को बीमार पड़ने की आशंका रहती है.

नगर निगम ने इस समस्या को दूर करने के लिए इन मशीनों की खरीदारी तो की लेकिन इसका उपयोग अभी तक नहीं किया गया है. स्थानीय लोगों का कहना है कि नगर निगम इन मशीनों का उपयोग सड़कों को साफ-सुथरा रखने में करे. अन्यथा ये मशीनें रखी-रखी खराब हो जायेंगी.

इसे भी पढ़ें- #ODF पलामू का सच : यहां रेलवे ट्रैक ही है ‘सामुदायिक शौचालय’, ट्रेन से कटकर चली गयी थी तीन की जान 

तीन करोड़ की लागत से खरीदी गयी थी पांच छोटी-बड़ी मशीनें

नगर निगम में तीन करोड़ रुपये की लागत से पांच छोटी-बड़ी रोड स्वीपिंग मशीनों की खरीदारी की थी. इनमें से तीन रोड स्वीपिंग मशीनें बड़ी हैं और दो छोटी मशीनें हैं.

बड़ी मशीनों को चौड़ी सड़कों की सफाई करने में लगाया जाना था जबकि दो छोटी मशीनों को कम चौड़ी सड़कों की सफाई करने में लगाया जाना था. लेकिन इनमें से किसी भी मशीन का उपयोग अब तक नहीं किया गया है.

लगभग दो माह पहले इन मशीनों की खरीदारी की गयी थी. इन मशीनों का इस्तेमाल नहीं करने के संबंध में लोग तरह-तरह की बातें कर रहे हैं. कुछ लोगों का मानना है कि इन मशीनों के चलने से सड़कें खराब होगी तो कुछ लोग कहते हैं कि इन मशीनों के उपयोग से सफाई मजदूर बेरोजगार हो जायेंगे. जिस कारण इन मशीनों को अब तक सड़क पर नहीं उतारा जा सका है.

इसे भी पढ़ें- क्या #PMC की राह पर है दिल्ली नागरिक सहकारी बैंक, SBI से भी ज्यादा 38 फीसदी हुआ NPA

दीपावली तक सड़क पर उतार दी जायेंगी मशीनें

इस मामले में उप नगर आयुक्त राजेश कुमार सिंह का कहना है कि बारिश के कारण रोड स्वीपिंग मशीनों को सड़क पर नहीं उतारा गया. दूसरा कारण यह है कि कॉन्ट्रैक्ट से कुछ कागजी प्रक्रिया पूरी नहीं की गयी थी, जिसे पूरी की जा रही है. उन्होंने कहा कि दीपावली तक रोड स्वीपिंग मशीन को सड़क की सफाई के लिए उतार दिया जायेगा.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: